टिश्यू पेपर बनाने का बिजनेस कैसे शुरू करें | Tissue Paper Making Business In Hindi

Tissue Paper Making Business शुरू करें और कमाएं लाखों

Tissue Paper Making Business आज के समय में शुरू करना सबसे बेहतरीन हो सकता है। बदलता समय लोगों की बदलती सोच को दिखाता है, जहां सभी अपने साफ सफाई और अपने स्वास्थ्य का ध्यान रखते हैं इसके कारण टिश्यू पेपर की डिमांड काफी बढ़ चुकी है। पहले Paper Napkin केवल शहरों तक सीमित था लेकिन अब गांव के लोगों की मॉडर्न सोच ने गांव में भी टिश्यू पेपर का इस्तेमाल करना शुरू कर दिया है। 

Tissue Paper Making Business शुरू करने के कई कारणों में से सबसे प्रमुख कारण यही है की यह बेहद कम लागत में ज्यादा मुनाफा देने वाला बिज़नेस है, क्योंकि टिश्यू पेपर (Paper Napkin) का इस्तेमाल हर जगह होता है जैसे की होटल, ढाबा, रेहड़ी, ऑफिस और यहां तक कि घर के खाने के मेज के ऊपर भी टिश्यू पेपर ने अपनी जगह बना ली है। इस ब्लॉग पोस्ट के जरिए जानेंगे की टिश्यू पेपर बनाने का बिज़नेस कैसे शुरू करें और इससे संबंधित हर तरह की जानकारी।

Tissue Paper Making Business क्या है

टिश्यू पेपर को कागज़ी रुमाल भी कहा जा सकता है जिसका इस्तेमाल ज्यादातर खाना खाने के बाद मुंह हाथ को साफ करने के लिए किया जाता है। पानी की अहमियत को समझते हुए टिश्यू पेपर की मांग हर क्षेत्र में बढ़ी है। 

टिश्यू पेपर मेकिंग बिज़नेस में पेपर नैपकिन बनाया जाता है ताकि बिज़नेस ऑनर इस ‘कागज़ी रूमाल’ को बेचकर कमाई का साधन बना सके। किसी भी व्यवसाय का एक मकसद Profit कमाना भी होता है। क्योंकि बिना प्रॉफिट के बिज़नेस की कल्पना करना ही मुश्किल है। 

Tissue Paper Making Business की शुरुआत कैसे करें

जब भी नए व्यवसाय को खोलने का जिक्र होता है तब सबसे पहले बिज़नेस ऑनर के जहन में संबंधित Business Risk का ख्याल आता है। सच्चाई यह है की रिस्क हर फील्ड में है लेकिन अगर सही से प्लानिंग करें तो रिस्क को खत्म या कुछ हद तक कम किया जा सकता है। निम्मिनलिख्त स्टेप्स को फॉलो करने पर Tissue Paper Making Business की शुरुआत की जा सकती है:-

1) टिश्यू पेपर का मार्केट पोटेंशियल

किसी भी व्यापार में निवेश करने का फायदा तब ही है अगर प्रोडक्ट अथवा सर्विस जो बिज़नेस के तहत प्रदान करेंगे उसकी मांग मार्केट में प्रयाप्त हो। यानी की कंपनी द्वारा बनाए गए final products बनने के बाद उसी गति में बिके ताकि प्रोडक्शन रूके नहीं। 

मार्केट में अपने टिश्यू पेपर की मांग जांचने के लिए आप सर्वे करवा सकते हैं। उन दुकानों पर जा कर पता करें जहां Paper Napkin बिकते हैं। उससे कस्टमर की पसंद का जायजा भी लगाया जा सकता है। जैसे की किस प्राइस रेंज में टिश्यू पेपर अधिक बिकते हैं। उस Paper Napkin की क्वालिटी कैसी है। यह सब इंफॉर्मेशन किसी जगह जैसे की किताब या मोबाइल में लिखकर रखें। क्योंकि यह बाद में मार्केटिंग स्ट्रेटजी बनाने में मदद करेंगे।

इसके अलावा जो कंपनी Tissue Paper Making Business run करती हैं उनसे ईमेल करके फैक्ट्री विजिट करने के लिए रिक्वेस्ट करें। कई कंपनी विजिट करने की परमिशन दे देते हैं। यह इसीलिए क्योंकि प्रैक्टिकल वर्क से बेहतर जानकारी प्राप्त होती है और जल्दी समझ भी आता है।

2) सही लोकेशन चुनें

बिज़नेस बेहतर ढंग से तभी चल पाता अगर लोकेशन सही हो। लोकेशन काफी मायने रखती है। सही लोकेशन ही आपके बिज़नेस के सफर को High Profit में बदलने की ताकत रखती है। लोकेशन चुनने के लिए आप आस पास के एरिया को कंसीडर करना जरूरी है। जैसे की जिस एरिया में बिज़नेस सेटअप करने का सोच रहे हैं वहां होटल, रेस्टियारेंट, ढाबा तक पहुंच आसान हो। रॉ मैटेरियल आसानी से लोकेशन के पास उपलब्ध हो। 

नॉट:- Tissue Paper Making Business से प्रॉफिट कमाने के लिए लोकेशन गांव की न चुनें तो बेहतर है। क्योंकि गांव में आज भी टिश्यू पेपर का इस्तेमाल काफी लिमिटेड जगह पर किया जाता है। शहर के आस पास ही लोकेशन चुनें।

3) जमीन किराएं पर लें

बिज़नेस के शुरुआती पलों में जमीन किराए पर लेना ही समझदारी है हालांकि अगर आपके पास कोई पुश्तैनी जमीन हैं तो उस पर भी अपने व्यवसाय की शुरुआत कर सकते हैं लेकिन अगर आपके पास कोई जमीन नहीं है तो शुरुआत में 13000 से 15000 प्रति माह किराए में जमीन ले लीजिए ( नॉट:- यह रेट हर अलग जगह के अलग होंगे)। उस शॉप में मशीन, रॉ मैटेरियल और फाइनल तैयार प्रोडक्ट्स को रखने की प्रयाप्त जगह हो।

4) टिश्यू पेपर मेकिंग बिज़नेस के लिए Raw Materials खरीदें

टिश्यू पेपर बनाने के बिज़नेस के लिए एक ही raw material हैं। वह है Paper Roll. पेपर नैपकिन रोल आप Indiamart.com या इसकी जैसी कई अन्य B2B website से खरीद सकते हैं। इसका एक रोल 70-75 किलो का होता है। मार्केट प्राइस इसका 50 रुपए प्रति किलो तक है हालांकि यह दाम आप quantity ज्यादा लेंगे तो रेट कम भी हो सकते हैं। 

पेपर रोल की क्वालिटी GSM (Grams per square metre) में मापी जाती है। इसमें GSM 15 क्वालिटी के पेपर सबसे ज्यादा इस्तेमाल होते हैं। इसमें सॉफ्ट और हार्ड दोनो तरह की क्वालिटी आती है।

 टिश्यू पेपर बनाने की मशीन की कीमत

टिश्यू पेपर बनाने के लिए तकरीबन दो मशीन होती है एक की कीमत है 4.25 लाख तो दूसरे की कीमत 5.40 लाख है। दोनो में फर्क यह है की 4.25 लाख वाली मशीन सिंगल कलर के लिए है और दूसरी मशीन मल्टीपल कलर के लिए होती है।

 टिश्यू पेपर बनाने की विधि

मशीन सेटअप होने के बाद टिश्यू पेपर बनाना शुरू किया जा सकता है। उसकी स्टेप्स में procedure जान लेते हैं। 

  • मशीन में रोलिंग जगह मौजूद होंगी उसमे पेपर के रोल को फिट करें, मशीन शुरू होने पर पेपर के एक हिस्सा मशीन में जाएगा।
  • पेपर अगर किसी रंग का बनाना है तो मशीन में एक कलर कंटेनर होगा उसमें वह कलर डाल लें। पेपर जैसे ही उस कंटेनर से गुजरेगा उस रंग में रंग जाएगा।
  • इससे आगे रोल का हिस्सा एम्बोस्सिंग के लिए जाता है। यह पेपर को नैपकिन की तरह बना देता है।
  • आखिरी स्टेज पर पेपर नैपकिन की तरह फोल्ड होकर कट होने लगते हैं।

दोस्तों इन स्टेप्स को फॉलो करने पर टिश्यू पेपर बनाने के बिजनेस को शुरू किया जाता है। अब हम जानेंगे की इस व्यवसाय में कुल कितने खर्च होंगे और उस एक्सपेंस को निकालकर जेब में कितना बचेगा (Profit)।

टिश्यू पेपर बनाने का बिज़नेस के लिए इन्वेस्टमेंट

पेपर नैपकिन बनाने के व्यवसाय में कुल investment 6 से 7 लाख रुपए हैं। जिसमें एक color paper napkin making machine (4.5 से 5 लाख लाख रुपए) जो की एक बार का खर्चा है। किराए की जमीन (डेढ लाख से दो लाख रुपए) इसके अलावा वर्कर्स की सैलरी सभी मिलाकर तकरीबन 6 लाख से 7 लाख का इन्वेस्टमेंट होगा। 

Tissue Paper making Business Profit

हर व्यापारी यह चाहता है की अगर वह किसी बिज़नेस में अपनी पूंजी लगा रहा है तो उसको वापस कुछ रिटर्न मिले। प्रॉफिट के बिना कोई बिजनेस नहीं। टिश्यू पेपर मशीन से एक साल में तकरीबन 1.50 लाख किलोग्राम पेपर नैपकिन बनाए जा सकते हैं। अगर प्रति किलोग्राम के कम से कम 65 रुपए के मुताबिक भी बेचें तो पूरे साल के 10 से 12 लाख की कमाई इस बिज़नेस से निकाला जा सकता है।

टिश्यू पेपर मेकिंग बिज़नेस शुरू करने के लिए जरूरी लाइसेंस

यह पोस्ट पढ़ने के बाद और इस बिजनेस से बनते प्रॉफिट के बाद हो सकता है कई इस व्यवसाय को शुरू करने का सोचें लेकिन ध्यान रहें उसके लिए निम्नलिखित लाइसेंस जरूर बनवाएं ताकि बिजनेस के लॉन्ग रन में दिक्कत न आएं।

  • बिज़नेस का रजिस्ट्रेशन
  • ट्रेड लाइसेंस
  • एनओसी सर्टिफिकेट जो पॉल्यूशन कंट्रोल बोर्ड से मिलेगा।
  • MSME पंजीकरण

टिश्यू पेपर व्यवसाय से संबंधित F.A.Q

Q.1 टिश्यू पेपर कहां और कैसे बेचें?

Ans 1. टिश्यू पेपर का इस्तेमाल सबसे अधिक खाने बेचने वाली जगह पर किया जाता है जैसे की होटल, रेस्टियारेंट, ढाबा, रेहड़ी। यहां आप इन्हें सैंपल के तौर पर दे सकते हैं। इसमें टिश्यू पेपर पर अपनी कंपनी के कॉन्टैक्ट डिटेल्स डाल कर दें सकते हैं। इसके अलावा व्होलसेल ऑफिस हाउसहोल्ड सामान बेचने वाले दुकानों के पास जाकर अपने प्रॉडक्ट को दिखा सकते हैं।

Q.2 टिश्यू पेपर बिज़नेस की मार्केटिंग कैसे करें?

Ans 2. मार्केटिंग करने के लिए अपने competitor का SWOT analysis करना बेहतर रहेगा। प्रोडक्ट के दाम और क्वालिटी बेहतरीन होगी तो marketing आसान हो जाएगी। 

Conclusion

दोस्तों इस पोस्ट के माध्यम से हमने Tissue Paper Making Business के बारे में विस्तार से जाना जैसे की यह बिज़नेस क्या है, कैसे शुरू करें और इसमें कितना खर्चा आता है कितना मुनाफा कमाना संभव है। अगर इसके अलावा भी आपके कोई सवाल हैं इस बिज़नेस से संबंधित तो आप अपने सवाल नीचे कमेंट बॉक्स में डाल सकते हैं। 

धन्यवाद।

अन्य पढ़े :

पेन बनाने का बिजनेस कैसे शुरू करें

पेपर बैग बनाने का बिजनेस कैसे शुरू करें

Paper Plate बनाने का बिजनेस कैसे शुरू करे

Add a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: