प्ले स्कूल (नर्सरी स्कूल) बिजनेस कैसे शूरु करे Kids Play School Business Ideas in Hindi

जानिए कैसे खोले प्ले स्कूल (नर्सरी स्कूल) और अच्छी खासी कमाई कर सकते है और कैसे यह बिज़नेस शुरू होगा पूरी जानकारी – प्ले स्कूल को किड्स स्कूल (Kids school), प्री स्कूल (Pre school), नर्सरी स्कूल (Nursery school) कहकर भी पुकारा जाता है। आजकल बहुत से लोग प्ले स्कूल खोलकर अच्छा मुनाफा कमा रहे हैं। इसकी मांग बहुत अधिक है। जहां पर भी आबादी हो वहां पर आसानी से छोटे बच्चों के लिए प्ले स्कूल खोला जा सकता है। सभी मां बाप चाहते हैं कि उनके बच्चों की परवरिश अच्छी हो। छोटे से ही उनको पढ़ना सिखाया जाये। इसलिए वह अपने बच्चों का नाम प्ले स्कूल में जरूर लिखाते हैं। इस लेख में हम आपको प्ले स्कूल खोलने की पूरी जानकारी देंगे।

प्ले स्कूल बिजनेस क्या है

प्ले स्कूल में 3 से 5 साल के बच्चे पढ़ने के लिए आते हैं। इसमें प्री-नर्सरी, नर्सरी, केजी-वन और केजी-2 तक के बच्चों को पढ़ाया जाता है। बच्चे छोटे होते हैं इसलिए उनको संभालना एक विशेष चुनौती होती है। बच्चों को जैसा सिखाया जाता है वे वैसे ही सीखते चले जाते हैं। प्ले स्कूल (नर्सरी स्कूल) का उद्देश्य बच्चों को एक अच्छा वातावरण देना होता है। जिससे उनके अंदर बाल्यावस्था की सभी योग्यताओं का भरपूर विकास हो सके।

इसके साथ ही उन्हें विभिन्न प्रकार के खेल भी खिलाए जाते हैं। उन्हें खेल खेल में शिक्षा दी जाती है। छोटे बच्चों को बचपन में जो भी बातें सिखाई जाती हैं वे वैसा ही सीखते चले जाते है। इस तरह उनके व्यक्तित्व का विकास होता है। प्ले स्कूल में छोटे बच्चों को अच्छी बातें सिखाई जाती हैं। बड़ो से कैसे बात करते हैं, किस तरह अपनी बात को कहना है यह सभी बातें सिखाई जाती है।

प्ले स्कूल की संभावनाएं

भारत में प्ले स्कूल की बहुत संभावनाएं हैं क्योंकि यहां पर आबादी बहुत अधिक है। हमारे देश में शिक्षा का क्षेत्र दिन प्रतिदिन विकसित हो रहा है। रोज नए-नए स्कूल खुल रहे हैं। नई नई तकनीक स्कूलों में प्रयोग की जा रही है।

ऐसे में यदि आप प्ले स्कूल खोलना चाहते हैं तो यह बहुत अच्छा बिजनेस प्लान रहेगा। भारत में प्री स्कूलों का बिजनेस 2020 तक 20 हजार करोड़ होने का अनुमान है। इस बिजनेस में 45% की दर से वृद्धि हर साल हो रही है।

प्ले स्कूल खोलने के लिए आवश्यक गाइडलाइंस

आपके स्कूल के ट्रस्ट संस्था में कम से कम 3 सदस्य होने चाहिए। इंडिया ट्रस्ट एक्ट के अनुसार आपकी संस्था (स्कूल) का रजिस्ट्रेशन होना चाहिए। जिस प्रॉपर्टी (जमीन) पर आप प्ले स्कूल शुरू करना चाहते हैं उस के कागज (डॉक्यूमेंट) होना बहुत आवश्यक है।

प्ले स्कूल बिजनेस शुरू करने के लिए फ्रेंचाइजी व्यवस्था

प्ले स्कूल खोलने के लिए आपको 2 से 15 लाख की पूंजी लगाने पड़ेगी। ज्यादातर लोग प्रसिद्ध ब्रांड वाले स्कूलों की फ्रेंचाइजी लेकर अपना प्ले स्कूल खोलते हैं।

कुछ प्रसिद्ध प्ले स्कूल फ्रेंचाइसी

1) Smart Kids India play school
निवेश: 6 से 7 लाख
आवश्यक जगह: 2000 से 2400 वर्ग फुट
contact: www.smartkidzindia.com

2) Kidzee play school
निवेश: 12 से 15 लाख
आवश्यक जगह: 2000 से 3000 वर्ग फुट
contact: www.kidzee.com

3) Shamrock play school
निवेश: 6 से 7 लाख
आवश्यक जगह: 5000 से 6000 वर्ग फुट
contact: www.shemrock.com

4) Bachpan play school
निवेश: 12 लाख
आवश्यक जगह: 2000 वर्ग फुट
contact: www.bachpanglobal.com

5) Little Millenium play school
निवेश: 10 से 15 लाख
आवश्यक जगह: 2000 से 2500 वर्ग फुट
contact: www.littlemillennium.com

प्ले स्कूल बिजनेस शुरू करने के लिए आवश्यक इन्फ्रास्ट्रक्चर

जिस बिल्डिंग में आप स्कूल चलाना चाहते हैं उसे खुद बनवाइये या बिल्डिंग किराए पर लीजिए। आपके पास 2000 से 4000 वर्ग फुट की जगह होनी चाहिये। उसके बाद उसे बच्चों के अनुसार डेंटिंग पेंटिंग करवानी होगी। इंटीरियर डिजाइन करवाना होगा।

बच्चों के लिए खिलौने, मेज, कुर्सियां, ब्लैक बोर्ड, किताबें लाने में यह पैसा खर्च होगा। स्कूल के कमरे बड़े और हवादार होने चाहिए। सुबह प्रार्थना के लिए खेल का मैदान होना आवश्यक है।

बच्चों को आकर्षित करने के लिए दीवारों पर आकर्षक रंगीन बाल चित्रकारी, फूल, पेड़ पौधे, शिक्षाप्रद चित्र, प्रेरक प्रसंग जैसे चित्र होने चाहिए। इसके अलावा बच्चों के लिए पर्याप्त मात्रा में खिलौने भी होने चाहिए।

स्कूल के अंदर पेड़ पौधे और हरियाली होती है तो यह बहुत अच्छा होगा। बच्चों के लिए शौचालय की उचित व्यवस्था होनी चाहिए। महिला बैंक और पंजाब नेशनल बैंक जैसे बैंक प्ले स्कूल खोलने के लिए 12% ब्याज पर लोन देते हैं जो 5 साल के अंदर चुकाना होता है।

प्ले स्कूल कहां पर खोलना चाहिए

प्ले स्कूल खोलने के लिए सबसे अच्छी जगह आबादी वाली है। प्ले स्कूल में 3 से 5 साल के छोटे बच्चे पढ़ने आते हैं इसलिए उस स्थान में छोटे बच्चे भी होने चाहिए। जिस स्थान पर आप प्ले स्कूल खोलना चाहते हैं पहले पता कर ले कि वहां पर कितने प्ले स्कूल हैं।

यदि उस स्थान पर बहुत अधिक प्ले स्कूल हैं और कम्पटीशन बहुत अधिक है तो आप किसी दूसरी जगह का चुनाव करें। आपको उस स्थान का Area Analysis करना चाहिये। दूसरे प्ले स्कूलों में कितनी फीस ली जा रही है, वहां की पढ़ाई से अभिभावक कितने अधिक संतुष्ट हैं यह भी पता कर ले।

प्ले स्कूल खोलने के लिए रजिस्ट्रेशन

आपको अपने स्कूल का रजिस्ट्रेशन करवाना होगा। यदि आप किसी ब्रांडेड प्ले स्कूल की फ्रेंचाइसी ले रहे है तो वो आपको रजिस्ट्रेशन प्रक्रिया समझा देंगे।

प्ले स्कूल के लिए पाठ्यक्रम का चुनाव करना

आपको पाठ्यक्रम का चयन छोटे बच्चों के अनुसार करना चाहिए। इसके लिए आप दूसरे प्ले स्कूल में जाकर वहां की किताबें और पाठ्यक्रम देख सकते हैं। आप Education Experts और Education Research Consultant से सलाह ले सकते हैं।

बच्चों का पाठ्यक्रम सामाजिक मूल्यों और आदर्शों के अनुसार होना चाहिए। पाठ्यक्रम ऐसा हो जो बच्चों के अंदर अच्छे संस्कारों का बीजारोपण करें।

प्ले स्कूल के लिए कर्मचारियों की नियुक्ति

आपका प्ले स्कूल पूरी तरह बनकर तैयार हो गया है तो आपको इस में काम करने वाले कर्मचारियों की नियुक्ति करनी होगी। शुरू में आप 8 से 10 टीचर्स की नियुक्ति कर सकते हैं। इसके लिए आप अखबारों में विज्ञापन दे सकती हैं।

आपको आसानी से टीचर मिल जाएंगे। उनका इंटरव्यू लेकर उनकी सभी शैक्षिक योग्यताएं की मार्कशीट देखकर आप उनकी नियुक्ति कर सकती हैं। इसके अलावा आपको स्कूल की साफ सफाई के लिए 1 से 2 सफाई कर्मियों की जरूरत होगी जो प्ले स्कूल की सफाई करेंगे।

प्ले स्कूल की मार्केटिंग कैसे करें

आप अपने प्ले स्कूल (नर्सरी स्कूल) का विज्ञापन बहुत तरह से कर सकती है। इसके लिए कई तरीके हैं। स्कूल के लिए आकर्षक होर्डिंग बनाकर आप सड़कों के किनारे लगवा सकते हैं जिससे आने जाने वाले लोग आपके स्कूल के बारे में जान सकें। आप अखबार में विज्ञापन देकर लोगों को अपने स्कूल के बारे में बता सकती हैं।

पंपलेट छपवाकर उसे आबादी वाली कॉलोनी में बांट सकती हैं। इसके अलावा लाउडस्पीकर वैन के द्वारा बोल बोल कर भी उस स्थान के निवासियों को स्कूल के बारे में जानकारी दे सकती हैं। आजकल “डोर टू डोर कैंपेनिंग” बहुत लोकप्रिय हो गई है। जिसमें स्कूल की टीचर ग्रुप में लोगों के घर जाती हैं और उनको अपने प्ले स्कूल के बारे में बताती हैं। बच्चों का एडमिशन भी ले लेती है। यह मार्केटिंग स्ट्रेटजी बहुत उपयोगी होती है।

यदि आप अपने प्ले स्कूल में बच्चों को अच्छी शिक्षा देते हैं तो बच्चों के अभिभावक अपने पड़ोसियों, मित्रों और रिश्तेदारों से आपकी स्कूल के बारे में बताएंगे। “माउथ टू माउथ” पब्लिसिटी के द्वारा भी आपके स्कूल का अच्छा प्रचार हो जाएगा। जो प्ले स्कूल अच्छे होते हैं उनके बारे में लोगों को जानकारी अपने आप ही हो जाती है। वह उस स्थान में उस क्षेत्र में प्रसिद्ध हो जाते हैं।

वर्तमान में ऑनलाइन मार्केटिंग का क्रेज भी बहुत अधिक बढ़ गया है। दूसरी वेबसाइट पर आप अपने स्कूल का विज्ञापन दे सकते हैं। वहां से भी लोगों को आप के स्कूल के बारे में पता चलेगा। आप सोशल मीडिया पर अपने स्कूल के नाम का पेज बनाकर अच्छा प्रचार कर सकते हैं। ऑनलाइन प्रमोशन के लिए स्कूल की वेबसाइट बनाना भी बहुत अच्छा विकल्प है।

प्ले स्कूल से होने वाली आमदनी (इनकम)

किड्स प्ले स्कूल खोलकर आप हर महीने 50 हजार से 1 लाख रूपये आसानी से कमा सकते हैं। आजकल प्ले स्कूल में भी मोटी रकम फीस के तौर पर ली जाती है। अभिभावकों से 500 से 2000 रूपये फीस के तौर पर वसूले जाते हैं। 1 से 2 साल के अंदर आप अपना वर्किंग कैपिटल (पूंजी) आराम से निकाल सकते हैं।

प्ले स्कूल खोलने के लिए आवश्यक बातें

1) यह बिजनेस शुरू करने के लिए आपके अंदर बच्चों के प्रति लगाव और प्यार होना चाहिए। उनको सिखाने का जोश होना चाहिए।

2) प्ले स्कूल खोलने के लिए आपको बच्चों की सुरक्षा के ऊपर विशेष ध्यान देना होगा। बच्चों को लाने, ले जाने के लिए आपको वाहनों की आवश्यकता पड़ेगी। बच्चों को सुरक्षित घर से लाया जाए और स्कूल से वापस घर छोड़ा जाए इस पर आपको बहुत ध्यान देना होगा।

3) किड्स प्ले स्कूल खोलना एक लंबे समय के लिए काम है। इसलिए आप इसे long-term के रूप में करें।आपके पास पर्याप्त मात्रा में पूंजी और जगह होनी चाहिए।

4) शिक्षा के प्रति आपका लगा होना बहुत आवश्यक है। यदि आप खुद ही पढ़ना पढ़ाना पसंद नहीं करते हैं तो बच्चों को कैसे पढ़ा पाएंगे। आपका खुद का शिक्षित होना बहुत आवश्यक है। आपको बच्चों को पढ़ाने की कला व शिक्षण विधियों और पद्धतियों का भी पर्याप्त ज्ञान होना चाहिए।

हमलोग आशा करते है की आपको हमारी यह लेख पसंद आई होगी अधिक जानकारी के लिए कमेंट बॉक्स में हमसे संपर्क करे धन्यवाद

63 Comments

Add a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: