ब्रेकफास्ट शॉप बिजनेस कैसे शुरू करें | Breakfast Corner Business Ideas in Hindi

रात भर से खाली पेट में नाश्ता “जादू” जैसा काम करता है। सुबह का नाश्ता यानि ब्रेकफ़ास्ट अच्छे और चुस्त शरीर के लिए लेना चाहिए ये सबको पता होता है। ये हमारे शरीर, दिल और दिमाग को दिनभर की भागदौड़ के लिए तैयार करता है, इसलिए ही कहा जाता है कि “नाश्ता करो जैसे कोई राजा, दोपहर का भोजन करो जैसे कोई राजकुमार और रात का खाना करो जैसे कोई चाकर”।

आज कामकाजी होने या फिर समय की कमी होने के कारण लोग नाश्ते को नज़रअंदाज़ कर देते है, जिसके कारण मानसिक और शारीरिक सेहत पर गहरा असर हो सकता है। लेकिन कुछ सालों से लोगों में सेहत को लेकर जागरूकता भी दिखी है, वे अपनी सेहत को लेकर सचेत हो गए है और यही से उद्गम होता है ब्रेकफास्ट शॉप के बिजनेस का।

जी हाँ! ब्रेकफास्ट शॉप का बिजनेस शुरू कर आप लोगों को शुद्ध, स्वादिष्ट और स्वास्थ्यवर्धक नाश्ता दे अच्छा मुनाफा कमा सकते है। तो आइये इस लेख के द्वारा जानते है ब्रेकफास्ट शॉप के बिजनेस को शुरू करने की कुछ ख़ास बातें:

क्या है ब्रेकफास्ट शॉप का बिजनेस :

ब्रेकफास्ट शॉप का बिजनेस शुरू कर आप लोगों को उनकी पसंद का सेहतमंद नाश्ता उपलब्ध करा सकते है। लोगों के स्वाद और पसंद के हिसाब से आप विभिन्न प्रकार के पकवान बना कर दे सकते है।

कैसे शुरू करें ब्रेकफास्ट शॉप का बिजनेस :

किसी भी बिजनेस को शुरू करने से पहले कुछ आवश्यक बातों को जान लेना जरूरी होता है, जैसे की क्या उस बिजनेस में आपकी रुचि है?, क्या आपके पास बिजनेस करने के लिए पर्याप्त समय है? क्या आप बिजनेस करने की कानूनी व्यवस्था को समझते है?

इसके साथ ही आपको अपने बिजनेस के लिए सही योजना और मैनेजमेंट रणनीति को भी तैयार करना होगा, जिससे आप लम्बे समय में बिजनेस को प्रगतिशील बना सके। आपको बिजनेस शुरू करने से पहले जगह और क्षेत्र का भी बुद्धिपूर्वक चयन करना होगा, आप इस बिजनेस को दूकान या फिर स्टॉल के रूप में भी शुरू कर सकते है।

ब्रेकफास्ट शॉप बिजनेस का दायरा :

खाने से जुड़े होने के कारण इस बिजनेस की मांग लम्बे समय तक बनी रह सकती है बशर्ते आपके खाने की गुणवत्ता, कीमत और स्वाद सही हो। इस व्यवसाय का दायरा काफी बड़ा हो सकता है, आप आगे चल इसे एक श्रृंखला के रूप में भी खोल सकते है जिसकी शहर या गांव में कई शाखाएं हो। साथ ही साथ आप इसे एक अच्छे रेस्टोरेंट का रूप भी दे सकते है।

ब्रेकफास्ट शॉप का मेन्यू :

ब्रेकफास्ट शॉप के बिजनेस में खाने के स्वाद के साथ-साथ खाने के मेन्यू का भी बहुत महत्व होता है। यही वो चीज होती है जो एक ग्राहक सबसे पहले देखता है और उसके अनुसार ही अपना आर्डर देता है, इसलिए जहाँ तक तो इसे छोटा रखे लेकिन अपनी सिग्नेचर डिशेस (स्वाद में बेमिसाल) को इसमें जगह जरूर दे।

अपने मेन्यू का निर्धारण क्षेत्र और स्थानीय लोगों की पसंद के हिसाब से भी करे जैसे अगर आप अपना बिजनेस उत्तरी भारत में शुरू करना चाहते है तो आप वहां कुलचा, दहीभल्ला, आलू पराठा, लस्सी, पोहा, जलेबी आदि व्यंजन अपने मेन्यू में शामिल कर सकते है। लेकिन अगर आप अपने बिजनेस को दक्षिण भारत में शुरू करना चाहते है तो आप मेन्यू में इडली, वडा, डोसा, सांबर, रसम, उपमा, खाराभात आदि शामिल कर सकते है।

बिजनेस शुरू करने की जगह :

अब बात आती है की ब्रेकफास्ट शॉप बिजनेस को किस जगह शुरू किया जाएं, जिससे अच्छा मुनाफा अर्जित हो, तो इसके लिए आपको रिसर्च करना होगी। किसी भी बिजनेस को अच्छी आबादी वाली जगह, जैसे रहवासी क्षेत्र, स्कूल-कॉलेज, होस्टल के पास, अस्पताल या फिर मॉल वाले क्षेत्र में शुरू करना अच्छा होता है, लेकिन इस व्यवसाय में ये ध्यान रखने योग्य है कि ब्रेकफ़ास्ट कार्नर को आप अगर सिर्फ सुबह के समय ही चलाते है तो इसे मॉल क्षेत्र में खोलने से लाभ कम हो सकता है।

ब्रेकफास्ट शॉप बिजनेस के लिए लाइसेंस :

ब्रेकफास्ट शॉप बिजनेस खाने का बिजनेस है, इसलिए इसे शुरू करने से पहले एफएसएसएआई यानि फ़ूड सेफ्टी एंड स्टैंडर्ड्स अथॉरिटी ऑफ़ इंडिया का लाइसेंस लेना अति आवश्यक है जिसे आप www.fssai.gov.in वेबसाइट जा कर प्राप्त कर सकते है।

इसके साथ ही जीएसटी के लिए एनरोल होना होगा और जीएसटी नंबर प्राप्त करना होगा, जिसमें आपको एक सीए की मदद लगेगी।

हेल्थ और सेफ्टी सर्टिफिकेट के लिए आपको आपके शहर की नगर निगम में संपर्क करना होगा और वहां निर्धारित राशि जमा कर सर्टिफिकेट प्राप्त करना होगा।

अगर आप अपनी दुकान लेकर (किराये या खुद की) बिजनेस शुरू करना चाहते है तो आपको शॉप एक्ट के तहत भी सर्टिफिकेट प्राप्त करना होगा।

ब्रेकफास्ट शॉप बिजनेस की मार्केटिंग :

आज के प्रतिस्पर्धा के जमाने में मार्केटिंग बहुत ही जरूरी मुद्दा बन कर उभरी है। आज चाहे आपका उत्पाद कितना ही बढ़िया हो, बिजनेस बड़ा हो या छोटा सभी को मार्केटिंग करने की जरूरत पड़ती ही है, जिससे ज्यादा से ज्यादा लोगों तक अपनी पहुँच बनाई जा सके। इसके लिए आप निम्न तरीकों को अपना सकते है:

सोशल मीडिया :

सोशल मीडिया ने आज हर जगह धूम मचाई हुई है, हर कोई आज सोशल मीडिया का उपयोग करता ही है। इसलिए आप इसका उपयोग अपने बिजनेस की मार्केटिंग के लिए भी कर सकते है। इसके लिए आपको अपना सोशल मीडिया लॉगिन आईडी बनाना होगा और उससे आपको अपने बिजनेस का प्रचार करना होगा। आप इसके लिए कई सोशल मीडिया ग्रुप्स को भी ज्वाइन कर सकते है और अपने उत्पाद की जानकारी लोगों तक पहुंचा सकते है।

ऑनलाइन सेलिंग पोर्टल :

आप अपने बिजनेस को बढ़ाने के लिए सेलिंग पोर्टल्स का भी उपयोग कर सकते है। आज ऐसे कितने ही पोर्टल है जहाँ से आप अपने खाने के बिजनेस की जानकारी ग्राहक को पहुंचा सकते है जैसे जोमाटो, स्विग्गी, उबेर ईट्स आदि।

फ़ूड ब्लॉगर कोलब्रेशन :

आज फ़ूड ब्लॉगर लोगों के लिए इन्फ्लुएंसर (प्रभावित करने वाले) का काम करते है इसलिए आप स्थानीय फ़ूड ब्लॉगर से सहयोग भी ले सकते है। वे अपने फ़ूड ब्लॉग में आपके बिज़नेस को प्रमोट कर आपके बिजनेस की मार्केटिंग और पब्लिसिटी करने में आपकी मदद कर सकते है।

लुभावने पंपलेट :

ये मार्केटिंग के पुराने तरीकों में से एक है, इसके लिए आपको आकर्षक पंपलेट बनवाना होगा और उसकी प्रिंट निकलवा कर स्थानीय क्षेत्र में बँटवाना होगा, जिससे लोगों को आपके बिजनेस के होने की जानकारी प्राप्त हो सके। साथ ही आप बैनर बनवा कर भी अपने बिजनेस की मार्केटिंग कर सकते है।

अखबार, टीवी और रेडियो :

अगर आपके पास मार्केटिंग का अच्छा खासा बजट है, तो आप अपने बिज़नेस की मार्केटिंग अखबार में इश्तिहार देकर, स्थानीय टीवी और रेडियो चैनल पर ऐड देकर भी कर सकते है। इससे ज्यादा से ज्यादा स्थानीय लोगों को आपके बिजनेस के बारे में जानकारी हो सकेगी।

ब्रेकफास्ट शॉप बिजनेस की लागत:

आमतौर पर एक साधारण ब्रेकफास्ट कॉर्नर खोलने के लिए ज्यादा निवेश की जरूरत नहीं होती है आप इसे आसानी से 25 से 30 हज़ार भारतीय रुपयों के साथ शुरू कर सकते है। लेकिन फिर भी अगर आप एक दुकान लेकर और उसमें अच्छी बैठने की व्यवस्था के साथ ब्रेकफास्ट शुरू करना चाहते है तो इसकी लागत बढ़ सकती है।

निवेश की पूँजी आपकी पूरी प्लानिंग और मार्केटिंग योजना पर भी निर्भर करेगी, इसलिए इन पर भी गौर करना आवश्यक होगा। कुल मिला कर अगर सभी खर्चो को जोड़ कर एक औसतन लागत की संख्या निकाले तो ये करीब 50 से 60 हज़ार तक हो सकती है।

आप अपने बिजनेस को सेटल्ड ब्रांड की फ्रैंचाइज़ी लेकर भी शुरू कर सकते है, उस समय निवेश आपके और फ्रेंचाइजी देने वाले की आपसी सहमति पर निर्भर करेगा। इस पर मुनाफा भी दोनों की सहमति से ही निर्धारित होगा।

ब्रेकफास्ट शॉप बिजनेस से मुनाफा:

खाने के बिजनेस में अमूमन नुकसान होने की सम्भावना कम ही होती है और आप ब्रेकफास्ट कॉर्नर के बिजनेस से अच्छा कमा सकते है। लेकिन किसी भी बिजनेस का चलना और मुनाफा होना कई बातों पर निर्भर करता है, जिनमें से निम्न कुछ बातें है जो आप ध्यान में रख सकते है:

आपको मार्केट रिसर्च कर ऐसे होलसेलर और रिटेलर की एक लिस्ट बनाना होगी जो आपको थोक में अच्छा माल दे सके और आपको कम दाम में ही गुणवत्ता वाला कच्चा माल जैसे सब्जी, मसाले, डिस्पोजल आइटम आदि मिल जाएं।

खाने के स्वाद के साथ-साथ खाने का अच्छा दिखना भी जरूरी होता है, इसलिए ये ध्यान रखे की आपका हर एक व्यंजन आकर्षक और खाने योग्य लगे।

आपको ये भी तय करना होगा की आपको आपके व्यंजन का मूल्य क्या रखना है, अगर आप अपने खाने की आइटम का मूल्य कम रखते है तो ज्यादा बिक्री कर आप मुनाफ़े को कमा सकते है और वही अगर आप मूल्य ज्यादा रखते है तो हो सकता है आपकी बिक्री कम हो लेकिन भाव के ज्यादा होने के कारण आप मुनाफा कमा सकते है।

अगर आपके बिजनेस में अन्य कामगार भी जुड़े हुए है तो उनकी सैलरी और अन्य खर्चो पर भी आपको पैनी नज़र रखना होगी।

थोड़े-थोड़े समय के अंतराल में अपने बिजनेस की आर्थिक स्थिति का आंकलन अकाउंटेंट और फाइनेंसियल एडवाइजर से करवा लेने से आपको अपने बिजनेस की स्थिति का पता चलता रहेगा और आगे की रणनीति बनाने में भी सहायता होगी।

नोट: आप इसे ब्रेकफास्ट बिजनेस के साथ-साथ शाम के स्नैक्स बिज़नेस के जैसे भी शुरू कर सकते है। इसके लिए बस आपको अपने मेन्यू में थोड़ा फेरबदल करना होगा, और समय के अनुसार व्यंजन को बनाना होगा।

ये थी ब्रेकफास्ट कॉर्नर बिजनेस को शुरू करने से सम्बंधित जानकारी। आशा है आपको ये लेख ज्ञानवर्धक लगा होगा और फ़ूड बिजनेस को शुरू करने सम्बंधित सवालों को काफी हद तक दूर किया होगा।

यह भी पढ़े :

फास्ट फूड रेस्टोरेंट बिज़नेस कैसे शुरू करें जानकारी के लिए यहाँ से पढ़े

2 Comments

Add a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: