12th Science PCM/PCB के बाद छात्र के लिए क्या-क्या विकल्प है

12th के बाद क्या करें साइंस स्टूडेंट्स करियर ऑप्शंस

12th साइंस में दो लाइन्स है एक उनके लिए जिन्होंने 11वीं में मैथ्स ली और एक वो जिन्होंने 11वीं में बायोलॉजी ली। भारत में ज्यादातर लोगों की यह धारणा है की PCM लेने का मतलब है इंजीनियरिंग करना और PCB लेने का मतलब है डॉक्टर बनना। पर हर बच्चा सिर्फ इंजीनियर या डॉक्टर नहीं बनना चाहता है काफी बच्चे और किसी फील्ड में जाना चाहते है ऐसे में यहाँ हम आपकी मदद करेंगे की 12th के बाद आप और कौन-कौन से कोर्सेज कर सकते है।

12th PCM (मैथ्स) वाले छात्रों के लिए कुछ करियर ऑप्शंस:

B.Sc.(Bachelor in Science):

B.Sc. एक साइंस डिग्री (अंडर ग्रेजुएट) प्रोग्राम है जो छात्रों को उनकी पसंद के विषय में अध्ययन करने की अनुमति देता है। जिन छात्रों को मैथ्स में रूचि है वो B.Sc.(math) कर सकते है और जिन छात्रों को बायो में रूचि है वो B.Sc. (Bio) कर सकते है। कुछ कॉलेजेस में एंट्रेंस एग्जाम भी होता है जबकि कुछ में डायरेक्ट एड्मिशन ले सकते है। B.Sc. करने के बाद अगर आप M.Sc. भी कर लेते है (जो की एक मास्टर डिग्री है) तो आप किसी अच्छे संसथान में या किसी कॉलेज में प्रोफेसर, शिक्षक या व्याख्यान बन सकते है। जो लोग रिसर्च के काम में रूचि रखते है वो भी B.Sc.का कोर्स कर सकते है।

Architecture:

12th के बाद छात्र आर्किटेक्चर की फील्ड भी चुन सकता है। यह एक बहुत क्रिएटिव फील्ड है और इसमें बहुत अच्छा स्कोप है। इसमें बिल्डिंग डिजाइनिंग की पढ़ाई होती है। आर्किटेक्चर में बिल्डिंग्स को बड़ी ही सुंदरता के साथ डिज़ाइन कर के अलग अलग टाइप की आधुनिक बिल्डिंग्स, ऑफिसेस डिज़ाइन किये जाते है। ये सिविल इंजीनियरिंग के अंतर्गत आता है।

यदि आप को कला, डिजाइन और गणित पसंद है और आप इसमें अच्छे हैं, तो आर्किटेक्चर की फील्ड आपके लिए सही कैरियर साबित हो सकता है। इसमें जल्दी आगे बढ़ने का बहुत स्कोप रहता है। आज की आधुनिक विकासशील दुनिया में, इमारतों को सुंदर और टिकाऊ बनाने के लिए आर्किटेक्ट की आवश्यकता होती है। आज बड़े बड़े शॉपिंग काम्प्लेक्स बन रहे है, ऊँची ऊँची इमारते बन रही है इन सभी की देगैनिंग के लिए आर्किटेक्ट रखे जाते है और इनका वेतन भी बहुत बढ़िया होता है।

Commercial Pilot:

अगर आपको एयरोप्लेन उड़ाने का शौक है या आप इस फील्ड में अपना करियर बनान चाहते है तो आप पायलट पाठ्यक्रम भी चुन सकते है। इसका कोर्स प्राइवेट कॉलेज भी करवाते है। हवाई यात्रा सस्ती होने के साथ, विमान उद्योग तेज गति उन्न्नति कर रहा है और वाणिज्यिक पायलटों की आवश्यकता भी दिन पर दिन बढ़ती जा रही है। यदि आप आकाश में उड़ना चाहते हैं और पायलट बनना कहते है तो यह कोर्स आपके लिए परफेक्ट है।

BCA (Bachelor degree in the computer):

12 वीं के बाद छात्रों के लिए BCA एक बढ़िया करियर ऑप्शन है। अगर आपको कंप्यूटर में इंटरेस्ट है तो बसा आपके लिए बढ़िया चुनाव रहेगा। BCA करने के बाद आप किसी अच्छी IT कंपनी में जॉब कर सकते है और अगर आप BCA के बाद पोस्ट ग्रेजुएट MCA भी कर लेंगे तो कंप्यूटर की फील्ड में एक अच्छा करियर बना सकते है तथा उच्च वेतन की नौकरी भी मिल सकती है I

Engineering:

12th साइंस के बाद इंजीनियरिंग छात्रों का सबसे ज्यादा चुने जाने वाला करियर है। इंजीनियरिंग छात्रों में बहुत लोकप्रिय है। इंजीनियरिंग आप प्राइवेट कॉलेज से भी कर सकते है और सरकारी कॉलेज से भी कर सकते है। इंजीनियरिंग का कोर्स 4 साल का होता है। कोर्स के दौरान, आपको अपनी विशेषज्ञता का विषय का चुनाव करना होता है, जो सिविल इंजीनियरिंग से लेकर इलेक्ट्रिकल इंजीनियरिंग तक होता है। इसमें कई विकल्प हैं, और आप उस विषय में इंजीनियरिंग कैरियर बना सकते हैं जिसे आप पसंद करते हैं।

Merchant Navy:

मर्चेंट नेवी के कोर्स में आपको काफी ऑप्शंस मिलते है जैसे, मरीन इंजीनियरिंग, नॉटिकल साइंस, शिप मेंटेनेंस कोर्स आदि। यह देश में सबसे अधिक सैलरी देने वाले कोर्सेज में से एक है। इसमें आपको कई देखो का सफर करने का मौका मिलता है तथा देश की सेवा करने का भी मौका मिलता है। काफी युवा छात्र मर्चेंट नेवी को अपना करियर बनाते है यह छात्रों की एक मनपसंद फील्ड है।

Animation:

12th के ठीक बाद एनीमेशन में डिग्री कोर्स एक अच्छा कदम है। यदि आप कला और कंप्यूटर में अच्छे हैं, तो यह डिग्री ध्यान देने योग्य है। 12th के बाद एनीमेशन की फील्ड में करियर बनाने का सपना काफी छात्रों का होता है। एनीमेशन की फील्ड काफी ज्यादा क्रिएटिव और मनोरंजक फील्ड है। इसमें छात्रों को कुछ नया करने को मिलता है।

आज कल के समय में एनिमेटेड मूवीज, कार्टून्स काफी ज्यादा लोकप्रिय है ऐसे में एनीमेशन की फील्ड में बहुत कुछ कर दिखने का मौका है। कुछ साल पहले तक, केवल निजी संस्थान थे जो एनीमेशन के लिए प्रमाणपत्र पाठ्यक्रम प्रदान करते थेपरन्तु अब काफी इंस्टीटूट्स खुल गए है जो एनीमेशन का कोर्स करवाते है तथा नौकरी भी दिलाते है। भारत कई विदेशी देशों के साथ सबसे बड़ा एनीमेशन हब है जो अपने काम को यहां आउटसोर्स कर रहा है इसलिए इसमें भी छात्रों को अपना करियर बनाने के लिए सोचना चाहिए।

Video game developer:

वीडियो गेम उद्योग का मूल्य इस समय बहुत ही ज्यादा है, भारत कई साड़ी इंटरनेशनल कम्पनीज के साथ काम कर रहा है इसी फील्ड में। इस फील्ड में आपको कंप्यूटर लैंग्वेज पढ़ाई जाएगी और ग्राफ़िक डिजाइनिंग के बारे सिखाया जाता है। इस फील्ड में भी बहुत ज्यादा क्रिएटिविटी की जरुरत है। इस फील्ड में वेतन भी बहुत अच्छा है तथा भविष्य भी बहुत बढ़िया है।

App Developer:

आज की इस डिजिटल दुनिया में सब कुछ ऑनलाइन होता जा रहा है ऐसे में अप्प डेवलपर का भविष्य बहुत ही अच्छा है। आप अप्प डेवलपिंग का कोर्स ज्वाइन कर के अपना करियर इस फील्ड में बना सकते है। इसमें वेतन भी बहुत ज्यादा मिलता है। आजकल सभी लोग अपना व्यवसाय ऑनलाइन करते जा रहे है ऐसे में सभी अपना अप्प बनवाते है और अपने बिज़नेस को या प्रोडक्ट तो प्रमोट करते है इसलिए यह भी एक बहुत अच्छा करियर ऑप्शन है।

Software Developer:

इंडिया में काफी IT फर्म है और दिन पर दिन बढ़ती जा रही है। और ये आईटी फर्म एक बढ़िया 7 फिगर सैलरी देती है अपने सॉफ्टवेयर डेवलपर को। अमेज़न, माइक्रोसॉफ्ट, गूगल ये सभी कम्पनीज सॉफ्टवेयर डेवलपर हिरे करती है और अच्छा वेतन देती है। आजकल तो सभी बैंक्स भी ऑनलाइन हो गए है और लगभग सभी ऑफिसेस भी अपना सॉफ्टवेयर डेवेलप करवाते है। ऐसे में ये एक ऐसा करियर है जिसमे कभी पीछे नहीं मुड़ना पड़ेगा। सभी आईटी फर्म्स सॉफ्टवेयर डेवलपर को रखती है और अच्छा वेतन देती है।

12th PCB (Bio) वाले छात्रों के लिए कुछ करियर ऑप्शंस:

Environmental science:

आज के समय में पर्यावरण विज्ञान एक आवश्यक चित्रों में से एक है, और एनवायर्नमेंटल साइंस स्टडीज में पर्यावरण के भौतिक, रासायनिक और जैविक घटकों और उनके बीच आपस में समन्वय का अध्ययन शामिल है। पर्यावरण वैज्ञानिक ग्लोबल वार्मिंग, ओजोन परत का काम होना, अपशिष्ट प्रबंधन, जल प्रदूषण, आदि जैसे आवश्यक पर्यावरणीय विषयों की जांच करते हैं और इन मुश्किलों से कैसे निपटा जा सकता है इस विषय पर पढ़ाया जाता है।

बहुत से ऐसे उद्योग है जिसमे रेसेअर्चेर की आवश्यकता होती है जैसे खानों, जल उपचार संयंत्रों, उर्वरक संयंत्रों, वानिकी, प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड, कृषि, आदि। इसमें आप मास्टर डिग्री भी कर सकते है।

Dermatologist:

इसमें त्वचा से सम्बंधित पढ़ाई होती है। यह त्वचाविज्ञान की एक शाखा हाउ जिसमे त्वचा के साथ साथ स्कल, नेल्स और हेयर से रिलेटेड प्रॉब्लमस और इसके उपचार के बारे में पढ़ाया जाता है। 12वी बायो से करने के बाद आप बैचलर ऑफ मेडिसिन और बैचलर ऑफ सर्जरी (एमबीबीएस) का कोर्स करना होता है और एमबीबीएस के बाद आप डर्मेटोलॉजी में मास्टर डिग्री कोर्स या डर्मेटोलॉजी में मेडिसिन के डॉक्टर के लिए भी जा सकते हैं।

इसमें बहुत अधिक उच्चा शिक्षा की जरुरत होती है परन्तु इसमें वेतन बहुत अच्छा होता है और भविष्य भी सुनहरा है।

Dentist:

MBBS के बाद सबसे ज्यादा पसंद किया जाने वाला कोर्स डेंटिस्ट का ही है पीसीबी के छात्रों में। इसकी मान्यता भी MBBS के ही समान है। इसमें दांत से सम्बंधित समस्यों के बारे में पढ़ाया जाता है तथा उसका समाधान भी सिखाया जाता है। दांतो की समस्या तो हर आगे ग्रुप में बहुत ही आम बात है इसलिए इसमें भी काफी अच्छा स्कोप है।

12वी के बाद बीडीएस पाठ्यक्रम को विज्ञान स्ट्रीम पीसीबी (भौतिकी, रसायन विज्ञान और जीव विज्ञान) के साथ करना चाहते हैं तो आपको बीएस पाठ्यक्रम को आगे बढ़ाने के लिए कम से कम 50% (आरक्षित श्रेणी के लिए 40%) की आवश्यकता है।

Molecular Biology:

मॉलिक्यूलर बायोलॉजी भी जीव विज्ञान की ही एक शाखा है जिसमे आणविक स्तर पर जीवों की संरचना के बारे में और उनके कार्य के बारे में एक शोध और अध्ययन कराया जाता है। इसमें, ज्यादातर डीएनए, आरएनए, विभिन्न प्रोटीन और उनके सिस्टम के विषय में पढ़ाया जाता है।

आणविक जीवविज्ञानी का मुख्य उद्देश्य काफी सूछ्म स्तर पर जीवित जीवों के कार्य का अध्ययन करना और समझना। मोलरकुलर बायोलॉजी में आप एमएससी भी कर सकते है अगर आपने आनुवंशिकी, सूक्ष्म जीव विज्ञान, वनस्पति विज्ञान और प्राणीशास्त्र में अपने अंडर ग्रेजुएट डिग्री बीएससी किया है तो।

Pharmacist :

फार्मासिस्ट बनने के लिए फार्मेसी (Pharma) या बैचलर ऑफ फार्मेसी (B.Pharma) में डिप्लोमा कोर्स के लिए डिग्री की आवश्यकता होती है, दोनों डिग्री पूरी हो जाने के बाद आपको 6 महीने की इंटर्नशिप की करनी होती है।

मेडिसिन की फील्ड एक ऐसी फील्ड है जिसमे हमेशा ही नयी नयी रिसर्च चजति ही रहती है ककी नयी नयी बीमारियां भी आती रहती है। आप इसका कोर्स करके विभिन्न दवाइयों की जानकारी प्राप्त करते है।

फार्मासिस्ट का काम बहुत ही जिम्मेदारी भरा होता है। फार्मासिस्ट का काम दवाओं का वितरण और प्रबंधन करना है और ग्राहकों को उचित दवा उपलब्ध करना होता है। आप भी यह कोर्स कर के अपना मेडिकल स्टोर ओपन कर सकते है।

Physiotherapist:

फिजियोथेरेपिस्ट का मतलब है व्यायाम के माध्यम से लोगो के दर्द को सही करना। कमर का दर्द, गर्दन का दर्द, जोड़ों और घुटने में दर्द बहुत ही आम बात है लोगो को फिजियोथेरेपिस्ट के पास जाना पड़ता है अपने दर्द से निजात पाने के लिए।

फिजियोथेरेपी में छात्रों को विभिन्न प्रकार के व्यायाम सिखाये जाते है जिससे लोगो को उनकी समस्याओ से आराम मिले। अगर आप फिजियोथेरेपिस्ट बनना चाहते हैं तो आपको फिजियोथेरेपी (बीपीटी) में स्नातक की डिग्री प्राप्त करनी होगी और इसकेलिए आपको मार्क्स 12 वीं PCB से होना चाहिए, भौतिकी, रसायन विज्ञान और विज्ञान में न्यूनतम 50% के साथ उत्तीर्ण होना चाहिए।

Psychologist:

मनोवैज्ञानिक बनने के लिए छात्र को पीसीबी साइंस स्ट्रीम से 12 वीं कक्षा करने के बाद आप मनोविज्ञान में स्नातक की डिग्री (बीए या बीएस) के लिए जा सकते हैं, उसके बाद मनोविज्ञान में अपनी पोस्ट-ग्रेजुएशन करें उसके बाद आप पीएचडी करने के बाद डॉक्टरेट सकते हैं।

मनोविज्ञान और मनोचिकित्सक दो अलग फ़ील्ड्स है। 12th PCM (bio) के बाद मनोवैज्ञानिक का कोर्स करना भी एक अच्छा ऑप्शन है। इसमें आपको पेशेंट के साथ भावनात्मक रूप से जुड़ कर उसका उपचार करना सिखाया जाता है।

Nursing:

नर्सिंग का कोर्स भी काफी बच्चे 12th के बाद ज्वाइन करते है। नर्सेज की डिमांड तो हमेशा से ही रहती है ककी नर्स की भूमिका बहुत महत्वपूर्ण होती है। नर्स बनने के लिए बहुत सी योग्यताओं का होना बहुत जरुरी है। डॉक्टर के बाद नर्स की भूमिका सबसे जरुरी होती है। नर्स को रोगी का इलाज करनी सके साथ साथ डॉक्टर के साथ ऑपरेशन में भी रहना पड़ता है। नर्स की जिम्मेदारी डॉक्टर से भी ज्यादा महत्वपूर्ण है। नर्सिंग के लिए आपको B.Sc. Nursing कोर्स करना होता है।

अगर आप भी इस लाइन में जाना चाहते है तो आप को नर्सिंग का कोर्स करना होगा जिसके लिए क्लास 12th में मिनिमम ४५% मार्क्स होने चाहिए।

Homeopath:

होम्योपैथी में प्राकृतिक दवाइयों से रोगी का उपचार किया जाता है। होम्योपैथी थोड़ा समय लेती है परन्तु इसके रिजल्ट्स बहुत अच्छे होते है और लम्बे समय तक रहते है। इससे बीमारी जड़ से मिट जाती है और कोई साइड इफ़ेक्ट भी नहीं होता है।

होम्योपैथी के छेत्र में भविष्य बहुत ही उज्जवल है क्युकी लोगो का होम्योपैथी पर बहुत विश्वास है और भारत जैसे देश में तो लोग होम्योपैथी पर बहुत विश्वास करते है। इसमें वेतन भी अच्छा मिलता है।

यह भविष्य में किसी भी छात्र के लिए एक अच्छा करियर विकल्प है। 12 वीं के बाद अगर आप होम्योपैथी के छेत्र में अपना करियर बनाना चाहते हैं तो ग्रेजुएट और मास्टर डिग्री दोनों पाठ्यक्रम उपलब्ध हैं। यह लगभग साढ़े 5 साल का कोर्स है।

Horticulture:

आजकल आर्गेनिक खेती का बहुत ज्यादा चलन हो गया है। लोग बिना फ़र्टिलाइज़र वाली सब्जी फल लेना पसंद कर रहे है क्युकी सभी लोग अब अपनी सेहत को लेकर काफी चिंतित रहते है। अगर आपको भी बागबानी में इंटरेस्ट है तो आप भी अपना करियर इसमें बना सकते है। इस फील्ड में भी भविष्य काफी अच्छा होता जा रहा है। इसमें आपको पौधों की वृद्धि को बढ़ाना, कीड़ो से सुरक्षा, आदि के विषय में पढ़ाया जाता है। आप बागवानी में विज्ञान के ग्रेजुएट या बागवानी में प्रौद्योगिकी के ग्रेजुएट के लिए जा सकते हैं।

2 Comments

Add a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: