Class 10th के बाद Science लेने के फायदे सम्पूर्ण जानकारी

जानिए क्लास 10th के बाद Science Subject लेने के क्या फायदे हो सकते है साइंस में करियर कैसे बनाये पूरी जानकारी

क्लास 10th में आते ही सबसे पहले बच्चों के mind में एक ही बात आती है की अगले साल क्लास 11th में क्या स्ट्रीम ली जाये ? यह बहुत ही कठिन decision होता है की 11th में क्या स्ट्रीम select की जाये। वैसे तो तीन options available होते है और सभी स्ट्रीम से अच्छा भविष्य बनाया जा सकता है पर साइंस को एक complete एजुकेशन माना गया है। साइंस स्ट्रीम भी दो part में बाटी होती है –

1). PCM (Engineering)

2). PCB (Medical)

यह सच है कि अगर कोई छात्र पढ़ाई में औसत है तो वह विज्ञान से दूर भागता है, लेकिन जब वह रुचि लेना शुरू करता है तो विज्ञान बहुत मजेदार विषय होता है।

क्यू विज्ञानं विषय – (Science Stream)

• माता-पिता और छात्रों दोनों में ही विज्ञानं स्ट्रीम सबसे लोकप्रिय और पसंदीदा कैरियर विकल्प है।

• विज्ञान स्ट्रीम इंजीनियरिंग, चिकित्सा, आईटी जैसे कई आकर्षक कैरियर विकल्प प्रदान करता है और आप अनुसंधान भूमिकाओं का option भी चुन सकते हैं।

• साइंस स्ट्रीम लेने का सबसे अच्छा फायदा है, यह आपके लिए बहुत सारे विकल्पों को खुला रखता है। आप विज्ञान से वाणिज्य या विज्ञान से कला में भी जा सकते हैं। लेकिन आर्ट्स या कोम्मेर्स स्ट्रीम से साइंस स्ट्रीम में जाना संभव नहीं है।

• विज्ञान स्ट्रीम लेना आपको उत्कृष्ट समस्या सुलझाने की क्षमताओं से लैस करता है।

• विज्ञान और गणित अच्छी भुगतान वाली नौकरियों को पूरा करने में सक्षम बनाता है।

• विज्ञान मजेदार, अद्भुत और आकर्षक है। जैसा कि एडवर्ड टेलर ने सही कहा है

“आज का विज्ञान कल की तकनीक है।”

क्या है साइंस स्ट्रीम?

विज्ञान स्ट्रीम अक्सर उन लोगों द्वारा पसंद की जाती है जो 12 वीं के बाद व्यावसायिक पाठ्यक्रमों को आगे बढ़ाने के इच्छुक हैं। विज्ञान स्ट्रीम में प्राथमिक विषय में भौतिकी, रसायन विज्ञान, जीव विज्ञान, गणित और कंप्यूटर विज्ञान हैं। अन्य विषयों में, अंग्रेजी अनिवार्य है जबकि अन्य भाषा विषय पसंद के लिए छोड़ दिया जाता है।

अगर आप रटने से ज्यादा समझने पर विश्वास रखते है तो साइंस स्ट्रीम बेस्ट है। साइंस आपको थेओरिटिकल नॉलेज के साथ साथ प्रैक्टिकल नॉलेज भी देता है। यह प्रूफ देता है हर बात की। विज्ञान एक विशाल क्षेत्र है और लगभग हर चीज की चिंता है जिसे हमारी आंखें देख सकती हैं या नहीं देख सकती हैं। ब्रह्मांड में हर चीज का अध्ययन विज्ञान के क्षेत्र के तहत किया जा सकता है।

विज्ञानं विषय चुनने से पहले निम्न बातों को समझना जरुरी है –

  1. क्या विषय गणित को समझने की अच्छी क्षमता है।
  2. क्या आप किसी विषय को अच्छे से विशलेषण कर सकते है।
  3. क्या आप अपनी पढाई को अच्छे से समय दे सकते है।
  4. क्या आप थ्योरी के साथ साथ पतराक्टिकल ज्ञान पर भी भरोसा रखते है।
  5. क्या आप गणित के आंकडो को पढने, समझने व उनके साथ खेलने का हूनर रख सकते है।
  6. क्या आप केमिस्ट्री की एक्वेशन्स को समझने में इंटरेस्ट रखते है।
  7. क्या आप फिजिक्स में लॉजिक्स को समझ सकते है।
  8. क्या आप बायोलॉजी के टर्म्स याद रख सकते है।
  9. क्या आप फिजिक्स के कॉन्सेप्ट्स को अपनी दैनिक लाइफ में महसूस कर सकते है

10th के बाद science stream 

अगर आप कक्षा 10 के बाद science लेने की सोच रहे है तो आपके लिए यह एक अच्छा विकल्प साबित हो सकता है। इस विषय को आप आसानी से पढ व समझ सकते है। यह विषय थ्योरिकल से ज्यादा पे्रक्ट्रिल है। इस विषय मे पढने से कम समझने की जरूरत है। विज्ञान स्ट्रीम में बहुत ज्यादा म्हणत और लगन से पढ़ने की जरुरत होती है।

साइंस stream के विषय –

फिजिक्स (Physics)

कक्षा 11-12 के स्तर पर फिजिक्स का अध्ययन करने से आपको वैचारिक समझ, रचनात्मक सोच और समस्या को सुलझाने के कौशल के साथ-साथ अवलोकन, विश्लेषणात्मक, खोजी और निर्णय लेने के कौशल को विकसित करने में मदद मिलेगी।

Career option – फिजिक्स का अध्ययन करने के बाद कई प्रकार के करियर विकल्प उपलब्ध हैं, जिनमें एक फिजिक्स विज्ञानी, अंतरिक्ष यात्री, डेटा वैज्ञानिक, तकनीशियन और इंजीनियर के रूप में काम करना शामिल है।

केमिस्ट्री (Chemistry)

ब्रह्मांड में सब कुछ परमाणुओं और पदार्थों से बना है, और रसायन विज्ञान का अध्ययन परमाणु संरचना और रासायनिक प्रतिक्रियाओं से प्रभावित परिवर्तनों सहित संरचना, गुणों और पदार्थ की संरचना के अध्ययन पर आधारित है। आपके द्वारा अध्ययन किए जाने वाले विषयों के उदाहरण हैं:

Chemical Bonding and Molecular Structure

Chemical Thermodynamics

Organic Chemistry

Chemical Kinetics

Surface केमिस्ट्री

Career option – रसायन विज्ञान का अध्ययन करने के बाद करियर के विकल्प में अनुसंधान, फार्मास्यूटिकल्स, स्वास्थ्य देखभाल के रूप में प्रयोगशाला वैज्ञानिक, रासायनिक इंजीनियर, जैव रसायन, स्वाद रसायनज्ञ, विश्लेषणात्मक रसायनज्ञ आदि शामिल हैं।

मैथ्स (Maths)

गणित नंबरों का एक विज्ञान है और अक्सर छात्रों को इस विषय से नफरत ही रहती है, और कभी-कभी वास्तुकला, कला, इंजीनियरिंग हर जगह मैथ्स है। बड़ी बड़ी बिल्डिंग, ब्रिड्जस सभी जगह मैथ्स है। एक विषय के रूप में, गणित मात्रा, परिवर्तन, संरचना और स्थान की अवधारणाओं पर केंद्रित है।

Career option – कक्षा 11-12 में गणित का अध्ययन करने से वाणिज्य के क्षेत्र में कई तरह के करियर विकल्प खुलते हैं। कैरियर विकल्पों में इंजीनियरिंग, कंप्यूटर विज्ञान, बीमा, सांख्यिकी, अर्थशास्त्र, बैंकिंग, अकाउंटेंसी आदि शामिल हैं।

बायोलॉजी (Biology)

कक्षा 11-12 के स्तर पर जीव विज्ञान का विषय वास्तविक जीवन प्रौद्योगिकी, पर्यावरण, कृषि, स्वास्थ्य और उद्योग के साथ विषय के अध्ययन को जोड़ने के साथ एक दृढ़ वैचारिक आधार प्रदान करने पर केंद्रित है।

Career option – जीव विज्ञान का अध्ययन करने के बाद कैरियर के अवसर काफी हैं, जिसमें एमबीबीएस या आयुर्वेद या होम्योपैथी, चिकित्सा का सबसे लोकप्रिय मार्ग भी शामिल है। चिकित्सा के अलावा, आप जैव प्रौद्योगिकी, दंत चिकित्सा, पशु विज्ञान, फार्मास्यूटिकल्स, वनस्पति विज्ञान, जंतु विज्ञान, समुद्री जीव विज्ञान, आनुवंशिकी, जैव सूचना विज्ञान, सूक्ष्म जीव विज्ञान, और अधिक जैसे कैरियर पथों का पीछा कर सकते हैं।

यह भी पढ़े : 12th पास साइंस छात्रों के लिए सरकारी नौकरी

साइंस स्ट्रीम क्यों बेस्ट मानी जाती है?

जब कोई छात्र फिजिकल और केमिकल साइंस जैसे विषयों का अध्ययन करता है, तो यह दुनिया की उनकी समझ, प्रभाव, कारण(reasoning capability)आदि को बढ़ाता है। इससे उन्हें अपने आसपास की हर चीज के बारे में वैज्ञानिक ज्ञान और सिद्धांत विकसित करने में मदद मिलती है।

विज्ञान प्रगतिशील और असाधारण विकास का कारण बनता है। इसने कई बीमारियों का इलाज खोजने, जागरूकता बढ़ाने और हमारे लिए कभी खत्म ना वाली संभावनाएं पैदा करने में लोगों को सहायता प्रदान की है।

CBSE साइंस syllabus में अनगिनत क्षेत्रों में कई ऐप्लिकेशन या प्रयोग हैं और जेईई और एआईपीएमटी जैसी competitive exams के लिए बैठने के अवसर खोलते हैं।

विज्ञान आस-पास के atmosphere से छात्रों के जीवन को सुन्दर बनाने ऊँचा उठाने और उनकी समझ को व्यापक बनाने में मदद करता है, यह एक ऐसा विषय है जो कि अपने scholars कठिन से कठिन समस्या-सुलझाने की क्षमताओं और बहुत अधिक एक सोंच को आकार देने में एक अहम किरदार निभाता है I

ग्लोबल वार्मिंग, बर्ड फ्लू, आनुवंशिक रूप से संशोधित खाद्य पदार्थ, तेल की कमी, परमाणु ऊर्जा, एमएमआर टीके और जीन थेरेपी जैसी अवधारणाओं के साथ, भविष्य के वैज्ञानिकों की एक महत्वपूर्ण और महत्वपूर्ण भूमिका है।

विज्ञान और गणित के छात्र बहुत ज़्यादा कौशल वाले होते हैं क्योंकि साइंस तार्किक और तथ्य पढ़ते हैं इसलिए वो किसी भी तरह के काम को बड़ी कुशलता से कर सकते हैं। यही कारण है कि साइंस के छात्र को highly respective और ज़्यादा सैलरी वाली जॉब्स मिलती हैं जो उनका भविष्य असुरक्षित करने मदद करती है

इंजीनियरिंग (IIT, JEE, NIT, BIT), मेडिकल (AIIMS, CMC, AIPMT) या बेसिक साइंस (IISc), भारत में विश्व स्तर के संस्थान हैं जहाँ छात्र उच्च शिक्षा प्राप्त कर सकते हैं।

विज्ञान विषय के लाभ (advantages of science stream)

उत्साह से भरपूर

साइंस एक ऐसा विषय है कि जिसमे आप कभी बोर नहीं होते हैं। अगर आप साइंस स्ट्रीम में जॉब करेगें तो ये आपकी 9 से 5 घण्टे की बंधी हुई जॉब नहीं होती है इसमें आपको हर रोज कुछ नया सीखने मिलता है ये एक तरह की चुनौतियों उत्साह से भरी हुई जॉब होती है

आप अपने देश के लिए योगदान

हर व्यक्ति को डॉक्टर और इंजीनियर की जरुरत रहती है और इस विषय में आपके लिए कुछ अविष्कार और रिसर्च के दरवाज़े खुले रहते है ऐसा कर के आप लोगों की जिंदगियों को आसान बना सकते हैं

करियर ऑप्शन

ये ऐसा विषय है जिसमे करियर ऑप्शन आपको सबसे अधिक देखने को मिलेंगे इसमें आप एक क्लर्क से लेकर साइटिस्ट तक बन सकते है

पर्यावरण का ज्ञान और ध्यान

अगर आप साइंस विषय लेते है तो इसमें आपको पर्यावरण की जानकारी दी जाती है जिससे आप अपने पर्यावरण का खयाल अच्छे से रख सकते है

सरकार ने सबसे अच्छे कॉलेज और इंस्टीट्यूट साइंस विषय के क्षेत्र में बनाएं है जैसे आईआईटी,एआईआईएमएस,मेडिकल कॉलेजेस अगर ऐसे में आप किसी कॉलेज में एडमिशन लेते है तो आपको अच्छे कॉलेज में पढ़ने का अनुभव होगा

साइंस विषय लेने की हानियां

तनाव स्ट्रेस एंड प्रेशर

साइंस विषय का विद्यार्थी हमेशा ज्यादा और कठिन विषय होने की और लगातार पढ़ाई करने की शिकायत करता रहता है विद्यार्थी कंपीटीशन, एंट्रेस एक्जान और बोर्ड एग्जाम में अच्छे मार्क्स लाने की चिंता के कारण स्ट्रेस और प्रेशर में रहता है।

कोई अन्य गतिविधियां नहीं (No other activities)

साइंस स्ट्रीम का विधार्थी अपना ज्यादा समय पढ़ाई में देने के कारण सामाजिक गतिविधियों से दूर होता जाता है जैसे की उसका लोगो से मिलना जुलना शादी पार्टी में जाना ना के बराबर हो जाता है और उसे अपने शौक पूरे करने का और दोस्तों से मिलने का भी पर्याप्त समय नहीं मिलता है

अधिक खर्चीला (Costly)

अगर आप साइंस स्ट्रीम में उज्ज्वल भविष्य बनाना चाहते है तो इसके लिए बहुत पैसा खर्च करने की जरूरत होती है। इस विषय का सिलेबस इतना मुश्किल होता है कि आप इसे घर पर पूरा नहीं कर सकते है जिसके लिए आपको स्कूल कॉलेज में तो मोटी फीस देनी ही होती है साथ में अच्छी कोचिंग की भी फीस देनी होती है

टाइम कम्स्यूमिन

इसमें आपको पढ़ाई के लिए तो अपना पूरा समय देना ही होता है लेकिन अगर आप किसी एंट्रेंस एग्जाम की तयारी कर रहे है तो उसके लिए आपको 12वी के बाद अपने कॉलेज को ड्रॉप करना पड़ सकता है क्योंकि एंट्रेंस एग्जाम की तयारी में काफी समय लगता है

असफलता अवसाद का कारण (failure lead to depression)

इतनी तयारी,समय और पैसा, तनाव खर्च होने के बाद यदि आप फेल हो जाते है तो कभी कभी विधार्थी डिप्रेशन का भी शिकार हो जाते हैं और मनोचिकित्सक बीमारियां उनके पीछे लग जाती हैं इनसे बचने के लिए हमेशा एक बैकअप प्लान बना कर चले। अगर एंट्रेंस में फेल हो गया तो दूसरे बहुत कोर्सेस है उन में से अपने रुचि के अनुसार कोर्स में अपना करियर बनाएं या प्राइवेट कॉलेज में एडमिशन ले ले।

यह भी पढ़े :

Class 10th के बाद commerce लेने के फायदे

Class 10th के बाद Students क्या करे

One Comment

Add a Comment

Your email address will not be published.

error: