विधवा महिलाओं के लिए सरकारी योजना

2021 में सभी विधवा महिलाओं के लिए सरकारी योजना की पूरी जानकारी 

नमस्कार दोस्तों, आप सभी लोग जानते है व समझते है आज के समय में नॉर्मल लाइफ जीना आसान नही रहा है, व विधवा होने पर महिला की आर्थिक स्थिति यदि पति के भरोषे पर रहता है तब विधवा का जीवन व्यतीत आर्थिक रूप से कमजोर हो जाता है। ऐसे में सरकार द्वारा विभिन्न तरह के सरकारी योजनाओं का क्रियान्वयन हुआ है जो विधवा का जीवन आर्थिक रूप से अच्छा रहे व विधवाओं की आर्थिक स्थिति को देखते हुए सरकार द्वारा बहुत से योजना चल रही है इंदिरा गांधी विधवा पेंशन योजना, राज्य सेवा आयोग में विधवा महिला के लिए अलग से कोटा, प्रधानमंत्री सिलाई मशीन योजना व साथ ही अलग अलग राज्य द्वारा चलाये जा रहे सरकारी योजना। आज हम इस पोस्ट के माध्यम से विधवा महिलाओं के लिए सरकार द्वारा चलाए जा रहे योजना के बारे में बात करेंगे।

1) विधवा पेंशन योजना :

विधवा पेंशन योजना के तहत उन महिलाओं को पेंशन मिलता है जिनके पति की असमय मृत्यु हो जाती है व उनको आर्थिक रूप से मजबूत करने का पहल है, पेंशन सभी राज्यों में मिलता है व अलग अलग तरह से इसकी प्रक्रिया है, यह योजना विधवा महिलाओं को आर्थिक रूप से महिलाओं को मजबूत करना कि पहल है।

विधवा पेंशन योजना के लिए फॉर्म कैसे भरे :

विधवा पेंशन योजना के लिए आप आवेदन ऑनलाइन या फिर ऑफलाइन दोनों रूप में कर सकते है, ऑनलाइन आवेदन करने के लिए राज्य सरकार के आधिकारिक वेबसाइट से भरें व यदि आप ऑफलाइन भरने जा रहे है तब आप महिला बाल कल्याण विभाग से फॉर्म लेकर उसे भरकर वही जमा कर सकते है, इसका उद्देश्य विधवा महिलाओं को लाभ पहुँचाना है, राज्य सरकार विधवा महिला को एक निश्चित रूप में पैसे देती है, इसके लिए आवश्यक दस्तावेज जमा करना होता है।

2) इंदिरा गांधी विधवा पेंशन योजना :

इंदिरा गांधी विधवा पेंशन योजना के तहत पेंशन मिलने की उम्र सीमा है, 40 वर्ष से 59वर्ष तक की विधवा महिलाओं को बस पेंशन का लाभ मिलता है, इस योजना के तहत 300 रुपये की राशि हर महीने विधवा महिला की आर्थिक स्थिति समृद्ध रहे उसके लिए मिलता है। इसके लिए सिर्फ BPL कार्ड वाली महिलायें ही आवेदन कर सकती है व इस योजना का लाभ उठा सकते है।

3) महिला शक्ति केंद्र योजना 

महिला शक्ति केंद्र योजना का शुभारंभ केंद्र सरकार ने किया है, इस योजना के द्वारा महिलाओं के सरंक्षण व सशक्तिकरण करने के लिए उंब्रेला स्‍कीम मिशन के माध्यम से 2017 में महिला एवं बाल विकास द्वारा 201 संचालित किया गया है। इस योजना के तहत ग्रामीण महिलाओं को सामुदायिक भागीदारी के द्वारा सशक्‍त व इंडिपेंडेंट बनाने एवं उन सबके क्षमता के अनुरूप काम करते है साथ ही अनुभव कराने का भी काम किया जाता है। यह योजना का क्रियान्वयन केंद्र स्‍तर, राज्‍य स्‍तर व जिला स्‍तर पर हो रहा है, इस योजना के माध्यम से महिला सशक्तिकरण को बढ़ावा मिला है साथ ही विधवा महिलाओं को इस योजना के तहत सम्भल मिला है।

4) महिला ई हाट योजना 

महिला ई हाट की शुरुआत महिलाओं को आत्मनिर्भर बनाने के लिए किया गया है, इस योजना के तहत महिलाओं को स्वलम्बी बनाना है, इस योजना का मुख्य उद्देश्य घर पर रहने वाली अकेले रहने वाली महिला व विधवा महिला पर है। उन्हें लोगो को ही ध्यान में रख कर इस योजना का क्रियान्वयन हुआ है, इसके लिए महिला एवं बाल विकास मंत्रालय ने एक प्लेटफार्म तैयार किया है जिसके अनुरूप महिलाएं कार्य करती है व इसके माध्यम से महिलाएं अपने हुनर व रुचि के माध्यम से कमाई भी कर सकती हैं। बाल विकास मंत्रालय ने इस योजना का नाम महिला ‘ई-हाट’ दिया है, जो महिलाओं को स्वलम्बी बनाना है।

5) स्‍वाधार गृह योजना 

वर्तमान समय को ध्यान में रखते हुए, 2002 में कठिन परिस्थितियों में महिलाओं के पुनर्वास के लिए महिला व बाल विकास मंत्रालय ने स्वधार योजना की शुरूआत किया था, यह योजना उन महिलाओं व लड़कियों की जरूरत के मुताबिक आश्रय, भोजन, कपड़े व देखभाल प्रदान करती है, जिसको नीड अधिक है, इसके लाभार्थियों में उनके परिवारों और रिश्तेदारों, जेल से रिहा महिला कैदियों व बिना पारिवारिक सहायता, प्राकृतिक आपदाओं से बचे महिलाओं, आतंकवादी व अतिवादी हिंसा आदि महिलाओं की पीड़ित विधवाएं शामिल हैं, इसके मुख्य कार्यान्वयन एजेंसियां ​​मुख्य रूप से एनजीओ हैं जो कि विधवा महिलाओं के उत्थान के लिए नीत दिन काम कर रहा हैं।

6) प्रधानमंत्री सिलाई मशीन योजना 

2020 में प्रधानमंत्री सिलाई मशीन योजना की शुरुआत हुआ है, इस योजना का मुख्य उद्देश्य अकेले निवास करने वाली महिला या फिर विधवा महिलाओं को आत्मनिर्भर व सशक्त बनाने का एक नवीन माध्यम है, जो कि मोदी सरकार द्वारा इसे 2020 में लागू किया गया है। महिलाओं को रोजगार व आत्मनिर्भर बनाने के प्रति बढ़ावा मिला है वही महिला अपने पैरों में खड़ा होना सीख रही है, इस योजना के तहत गरीब व जरूरतमंद महिलाओं जो अकेले या फिर विधवा है उनको सिलाई मशीन उपलब्ध कराया जाता है, यह केंद्र सरकार का सार्थक योजना में से एक है, महिलाएं घर बैठे आज पैसे कमा रही है, सिलाई का काम कर रही व आर्थिक रूप से कमजोरी था वह हट रहा है और अच्छा इनकम भी कर रहे है। योजना का मंत्र यही है कि किसी भी तरह महिलाओं को बदलते वक्त के साथ अर्निंग करना सिखाये, वह विधवा व अकेले रहने वाली महिला किसी के सामने हाथ न फैलाये, वे खुद काम करके अपना जीवनयापन करें, वास्तव में इस योजना से बहुत सी महिला सशक्त हुई है।

विधवा महिलाओं के लिए योजना –

वास्तव में देखा जाए तो विधवा महिलाओं के लिए पेंशन के अलावा बहुत ही कम सरकारी योजना है जिसका नाम विधवा या फिर तलाकशुदा महिलाओं के नाम पर है, लेकिन अगर विधवा महिलाओं के लिए योजना की बात किया जाए तो यह कहना गलत होगा कि कोई योजना नही है।

वास्तव में देखा जाए तो विधवा महिलाओं के लिए बहुत सारे योजना है जो कि दिखाई देता है, विधवा महिलाओं के लिए कोई भी compitition exam में अलग से सीट आरक्षित होता है, बहुत सारे गवर्मेंट वर्क में विधवा महिलाओं को priority पहला होता है। विधवा महिलाओं के लिए राज्य सेवा आयोग में अलग से पोस्ट होता है जो कि आर्थिक स्थिति को ध्यान में रखकर किया जाता है ताकि अकेली विधवा महिला सशक्त हो सके।

विधवा महिला के उत्थान के लिए योजना :

आज के समय मे बहुत सारे NGO विधवा महिलाओ के उत्थान के लिए काम कर रही है, विधवा महिलाओं को आर्थिक रूप से कमजोर न हो इसलिए private sector में भी उनको जॉब में प्राथमिकता दी जाती है, बहुत सारे योजनाओं में विधवा महिलाओं को लाभ मिल रहा है, उज्ज्वला योजना के तहत विधवा महिला को भी गैस सिलेंडर मिलता है। विधवा पेंशन मिलता है, विधवा महिलाओं को रोजगार के क्षेत्र में भी आरक्षण मिलता है।

विधवा महिलाओं को आरक्षण :

विधवा महिलाओं को किसी भी सरकारी जॉब में आरक्षण मिलता है, कोई भी compitition exam होता है उस स्थिति में विधवा महिलाओं के उम्र सीमा में भी छूट मिलता है। merit के rank में भी विधवा महिला होने पर फर्क पड़ता है। विधवा होने पर महिलाओं को आरक्षण का लाभ मिलता है वही प्रोमोशन में भी सहायक होता है। पति के मृतयु के बाद महिला पढ़ी लिखी होती है तब अनुकम्पा नियुक्ति भी होता है।

योजना के लाभ के लिए आवश्यक दस्तावेज :

आधार कार्ड व मतदाता परिचय पत्र

आय प्रमाण पत्र

आयु प्रमाण पत्र

पति की मृत्यु का प्रमाण पत्र

निवास प्रमाण पत्र

बैंक पासबुक की कॉपी

मोबाइल नंबर

पासपोर्ट साइज फोटो

किसी भी योजना के लिए आवेदन कैसे करें?

• कोई भी योजना हो उसके लिए 25 वर्ष से 59 वर्ष तक कि विधवा महिला आवेदन कर सकती है।

• इसके लिए वही महिला आवेदन कर सकती है जिसके पास किसी भी तरह का जॉब न हो,नही तो, विधवा महिला किसी भी विधवा महिला से सम्बंधित योजना के लिए आवेदन नही कर सकते है व किसी भी योजना का लाभ नही मिलेगा।

• आर्थिक रूप से कमजोर, विधवा व विकलांग महिलाएं भी महिलाओं से संबंधित योजना के लिए आवेदन कर सकती है।

• आप योजना के लिए ऑफलाइन व ऑनलाइन दोनों माध्यम से आवेदन कर सकते है।

• ऑनलाइन आवेदन कर रहे है तब की स्थिति में आपके पास सभी जरूरी डॉक्यूमेंटस होना चाहिए, आप योजना के लिए अधिकारीक वेबसाइट में जाकर रजिट्रेशन कर सकते है, और फॉर्म अच्छे से पढ़कर सही जानकारी भरें।

• यदि आप आवेदन फॉर्म अच्छ से पढ़कर भरते है फिर जरूरी डॉक्युमेंट्स के साथ आपको फॉर्म को महिला बाल विकास विभाग में जमा करना होगा। उसके बाद आपको योजना का लाभ मिलने लगेगा।

अन्य पढ़े :

घर बैठे महिला कैसे करें पैकिंग का काम

सरकारी नौकरी पाने के लिए क्या करें

सरकारी राशन बांटने की दुकान कैसे खोलें

2 Comments

Add a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: