एल्युमीनियम का बिज़नेस कैसे शुरू करें? Aluminum door Window Making Business

एल्युमीनियम का बिज़नेस कैसे शुरू करें? Aluminum door Window Making Business

दोस्तों आज के समय में यदि आप बिजनेस करने का विचार कर रहे है तब आपको इस पोस्ट को अंत तक ध्यान से पढ़ना चाहिए, आज हम इस पोस्ट के माध्यम से एल्युमिनियम का बिजनेस कैसे शुरू करे इसके बारे में विस्तार से जानेगे कि आपको एल्युमिनियम का बिजनेस स्टार्ट करने के लिए क्या क्या करने की आवश्यकता है, एल्युमिनियम का बिजनेस का बाजार पर क्या प्रभाव है, आप इस बिजनेश में कितना इन्वेस्ट कर सकते है आदि।

एल्युमिनियम की बात की जाए तो आज के समय में एल्युमिनियम के विभन्न प्रकार के फ्रेम, खिड़की निर्माण, फिटिंग व वस्तु आदि की मांग बाजार में व्यापक रूप से है। वर्तमान समय मे कस्टमर को एल्युमिनियम का दरवाजे, किचन के बर्तन, खिड़कियां, सीढ़ी, हैंड्रिल, बरामदे के लिए रेलिंग, सिंक व गलियारे आदि चाहिए। आफिस या घर का सजावट का विशेष ध्यान रखने के लिए एल्युमिनियम का सामान उपयोग किया जाता है, दुकान में स्टैकिंग के लिए एल्युमिनियम का स्टैंड रखते है। आइये हम विस्तार में

एल्युमिनियम का बिजनेस क्या है

एल्युमिनियम का बिजनेस की बात की जाए तो यह एक ऐसा व्यवसाय है जिसमे आपको कोई वस्तु रखना बेचने के लिए वह एलुमिनियम का होना चाहिए, जैसे दरवाजे, खिड़किया, चेयर, रेलिंग, बर्तन व सीढ़ी आदि सभी चीजें एल्युमिनियम से बनी होना चाहिए। एल्युमिनियम एक उपयोगी धातु है जिसका उपयोग लोग करते है, एल्युमिनियम में बहुत सारे भौतिक गुण होते है जो बहुत ही फायदे व दिखने में अच्छा लगता है। एल्युमिनियम के बिजनेस से तात्पर्य है बाजार में किसी जगह पर एक स्टोर ओपन करना जिसमे एल्युमिनियम की सभी समान मिलता है, समय के मांग के अनुरूप एल्युमिनियम का बिजनेस बेहतरीन ऑप्शन है।

एल्यूमिनियम विंडो व दरवाजे बनाने के लिए नियम-

आप कोई भी बिजनेस करते है तब कुछ कानूनी प्रक्रिया होती है उसी तरह आप जब एल्युमिनियम विंडो या दरवाजे बनाने का बिजनेस स्टार्ट करते है, तब आपको इसके लिए कुछ बुनियादें नियम का पालन करना होता-

1. ROC के साथ व्यवसाय का पंजीकरण- इसके लिए आपको कंपनियों में रजिस्टर होना पड़ेगा, आप जिस कंपनी से कच्चा माल लेते है उसके लिए आपको कंपनी के साथ ROC करने की आवश्यकता होगी।

2.एसएसआई यूनिट पंजीकरण- इसकी आवश्यकता बिजनेस को चलाने के लिए की किसी तरह का बिजनेस में समस्या न आए।

3. बिजनेस लाइसेंस- बिजनेस लाइसेंस के लिए आपको राज्य सरकार के वाणिज्य मंत्रालय या फिर डिस्ट्रिक्ट आफिस में आवेदन करना होगा, तभी आपको बिजनेस की अनुमति मिलेगी।

4. वैट पंजीकरण- बिजनेसमैन को अपने बिजनेस के लिए अपने सामान को सूचीबद्ध करना होता है, इसके लिए आप राज्य सरकार के आधिकारिक वेबसाइट में पंजीकरण कर सकते है।

5. बीआईएस गुणवत्ता मानक- आईएस 1948-1961 के तहत एल्युमिनियम से निर्मित वस्तुओं का मानक तैयारी करता है कि वह किसी तरह से निर्मित है व एल्युमिनियम में कौन कौन से मिश्र धातु का मिश्रण है।

प्रदूषण विभाग से NOC की आवश्यकता :

आज के समय मे आप कोई भी बिजनेस करते है तब आपको बहुत सारे कानूनी प्रक्रिया से गुजरना पड़ता है, ऐसे में यदि आप एल्युमिनियम का बिजनेस करने का सोचे है तब आपको अपनी कंपनी का राज्य सरकार के पर्यावरण व प्रदूषण विभाग से noc लेना पड़ेगा व आपको इस बात का ध्यान रखना होगा कि कम्पनी जल प्रदूषण तो नही कर रहा है, जो भी गन्दगी डोर या विंडो एल्युमिनियम का बनाते है वहां हो रही है तो उसका समय समय मे निवारण करना होगा, तभी जाकर स्थानीय प्रदूषण विभाग आपको एल्युमिनियम की बिजनेस करने की अनुमति NOC देगा अन्यथा नही।

एल्युमिनियम के दरवाजे या खिड़की बनाने के लिए मशीन :

आप जब कंपनी स्टार्ट करते है तब एल्युमिनियम की दरवाजे या खिड़कियां बनाने के लिए विभन्न तरह के मशीन की आवश्यकता पड़ेगी वह निम्न है-

1. 2HP मोटर व स्टार्टर, इसके साथ ही आपको कट ऑफ मशीन की आवश्यकता होगी।

2. 0.5HP का ड्रिलिंग मशीन 12 मिमी टोपी वाली, यह दरवाजे बनाते वक़्त लकड़ियों की ड्रिलिंग के लिए आवश्यक है।

3. पोर्टेलब इलेक्ट्रिक ड्रिल, यह दरवाजे या फिर खिड़कियों में डिजाइन बनाने के लिए आवश्यक होता है।

4. 0.75HP मोटर डबल समाप्त बेंच की चक्की 200 मिमी व्यास का।

5. रेक्टिफायर 500 एम्प्स का एनोडाइजिंग प्लांट पूरा

6. 14 फीट लंबाई व प्रारंभिक रसायनों के लिए आवश्यक टैंक के साथ पूरा समाग्री।

7. 2HP का बफरिंग मशीन का मोटर

8. हाथ उपकरण, छीनी हतौड़ा, कटिंग मशीन, आदि।

एल्युमिनियम के बिज़नेस रेजिस्ट्रेशन के लिये आवश्यक दस्तावेज :

• आधार कार्ड व मतदाता परिचय पत्र होना जरूरी है।

• जमीन का कागजात होना चाहिए अन्यथा किराये का जमीन या भवन है तब किरायानामा होना चाहिए।

• बिज़नेस करने लिए GST पंजीकरण होना जरूरी है।

• किसी भी बैंक से ऋण लिया हो तब उसका संक्षिप्त विवरण देना जरूरी है।

• स्थानीय पर्यावरण व प्रदूषण बोर्ड से सहमति पत्र

• Fire Extinguisher पत्र नगर निगम द्वारा जारी किया गया प्रमाण पत्र।

• सुरक्षा से सम्बंधित प्रमाण पत्र।

इस सभी को आपको वाणिज्य व बिजनेस विभाग में आवेदन पत्र के साथ जमा करना होता है, साथ ही आपके फ़ोटो, सिग्नेचर के साथ आपके बैंक पासबुक की फ़ोटो कॉपी आदि को जमा करना पड़ता है फिर 25-28 दिनों में आवेदन का वेरिफिकेशन होते है एल्युमिनियम का बिजनेस के लिए लाइसेंस मिल जाता है।

एल्युमिनियम के बिजनेस के लिए बाजार कैसे है :

भारत दुनिया के सबसे अधिक एल्युमिनियम उत्पादक देश मे से 5वे नम्बर पर आता है। व भारत बाजारों के देश है यहाँ जो भी बिजनेस डाला जाए वह चल जाता है, और जैसे जैसे देश तरक्की कर रहा है घर व बिल्डिंग बन रहे है व वहां दरवाजे, खिड़कियां सीढ़ी, रैक, व अन्य सामान की आवश्यकता पड़ती है। भारत मे एल्युमिनियम का खपत इलेक्ट्रॉनिक फील्ड में भी है, व रेलवे में भी एल्युमिनियम की सामग्री की मांग है, यदि आप एल्युमिनियम का बिजनेस करने के बारे में सोच रहे है तब यह बिलकुल सही आईडिया है क्योंकि भारत मे व्यपाक बाजार है, एल्युमिनियम के दरवाजे, सीढ़ी, रेलिंग व खिड़कियां आदि नए घरों व बिल्डिंग्स की शोभा बढ़ती है ऐसे में बाजार की चिंता छोड़ दे।

एल्युमिनियम के बिजनेस में कितना इन्वेस्ट करे :

आज के समय मे बिजनेस करना रिक्स होता है लेकिन आप इस बिजनेस में रिस्क की चिंता छोड़ दे क्योकि वर्तमान में इतने घर व बिल्डिंग बन रहे है कि सभी को दरवाजे व खिड़की की जरूरत होती है वह भी आज के समय मे एल्युमिनियम के दरवाजे व खिड़कियों की मांग बढ़ रही है ऐसे में आप जीतना अधिक इन्वेस्ट करते है उतना अच्छा होगा, आप शुरुआती समय मे बिजनेस के लिए 5-10 लाख इन्वेस्ट कर सकते है, व आप चाहे तो बैंक से बिजनेस लोन लेकर भी अपना एल्युमिनियम का बिजनेस स्टार्ट कर सकते है।

एल्युमिनियम के बिजनेस में कितना फायदा होगा :

एल्युमिनियम के बिजनेस के बारे में विचार है तब आप जीतना ज्यादा इन्वेस्ट करते है उतना ही प्रॉफिट मिलेगा। यदि आपका कंपनी बढ़ा है व एल्युमिनियम के दरवाजे, सीढ़ी, बर्तन, खिड़कियों, रेलिंग व अलमारियां आदि बनाते है तब बहुत फायदा होगा, आपको सभी समान में आसानी से 20-30% तक का लाभ होगा, ऐसे में आप जीतना बड़ा कंपनी रखते है उतना ही प्रॉफिट है, क्योकि बाजार में एल्युमिनियम सामान का डिमांड अधिक है।

एल्युमिनियम के बिजनेस के लिए कच्चा माल कहां से लाये :

आपको सबसे पहले एल्युमिनियम का बिजनेस करना है तो एक सिस्टेमेटिक बिजनेस प्लान होना चाहिए, आपके कंपनी के लिए बड़ा स्पेस होना चाहिए व साथ ही इस बात का भी ध्यान रखे कि ग्राहक को आपके बिजनेस प्लेस में आने में सुविधा हो।

यदि आपके पास एक अच्छा प्लान है तब आपको किसी तरह की चिंता करने की जरूरत नही है, बस आपको इस बात का ध्यान देना है कि आप दरवाजे, खिड़की व अन्य सामान बनाने के लिए कच्चा माल कहाँ से लाये, इसके लिए आपको एल्युमिनियम का कच्चा माल सप्लाई करने वाले कम्पनी से डील करना होगा, व उससे बुक टाइप हैंड रेल, ग्लास शीट, फ्लैट, क्लिप्स व अनुभाग आदि की खरीद सकते है साथ ही आपको दरवाजे या खिड़की में कील, कुंडी, ताले, रबर बिडिंग व शिकंजा आदि का के लिये आप किसी हार्डवेयर कंपनी से सम्पर्क कर सकते है।

एलुमिनियम कितने रुपए किलो है

एलुमिनियम पिछले वर्ष 250 रुपए किलो थे जो अभी 180 रुपए किलो चल रहे हैं।

एल्युमिनियम का बिजनेस का प्रोमोशन कैसे करे :

वर्तमान समय मे जो दिखता है वह बिकता है ऐसे में आप एल्युमिनियम का बिजनेस करते है तब आपको अपने कंपनी का प्रचार प्रसार करना होगा, उसके लिए आपको सोशल मीडिया का सहारा लेना होगा आप अपने कंपनी के नाम से सोशल मीडिया facebook, instagram व twitter आदि में एकाउंट बना सकते है व समय समय मे अपने कंपनी के प्रोडक्टस का फोटो व उसके बारे में कैप्शन लिख कर पोस्ट करते रहना होगा, या फिर आप अख़बार के साथ अपने कंपनी पोस्टर शहर में बंटवा सकते है, इससे आपके कस्टमर में बढ़ोतरी होगी व एल्युमिनियम का बिज़नेस ग्रो करेगा।

अन्य पढ़े :

टेंट हाउस बिजनेस कैसे शुरू करें

ऑनलाइन पैसे कैसे कमाए

बिल्डिंग मटेरियल का बिजनेस कैसे शुरू करें

Add a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: