पेपर मैन्युफैक्चरिंग बिजनेस कैसे शुरू करें | Paper Manufacturing Business Ideas In Hindi

पेपर हमारे जीवन का एक महत्वपूर्ण हिस्सा है । किसी भी चीज़ को लिखित रूप से करने के लिए पेपर का इस्तेमाल बहुत जरूरी होता है।पेपर का इस्तेमाल दुनिया के हर कोने में होता है चाहे वो स्कूल , कॉलेज, ऑफिस,हॉस्पिटल हो या सरकारी दफ़्तर और सबसे अच्छी बात यह है कि पेपर को रिसाइकिलिंग भी किया जा सकता है मतलब इससे पर्यावरण को कोई नुकसान नही पहुंचता है। आजकल तो Paper Manufacturing Business के साथ साथ पेपर के बैग, पेपर कप,टिशू पेपर ,पेपर प्लेट आदि का निर्माण भी किया जा रहा है।आने वाले समय में प्लास्टिक का इस्तेमाल पूरी तरह से बंद होने वाला है क्योंकि प्लास्टिक से पर्यावरण को काफी नुकसान पहुंचता है।

अतः अगर आप भी बिजनेस करने के बारे में सोच रहे हैं तो पेपर मैन्युफैक्चरिंग बिजनेस एक बेहतरीन बिजनेस आईडिया है।अब ज्यादातर लोग प्लास्टिक के जगह पर पेपर का इस्तेमाल करते है जिससे पेपर की डिमांड भी काफी है। आज हम आपको बताने वाले है पेपर मैन्युफैक्चरिंग बिजनेस बिजनेस के बारे में ताकि अगर आप भी इस बिजनेस को शुरू करना चाहते हैं तो आपको पूरी जानकारी मिल सके। 

इन्वेस्टमेंट

किसी भी बिजनेस को शुरू करने के लिए सबसे पहले उसमे लगने वाली लागत यानी इन्वेस्टमेंट के बारे में जानना बहुत जरूरी होता है। पेपर मैन्युफैक्चरिंग बिजनेस बड़े उद्योगों में से एक है इसलिए इसमें बड़े पैमाने पर इन्वेस्टमेंट करने की जरूरत पड़ती है।इस बिजनेस में आपको फैक्ट्री के लिए कम से कम 50 से 80 लाख तक इन्वेस्ट करने पड़ सकते हैं। इसके अलावा मशीन, कच्चा माल, मार्केटिंग, ट्रांसपोर्ट, कर्मचारियों , पावर सप्लाई , पानी की सप्लाई , फैक्ट्री के लिए लाइसेंस, फर्नीचर, आदि पर भी खर्च करना पड़ता है। 

फैक्ट्री के लिए लाइसेंस

किसी भी बड़े या छोटे उद्योग को करने के लिए आपको भारतीय नियमो के अंतर्गत लाइसेंस लेने की आवश्यकता पड़ती है। पेपर मैन्युफैक्चरिंग बिजनेस के लिए आपको  जीएसटी (GST) , उद्यम (UDYAM) ,फैक्ट्री लाइसेंस (Factory License) और फायर पॉल्युशन बोर्ड से ऐनओसी (NOC from Fire Pollution Board ) की आवश्यकता होती है जिसके बिना आप इस बिजनेस को शुरू नही कर सकते हैं।

फैक्ट्री के लिए जगह

पेपर मैन्युफैक्चरिंग की गिनती बड़े उद्योगों में होती है। पेपर मिल के लिए आपको बड़े जगह की आवश्यकता होती है। इसके लिए आपको 40000 Sq. ft. जगह की जरूरत पड़ती है। इसके अलावा स्टोरेज टैंकर जैसी जरूरतों के लिए आपको 30000 Sq. ft.  के खुले जगह की भी जरूरत पड़ेगी।

बिजली की आपूर्ति 

किसी भी बड़े उद्योग को चलाने के लिए ज्यादा मात्रा में पावर सप्लाई की आवश्यकता होती है।पेपर मैन्युफैक्चरिंग बिजनेस के लिए आपको अनुमान 300 kw बिजली की आवश्यकता पड़ती है । 

कच्चे माल की आपूर्ति

कच्चे माल की अगर बात करें तो पेपर मैन्युफैक्चरिंग बिजनेस के लिए जरूरी कच्चा माल जो लगता है वो है रद्दी पेपर (Scrap paper ) । इसके लिए आपको रद्दी वालों यानी जो स्क्रैप पेपर देते हैं उनसे संपर्क करना पड़ता है ताकि बड़ी मात्रा में आपको स्क्रैप पेपर मिल जाए।।इसके अलावा जो केमिकल्स प्रोडक्ट है वो आपको मार्केट में उपलब्ध हो जाते हैं। 

पेपर मैन्युफैक्चरिंग में लगने वाला कच्चा माल

पेपर मैन्युफैक्चरिंग में कच्चे माल के रूप में स्क्रैप पेपर यानी रद्दी पेपर का इस्तेमाल किया जाता है। इसके अलावा  पलपिंग केमिकल्स (Pulping chemicals) ,मेकअप फिलर्स(Make up fillers) ,  वुड्स केमिकल्स (Woods chemicals) , कास्टिक सोडा(Caustic Soda),सोडियम सल्फाइट (Sodium sulphite) ,ब्लीच (Bleach) आदि की भी जरूरत पड़ती है।

मशीनें

पेपर मैन्युफैक्चरिंग बिजनेस के लिए मशीन एक बहुत जरूरी हिस्सा है। पेपर बनाने के लिए आपको कई तरह की बड़ी मशीनों की आवश्यकता पड़ती है। जिनमें हेड बॉक्स (Head Box) ,ब्रेस्ट रोलर ( breast roller), डॉली रोलर (dolly roller), फेल्ट ड्राईयर (felt dryier), हीटेड ड्राईयर (Heated dryier), मिक्सर मशीन(Mixture Machine) ,रोलर मशीन(roller Machine),स्टोरेज टैंक ( storage tank), फोर ड्रिनिर मशीन (Four drinier machine ) ,स्पिनिंग सिलेंडर (Spining cylinder) आदि है।

कर्मचारियों की नियुक्ति

पेपर मैन्युफैक्चरिंग बिजनेस के लिए आपकी दूसरी बड़ी जरूरत होती है अनुभवी कर्मचारियों की जो आपके बिजनेस को अच्छे से चलाने में मदद कर सकें। इस बिजनेस के लिए आपको प्रोडक्शन स्टाफ और ऑपरेशनल स्टाफ की जरूरत पड़ती है। प्रोडक्शन स्टाफ फैक्ट्री में पेपर बनाने वाली मशीनों के संचालन से लेकर उसे बनाने तक का काम देखते हैं वंही दूसरी ओर ऑपरेशनल स्टाफ एकाउंटिंग, मार्केटिंग, एडमिन , डिस्ट्रीब्यूशन का काम देखते है। पेपर मैनुफैक्चरिंग बिजनेस के लिए आपको बहुत ज्यादा कर्मचारियों की जरूरत नही पड़ती है।

Paper Manufacturing Business प्रोसेस की पूरी जानकारी

किसी भी बिजनेस को आप सही तरीके से तभी चला पाएंगे जब आपको उस बिजनेस की पूरी जानकारी हो जिसके बारे में आज हम आपको विस्तार से बताने वाले हैं। बहुत सारी प्रक्रियाओं के बाद पेपर बनता है। इसके लिए कई प्रोसेस होते है ।

  • फॉर्मिंग सेक्शन (Forming Section)

इसमें स्क्रैप पेपर्स को पावर पलपिंग मशीन में डाला जाता है। केमिकल्स और पानी की मदद से पेपर को पल्प में बदल लिया जाता है।पेपर पल्प को इसके बाद पेपर फिल्टरेशन मशीन में डाला जाता है। जहाँ से पेपर पल्प की सारी गंदगी को हटाया जाता है। साफ किये हुए पेपर पल्प को पेपर पल्प वाशिंग मशीन में डाला जाता है जिससे केमिकल्स और बाकी की की गंदगी भी साफ हो जाती है

इसके बाद पल्प को ब्लीचिंग टैंक में डाला जाता है जहां से बाकी गंदगी को भी पूरी तरह से निकाल लिया जाता है और पेपर पल्प को स्टोरेज टैंक में रख लिया जाता है जंहा से पेपर पल्प को पेपर बनने के लिए भेजा जाता है।

  • प्रेस सेक्शन (Press Section)

यंहा पल्प को हैडबॉक्स के रोटेटिंग वायर के बीच में से हाई प्रेशर में डाला जाता है जो पल्प को गैप फॉर्मर में ले जाती है जहाँ से ज्यादातर पानी निकाल जाता है।

  • वेट सेक्शन (Wet section)

इसके बाद वेट पेपर को वेट फ़िल्टर रोलर्स  मशीन में डाला जाता है जिसमे रोलर दबाव की मदद से बचे हुए पानी को बाहर निकाल देते है।

  • साइज प्रेस सेक्शन (Size press section)

यहां पेपर हीटेड  रोलर सेक्शन (Heated roller section) में जाता है। जंहा से पूरी तरह से  सूखने के बाद पेपर की मोटाई निर्धारित  की जाती है। इसके बाद तैयार शीट  को जम्बो रोलर(Jumbo roller) में लपटे कर पेपर कोटिंग मशीन (Paper  coating machine) में डाल दिया जाता है। 

  • रिल सेक्शन (Reel section)

यंहा तैयार पेपर को जम्बो रोलर (Jumbo Roller )  में लपेटकर पेपर रोल रिवाइनडिंग मशीन (Paper roll rewinding machine) में  डाला जाता है।जहाँ से पेपर शीट की क्वालिटी चेक कर ली जाती है और तैयार पेपर को बाजार में भेज दिया जाता है।

ट्रांसपोर्ट

पेपर मैन्युफैक्चरिंग बिजनेस के लिए ट्रांसपोर्ट भी एक जरूरी हिस्सा है। कच्चा माल फैक्ट्री में लाने से लेकर तैयार पेपर्स को मार्केट में भेजने के लिए ट्रांसपोर्टेशन की आवश्यकता पड़ती है। इसके लिए आप लोकल ट्रांसपोर्टर से संपर्क कर सकते हैं।

मुनाफा 

अगर मुनाफे की बात करें तो पेपर मैन्युफैक्चरिंग बिजनेस बड़े पैमाने में होने वाले उद्योग में से एक है। इससे होने वाला मुनाफा भी ज्यादा होता है। यह मुनाफा पेपर की प्रोडक्शन और उसकी डिमांड पर निर्भर करता है। अनुमानन आप इस बिजनेस से महीने में 20 से 25 लाख तक का मुनाफा कमा सकते है।

पेपर मैन्युफैक्चरिंग बिजनेस में आप कौन कौन से पेपर के प्रोडक्ट्स बना सकते हैं

हमारे द्वारा बताई गई पूरी जानकारी पेपर बनाने के लिए दी गई है । इसके अलावा पेपर के कप, पेपर प्लेट, टिशू पेपर, नैपकिन, पेपर बैग, पेपर स्ट्रॉ, नोटबुक  आदि का भी निर्माण किया जाता है। पेपर मैनुफैक्चरिंग साइज के अनुसार भी किया जाता है जैसे A4, A5 आदि। 

अन्य पढ़े :

LED Bulb Manufacturing Business कैसे शुरू करें

प्लाईवुड Manufacturing Business कैसे शुरू करें

Paper Plate Manufacturing Business कैसे शुरू करें

Share this:

Add a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: