जूते बनाने का बिजनेस कैसे शुरू करें Shoes Manufacturing Business Ideas in Hindi

जानिए कैसे शुरू कर सकते है अपना जूते बनाने का बिजनेस – कहते हैं व्यक्ति के जूतों को देखकर व्यक्ति के बारे में बहुत कुछ अनुमान लगाया जा सकता है किसी भी व्यक्ति का परिधान उसके व्यक्तित्व की एक छवि प्रस्तुत करती है इसलिए एक ऐसे परिधान का चुनाव करना जो हमारे व्यक्तित्व अनुरूप हो यह बहुत आवश्यक है जब परिधान की बात हो रही हो तो उसमें जूते भी बहुत अहमियत रखते हैं आज जूते आदि सिर्फ एक जरूरत नही है, बल्कि यह एक फैशन स्टेटस भी बन गया है कोई भी महिला हो या पुरुष हर कोई अलग अलग मौकों पर अलग अलग तरह के जूते पहनता है इससे जूते बनाने के क्षेत्र में रोजगार के अच्छे अवसर बन जाते हैं

जूते बनाने का बिजनेस बहुत ही संभावनाओं वाला बिजनेस है यदि आप जूते बनाने का बिजनेस शुरू करना चाहते हैं तो, यह एक अच्छा निर्णय साबित हो सकता है जूते बनाने का बिजनेस बहुत ही फायदेमंद बिजनेस होता है इसमें अच्छी कमाई होने की संभावनाएं हैं लेकिन इस बिजनेस में सब कुछ इतना आसान नहीं होता है यह एक ऐसा क्षेत्र हैं, जहां बहुत ही ज्यादा प्रतिस्पर्धा है आज जूते बनाने के क्षेत्र में कई बड़ी बड़ी कंपनी ने कब्जा कर रखा है

ऐसे में अपने नए बिजनेस के लिए बाजार बनाना सबसे बड़ी चुनौती होती है इसलिए इस बिजनेस को शुरू करने से पहले एक अच्छी योजना होना बहुत जरूरी है साथ ही यह एक ऐसा बिजनेस है, जो आपसे ज्यादा इन्वेस्टमेंट की मांग भी करता है क्योंकि प्रोडक्ट की अच्छी गुणवत्ता के कारण ही कोई भी व्यक्ति इस बिजनेस में लंबे समय तक टिका रह सकता है

आप किस तरह के जूते बनाना चाहते हैं

Jute बनाने का बिजनेस एक ऐसा बिजनेस है, जिसमे आपके पास कई तरह के विकल्प उपलब्ध रहते हैं आप चाहे तो बच्चों के जूते बनाने का बिजनेस शुरू कर सकते हैं, या वयस्क लोगों के इसके बाद इनमे भी दो कैटेगरी रहती है महिलाओं के लिए और पुरुषों के लिए इसके बाद इनमे भी कई विकल्प होते हैं, जैसे सैंडल, फॉर्मल जूते, इनफॉर्मल जूते इत्यादि इसलिए इतने विकल्प होने के बाद कभी कभी व्यक्ति बिना किसी स्पष्ट दृष्टिकोन के इस बिजनेस में घुस जाता है, और सब कुछ बनाने के चक्कर मे कुछ भी अच्छे से नही बना पाता है

इसलिए जूते बनाने का बिजनेस शुरू करने से पहले यह बात स्पष्ट कर लें कि आप किस तरह के जूते बनाने जा रहे हैं एक बार यह निर्धारित होने के बाद आप अगली उन बातों पर फोकस कर सकते हैं, जो आपके द्वारा निर्धारित किये गए जूते के लिए आवश्यक है इसलिए बिजनेस के शुरुआत में ज्यादा विविधता पर फोकस न करें इसकी जगह एक ही तरह के प्रोडक्ट पर ध्यान लगाएं

बिजनेस प्लान तैयार करें

एक बार सब निर्धारित होने के बाद अपने बिजनेस के लिए एक बेहद ही असरदार बिजनेस प्लान का निर्माण करे किसी भी बिजनेस की सफलता या असफलता इस बात पर निर्भर करती है, की आपका लक्ष्य कितना ऊंचा था इसलिए अपने बिजनेस के लिए एक अच्छा बिजनेस प्लान तैयार करें, जिसमे यह निर्धारित हो कि आप के आगामी लक्ष्य क्या है? आप उन लक्ष्य को हासिल करने के लिए किस तरह से अपने बिजनेस को आगे बढ़ाएंगे

लेकिन यह भी ध्यान रखें, की आपके लक्ष्य ऐसे हो जो हासिल करने के योग्य हो ऐसा कोई भी लक्ष्य न बनाएं, जो हासिल करना असंभव हो उदाहरण के लिए बिजनेस के शुरुआती 4 महीनों के लिए आपने लक्ष्य बनाये की इस दौरान आप 1 लाख जूते के जोड़े बेचेंगे लेकिन एक नई कंपनी के लिए एक बेहद ही मुश्किल लक्ष्य है, जो असंभव के करीब ही है

अपने प्रोडक्ट का एक ब्रांड निर्धारित करें

आप अपने जूते में क्या सबसे अलग दे सकते हैं, यह ब्रांड कहलाता है आपको अपने प्रोडक्ट के लिए एक ब्रांड बनाना चाहिए, जिससे ग्राहक उस ब्रांड को देखकर ही पहचान जाए, और उन्हें अधिक जानकारी ढूंढने की जरूरत न पड़े उदाहरण के लिए आप अपने जूते की शोल की डिज़ाइन एक खास और बिलकुल अलग अंदाज में कर सकते हैं, जिससे जब भी किसी ग्राहक की नजर जूतों को शोल पर पड़े, वो तुरंत ही पहचान जाए कि ये इस कंपनी के जूते हैं इस प्रकार आप कुछ भी एक ऐसी खास पहचान अपने उत्पादों से जोड़ सकते हैं, जिसे देखकर ही ग्राहक आपके उत्पाद को समझ सके

जूते बनाने की विधि

जूता बनाने का बिजनेस एक पारंपरिक बिजनेस माना जाता है, जिसको हाथ के माध्यम से भी बनाया जा सकता है यहाँ यह ध्यान देना जरूरी है कि एक जूते के कई अलग अलग हिस्से होते हैं, जैसे शोल, अंदर का शोल, बाहर का शोल, जूते के आगे का भाग, जूते के बीच का हिस्सा, जूते का पिछला हिस्सा आदि इस तरह जूते का 1 जोड़ा बनाने में कई अलग अलग प्रक्रियाओं से गुजरना पड़ता है यही सारी प्रक्रियाएं यदि हाथ से की जाएं तो यह बहुत ही वक़्त लेने वाली होती है

लेकिन आज के वक़्त ये सारी प्रक्रियाएं मशीनों के माध्यम से होती है इन मशीनों को बस कुछ कमांड देने की जरूरत होती है, उसके बाद सारी प्रक्रिया खुद ही हो जाती है इसके साथ ही कंपनी में जूते के हर हिस्से को बनाने के लिए अलग अलग विभाग बनाया जा सकता है, जिससे काम की गति और गुणवत्ता दोनो बढ़ जाती है जूते बनाने के लिए सबसे पहले लैदर ( चमड़ा) काटा जाता है, जिसका आकर जूते की डिज़ाइन के अनुसार होता है यह प्रक्रिया कटिंग विभाग में कटिंग मशीन के द्वारा आसानी से हो जाता है 

जूता बनाने की प्रक्रिया में जूते के ऊपरी हिस्से को लैदर से काटकर अलग करना यह पहला प्रकिया होती है यह प्रक्रिया बहुत ही ध्यान पूर्वक की जाती है, क्योंकि लैदर बहुत महंगा होता है, और यदि बहुत अधिक लैदर बर्बाद होने से जूते की कीमत भी बढ़ानी पड़ती है अलग अलग डिपार्टमेंट में सभी पार्ट्स तैयार हो जाने के बाद मशीनिंग डिपार्टमेंट में इनकी सिलाई की जाती है

Inner sole – यह shoe का वो हिस्सा है जिस पर इंसान अपना पैर रखता है, इसे बहुत आरामदायक बनाया जाता है।
Outer sole – यह shoe के नीचे का बाहरी हिस्सा होता है, यह बहुत मजबूत बनाया जाता है जिससे नीचे बाहर की तरफ से मजबूती बनाई जाती है।
Mid सोल – यह outer और inner sole के बीच का हिस्सा होता है। इसे काफी मोटा बनाया जाता है।
Heel –  इसके बाद इसमें heel लगाया जाता है,यह outer sole के पीछे की तरफ लगाया जाता है,और यह ऊंचा बनाया जाता है।
Vamp – इसके बाद इसमें vamp लगते है, यह वो हिस्सा होता है जिसमे इंसान अपना पैर डालता है तथा उसे चलने में आसानी होती है और आरामदायक अनुभव होता है।
Designing – इसके बाद shoe का डिजाइन तैयार किया जाता है।
Designing cut – इसके बाद इस डिजाइन को काट कर shoe पर लगाया जाता है।
सिलाई करना – इन सब के बाद jute को सिला जाता है जिससे उसमें मजबूती आ सके ऊपर के हिस्से और सभी हिस्सों को मजबूती से सिला जाता है।
हील को फिट करना – ऊपर के हिस्सों को जोड़ने के बाद,इसमे heel को जोड़ा जाता है।
Shoe के बहार की side सिलाई – इसके बाद जूते के बाहर की साइड सिलाई की जाती है और यह सिलाई डिजाइन और मजबूती के काम करती है।
Testing – जूते को बनाने के बाद इसका test किया जाता है, जिससे इसकी मजबूती को नाप सके और हर स्थिति में इसका test किया जाता है।
Packing – इसके बाद shoe को pack किया जाता है। तथा इस पर sticker एंड tag लगाया जाता है।

जूते बनाने का बिजनेस के लिए लाइसेंस

किसी भी बिजनेस को शुरू करने से पहले उस बिजनेस से संबंधित जरूरी रजिस्ट्रेशन करवाना जरूरी होता है इसलिए बिजनेस शुरू करने से पहले अपने शहर के जरूरी नियमों की जानकारी हासिल कर लें और जरूरी रजिस्ट्रेशन करवा लें इसके लिए आपको अपने शहर के नगरनिगम, जिला पंचायत, आदि का भ्रमण करने के बाद जरूरी जानकारी हासिल हो जाएगी इसके बाद आपको अपनी कंपनी का नाम और कंपनी किस प्रकार की है, इसका रजिस्ट्रेशन भी करवाना पड़ेगा कंपनी का रजिस्ट्रेशन एक तरह से अनिवार्य होता है, क्योंकि बिना रजिस्ट्रेशन के कोई भी व्होलसेलर आपके प्रोडक्ट को नही बेचेगा

जूते बनाने का बिजनेस शुरू करने के लिए कैसी लोकेशन होनी चाहिए

किसी भी बिजनेस के लिए उसकी लोकेशन बहुत अहमियत रखती है क्योंकि बिजनेस की सफलता इस बात पर निर्भर करती है कि, आपके बिजनेस के लिए आस पास का बाजार अनुकूल है या नही आप जहां भी अपने बिजनेस के शुरुआत करें, वहां से ट्रांसपोर्ट का साधन जरूर देख लें जूतों का बिजनेस एक ऐसा बिजनेस है, इसके लिए आपको बहुत बड़ी जगह की जरूरत नहीं होती है

आप आसानी से इस बिजनेस को किराए की बिल्डिंग में भी शुरू कर सकते हैं आप चाहे तो किसी पुरानी फैक्ट्री से भी जूते बनाने का बिजनेस को शुरू कर सकते हैं जूते बनाने का बिजनेस की शुरुआत में आपको 1 बड़े हाल की जरूरत पड़ेगी, जिसमे आपका पूरा प्रोडक्शन का काम होगा इसके साथ ही आपको एक छोटा सा ऑफिस भी बनवाना पड़ेगा, जिसमे आपके बिजनेस से संबंधित प्लानिंग आदि की सारी गतिविधियां होगीं

इसके साथ ही आपको कम से कम दो स्टोरेज रूम की जरूरत पड़ेगी, जिसमे एक रूम में आप जूते से संबंधित कच्चा माल रखेंगे, वही दूसरे स्टोरेज में आप अपना तैयार किया गया उत्पाद रखेंगे इस तरह से आपको कम से कम कुल 4- 5 हाल, कमरे की जरूरत पड़ेगी जूते बनाने का बिजनेस में यह महत्वपूर्ण नही है की यह ग्रामीण इलाके में हो रहा है, या शहरी इलाके में इसलिए आप अपनी सुविधा के हिसाब से किसी भी स्थल का चुनाव कर सकते हैं आप जिस भी जगह का चुनाव रखें, वहां इस बात का ध्यान जरूर रखें कि वहां पर 3 फेज का मीटर जरूर लगा होना चाहिए, क्योंकि इस बिजनेस मी आपको कई मशीनों को चलाना पड़ता है

जूते बनाने का बिजनेस के लिए आवश्यक मशीनरी

जूते भी कई अलग अलग तरह के मटेरियल से बनते हैं ,जिसमे अलग तरह के मशीनरी की जरूरत पड़ सकती है जूते सामान्यतः लेदर, रैग्जीन, आदि मटेरियल से बनते हैं इनमे सामान्यतः एक ही तरह ही मशीनरी का उपयोग होता है यदि कुछ बदलाव होते हैं तो वो ज्यादा नही होते हैं

इस बिजनेस को शुरू करने के लिए आपको निम्न लिखित मशीनरी की जरूरत पड़ेगी

2 कटिंग बोर्ड 20000/ रु

2 अपर स्टीचिंग फ्लैट मशीन 50000 रु

अपर के लिए टूल्स 50000 रु

बॉटम के लिए टूल्स 50000 रु

फिनिशिंग टूल्स 50000 रु

शोल प्रेस टूल्स 100000 रु

ग्राइंडर 100000 रु

ज़िग जैग मशीन

जनरेटर

कंप्रेसर 50000 रु.

कटिंग प्रेस मशीन ( क्लिकिंग मशीन) 300000 रु

1 स्क्विइंग मशीन 40000 रु

उपयोग में आने वाला रॉ मटेरियल

जितने तरह के shoes बनते है उतने ही तरह के material का इस्तेमाल किया जाता है,जिन में से कुछ बहुत मुश्किल से मिलते है और कुछ बहुत ज्यादा खर्चीले होते है। इनके बारे में नीचे जानकारी दी गयी है

TPR मटेरियल – ये मटेरियल प्लास्टिक और leather के बीच का मटेरियल होता है। इसका उपयोग सोल बनाने में किया जाता है।
Rubber – इसका उपयोग भी सोल बनाने में किया जाता है।
PVC मटेरियल – इसका उपयोग भी sole बनाने के लिए किया जाता है।
Adhesive – इसका उपयोग sole और shoe के ऊपर के हिस्से को जोड़ने के लिए किया जाता है।
Leather – यह shoe बनाने के लिए एक बहुत महत्वपूर्ण मटेरियल है।
Rexene – इसका उपयोग inner sole बनाने में किया जाता है।
Heel – यह प्लास्टिक और लकड़ी की बनती है तथा यह shoe के outer sole पर लगाया जाता है।
Fittings and Decorative Items – e.g. buckles, rings, diamonds, elastic
Threads – shoes को सिलने के लिए इसका इस्तेमाल किया जाता है।
Color – इसका उपयोग shoe को रंग देने के लिए किया जाता है।
Dye – रँगने के लिए इसका उपयोग करते है।
Neolite – यह hard प्लास्टिक होता है इसलिए इसका उपयोग heel बनाने के लिए किया जाता है।
Packing Material – boxes, cartons, tissue papers, tags, barcode labels
Finishing Material – polish, lacre, waxes
Nails – इसका उपयोग shoe में heel की position को set करने के लिए किया जाता है।
Foil paper –  इसका उपयोग tag को add करने के लिए किया जाता है।

इस तरह से एक जूता लगभग 200 से 250 रु तक तैयार हो जाता है

जूते बनाने का बिजनेस शुरू करने में कितने इन्वेस्टमेंट की जरूरत पड़ेगी ( Investment )

जूते बनाने का बिजनेस को शुरू करने में सबसे ज्यादा खर्च मशीनरी खरीदने में होता है क्योंकि यदि आप बड़े स्केल पर प्रोडक्शन करना चाहते हैं तो आपको सभी तरह की मशीनरी खरीदनी ही पड़ेगी इस प्रकार आप मशीनरी का कुल खर्च देखे तो यह करीब 5 से 8 लाख के बीच पड़ जाता है यदि किराये की जगह लेकर यह बिजनेस शुरू करते हैं तो आपको करीब हर माह 25 हजार रु किराये का खर्च अलग पड़ जाता है इसके अलावा रॉ मटेरियल आदि का खर्च मिलाकर यह करीब 10 से 15 लाख तक का इन्वेस्टमेंट बन जाता है

जूते बनाने का बिजनेस से कितना प्रॉफिट कमाया जा सकता है

जूते बनाने का बिजनेस एक ऐसा बिजनेस है, जिसमे कमाई का कोई निश्चित ग्राफ नही है इस बिजनेस के द्वारा पैसा और नाम कमाया जा सकता है एक सेट जूते को बड़े ही आसानी से 300 रु तक बेच सकते हैं इसके साथ ही आप चाहे तो किसी बड़ी शॉप से टाई अप करके अपने 1 उत्पाद ऊँचे दामों पर बेचा जा सकता है इस तरह कुछ वक्त बाद से आप हर माह 50,000 से भी ज्यादा महीने का कमा सकते हैं

Thank you….

8 Comments

Add a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: