अचार बनाने का व्यापार | Pickle Making Business Kaise Start Kare

भारत एक ऐसा देश है जहाँ प्रत्येक घर में अचार खाने के शौकीन मिलते है यहाँ प्रत्येक पार्टी के मेनू में अचार रखना अनिवार्य है अचार, खाने के स्वाद को और अधिक स्वादिष्ट बना देता है भारतीय परिवेश में अचार अपनी एक अलग जगह रखता है भारत में प्रत्येक घर में विभिन्न प्रकार के अचार देखने को मिलते है शहर में थोड़ा कम लेकिन गाँव में आज भी हर घर में अचार बनाया जाता है और अचार को साल भर के लिए सुरक्षित भी रखा जाता है अचार की प्रसिद्धि देखकर अचार मेकिंग का बिजनेस मुनाफे का ही सौदा है अगर अचार बनाने की अच्छी विधि से परिचित है तो अचार की मार्केटिंग बहुत विकसित होगी अचार मेकिंग में सबसे महत्वपूर्ण बात अचार बनाने की विधि ही है, अचार जितना अधिक लोगों को पसंद आयेगा , अचार की उतनी ही अधिक बिक्री होगी अचार मेकिंग बिजनेस के लिए निम्नलिखित बातों का ध्यान रखना चाहिए … 

अचार क्या होता है

अचार बहुत सारे मासालो, तेल, और फलो और सब्जियों से बना एक चटपटा, मसाले वाला व्यंजन हैं, जिसे हर लोग खाने के साथ इस्तेमाल करते हैं, और खाने के स्वाद बढ़ा लेते हैं, हमारे देश मे ये व्यंजन बहुत ही लोकप्रिय और मांग वाला है, जो लगभग हर घर मे इस्तेमाल किया जाता है।

अचार मेकिंग बिजनेस क्या है – (  Pickle Making Business ) 

अचार मेकिंग बिजनेस एक लघु और घर में शुरू किया जाने वाला बिजनेस है जिसमें कम से कम लागत लगा के अच्छा मुनाफा कमाया जा सकता है अचार मेकिंग बिजनेस में सबसे महत्वपूर्ण बात है एक अच्छे विधि से अचार बनाना आना अचार बनाने की विधि इसलिए अच्छी होनी चाहिए ताकि ग्राहकों को अचार के प्रति लुभाया जा सके कोई भी ग्राहक किसी भी व्यापारी से अचार तभी खरीदेगा, जब उसे अचार में कुछ अलग स्वाद और अलग विधि मिलेगी अचार मेकिंग बिजनेस में अचार बेचकर ही मुनाफा कमाया जाता है 

यह बिजनेस घर में ही एक दो व्यक्ति के साथ शुरू किया जा सकता है जैसे-जैसे बिजनेस आगे बढ़ेगा, वैसे – वैसे व्यक्तियों की संख्या में बढ़ोतरी होती रहेगी अचार मेकिंग बिजनेस के एक फायदा यह भी है कि अचार किसी भी फल और सब्जियों का आसानी से बनाया जा सकता है और इन अचारों को बेचकर अच्छा पैसा कमाया जा सकता है इस बिजनेस में अधिक रूप से महिलाएं ही कारगर सिद्ध होती है, क्योंकि घर पर ही कई विधियों द्वारा अचार बना कर अपने आस-पडोस में अचार बेच कर पैसे कमा सकती है लघु बिजनेस में सबसे बेहतर और आसान बिजनेस अचार मेकिंग का ही है 

अचार के बिजनेस को शुरू करने से पहले क्या जानकारी जरूरी है

देश मे इस लोकप्रिय व्यंजन की मांग के चलते आज इसका बिज़नेस एक अच्छा और मुनाफे देने वाला बिज़नेस है, अतः कोई भी व्यक्ति जो अचार का बिज़नेस करना चाहता है, उसको कुछ जानकारी होना बहुत जरूरी होती है।

 जो निम्न है-

  • मार्केट में आचार की मांग का पता लगाना।
  • अचार बिज़नेस के लिए जरूरी लाइसेंस की जानकारी।
  • जगह से जुड़ी जानकारी।
  • मशीने कौन सी इस्तेमाल होती है।
  • अचार को बनाने का पूरा तरीका।
  • अचार को कहा, और कैसे बेचना है की जानकारी।

मार्केट में अचार की मांग का पता लगाना

किसी भी बिजनेस को शुरू करने से पहले हमें सबसे जरूरी होता है उसकी मांग के बारे में पता लगाना, क्योंकि अगर हम एक बिना मांग वाले सामान का बिजनेस करेंगे, बिज़नेस का कोई फायदा नही होगा।

अचार बिजनेस से जुड़े लाइसेंस की जानकारी

अचार बिज़नेस एक ऐसा बिजनेस है, जो लोग खाने में इस्तेमाल करते हैं, जिसके लिए एक लाइसेंस व अन्य जरूरी दस्तावेज का होनभूत जरूरी होता हैं, क्योंकि इसके क्वालिटी ऐसी होनी चाहिए, जो लोगो को बीमार न करे, बल्कि उन्हें स्वाद दे।

जगह से जुड़ी जानकारी

अचार बिजनेस के लिए व्यक्ति को जगह की सही जानकारी होना बहुत जरूरी है, जिसमे कितने में गोदाम होगा, कितना मशीन वाला एरिया, व कितना बाकी जगह हो जहाँ अचार को आसानी से बनाकर बेचा जा सके, व उसका बिजनेस किया जा सके।

अचार मेकिंग बिजनेस की शुरुआत घर से ही करनी चाहिए जब बिजनेस बढने लगे तब अलग से जगह लेके इस बिजनेस को आगे बढ़ाने का सोच सकते है अचार मेकिंग बिजनेस के लिए 900 वर्गफुट का एरिया होना आवश्यक है अचार तैयार करना, अचार सुखाना, अचार को पैक करना इत्यादि के लिए खुले जगह की दरकार होती है अचार को लम्बे समय तक खरब होने से बचाने के लिए अचार को बनाने की विधि में बहुत ही साफ-सफाई की दरकार होती है तब ही आचार अधिक दिन तक बरक़रार रहता है 

मशीन कौन सी इस्तेमाल होती है

अचार को बनाने में शुरू में बहुत लोग ज्यादा मशीनों का इस्तेमाल नही करते लेकिन कुछ जरूरी मशीन जो अचार को बनाने में उपयोग में लायी जाती है

  • पिकल मिक्चर (अचार को मिक्स करने वाली मशीन)
  • चक्की
  • वजन नापने के स्केल (अचार को वजन तोलने के लिए)
  • लेबेललिंग यूनिट (दाम को चिपकने व लगाने के लिए)
  • कंटेनर व बर्तन

ये सभी शुरुआती अचार बनाने के बिज़नेस में इस्तेमाल किये जाने वाले टूल्स व मशीने हैं।

यही बिज़नेस बड़े पैमाने पर होने लगा है तो उसके लिए सेमिऑटोमैटिक प्लांट और मशीनरी आती हैं, जिसमे मिक्सर, कटर, टैंकर सब ऐड होते हैं।

इन मशीनों व टूल्स के द्वारा अचार का बिज़नेस करके लोग मुनाफा कमाते है।

अचार को बनाने का पूरा तरीका

अचार बिज़नेस को शुरू करने में ऐसे लोग या खुद ऐसा होना चाहिए, जिन्हें अचार बनाने का पूरा तरीका पता है, मसाले और तेल, नामक हर चीज़ का अंदाज़ हो, क्योंकि अगर अचार की क्वालिटी और स्वाद अच्छा नही होगा, तो आपका अचार मार्केट में चल नही पायेगा।

अचार को कहा और कैसे बेचना है की जानकारी।

अचार को बनाने के बाद उसकी मार्केटिंग बहुत जरूरी है, जिससे लोग आपके अचार के बिज़नेस को जाने, व आपके ग्राहक बनकर अच्छर ले, कुछ थोक अचार की दुकान पर अपना माल सप्लाई करे , उन जगह ओर अचार को बेचे या सप्लाई करे जहा इनका इस्तेमाल सबसे ज्यादा किया जाता है।

जैसे( बड़े बड़े स्पेंसर, मॉल, राशन की थोक दुकाने, अचार की थोक मार्केट में।)

इस प्रकार इन सभी जानकारी के साथ एक व्यक्ति एक अच्छा अचार का बिज़नेस शुरू करके बहुत मुनाफा कमा सकता है।

अचार का बिज़नेस के लिए कच्चा माल क्या होता है

किसी भी सामान के बिज़नेस के लिए उसे तैयार करने के लिए उसमे इस्तेमाल कच्चे माल होते हैं, जिनके द्वारा उन्हें बनाकर मार्केट में फिर बेचा जाता है।

अचार के बिज़नेस के लिए इस्तेमाल कच्चे माल निम्न है-

  • कच्चे फल या सब्जियां (आम, गाजर, मिर्च,निम्बू व अन्य शामिल हैं)
  • मसाले (मेथी, अमचूर, हल्दी, लालमिर्च पाउडर, धनिया, जीरा, सौफ व अन्य जरूरी मसाले)
  • सरसो का तेल
  • नमक

अचार के बिज़नेस में अचार बनाने में ये सभी कच्चे माल का इस्तेमाल करके स्वादयुक्त अचार तैयार किया जाता है।

इन सभी सामग्री की लिस्ट अपनी लागत राशि के अनुसार बना लेना चाहिए, जिससे बजट में उतार-चढ़ाव के आसार बहुत कम ही हो सभी समानों की लिस्ट पहले ही बना ली जाये और उसके बाद सामग्री की खरीदारी होतो खर्चा बजट के भीतर ही होगा बिजनेस के शुरुआत में बजट का बाहर जाके खर्च करना घाटे का सौदा हो सकता है, बिजनेस के शुरुआत में सिर्फ एक प्रयोग ही करके देखा जाता है तो पूरी सावधानी बरतनी चाहिए 

अचार मेकिंग बिजनेस की शुरुआत कैसे करना चाहिए –

अचार मेकिंग बिजनेस की शुरुआत के लिए सबसे पहले घर में अचार बना के अपने आस-पडोस को अचार खिला कर उसका फीडबैक लेना चाहिए जिससे पता चल जाए की लोगों को सबसे अधिक किसी विधि का अचार पसंद आया व्यापारी को अचार मेकिंग बिजनेस के लिए खुद भी अचार बनाने के नये-नये विधियों प्रयोग करना चाहिए जिस विधि का अचार आस-पडोस को अधिक पसंद आया हो उस विधि के अचार के द्वारा अचार मेकिंग बिजनेस को आगे बढ़ाने की कोशिश करनी चाहिए घर में अचार सुखाने की जगह होतो यह बिजनेस की शुरुआत घर से ही करनी चाहिए 

अचार बनाने की विधि – (  Pickle Making Method ) 

अचार मेकिंग बिजनेस में सबसे महत्वपूर्ण बात अचार बनाने की विधि की है, अचार बनाने की विधि बेहतर रही तो अचार का बिजनेस भी खूब फलता-फूलता है भारतीय परिवेश में अचार बनाने के हज़ार विधियाँ है, जितने घर उतने अचार बनाने के तरीके अचार बनाने के कुछ विधियाँ इस प्रकार है :-

कुछ अचार बहुत ही सादे तरीके से बनाये जाते है जैसे प्याज और अदरक को छील के सिरका में डाल के धूप में रख देना 2 से 4 दिन बाद ये अचार खाने में शामिल किया जाता है गाजर, मूली और मिर्च के अचार में हल्दी, राई और नमक डाल के एक सप्ताह तक धूप में सुखाने के बाद खाने में शामिल किया जाता है

आम के अचार में राई, सरसों ,हल्दी, नमक और मिर्च को पीस के सरसों के तेल में मिक्स किया जाता है, उसके बाद आम में ये मसाला भरा जाता है और फिर अचार को 20 से 25 दिन तक धूप में सुखाया जाता है और उसके बाद किसी डिब्बे में आम का अचार रखा जाता है और उपर से सरसों का तेल डाल दिया जाता है. ये अचार 1 महीने बाद खाने के लिए तैयार हो पाता है

इन सब में निम्बू का अचार बनाना सबसे आसान होता है, निम्बू को सबसे पहले घिस के सुखाया जाता है और उसके बाद उसमे नमक मिला दिया जाता है फिर निम्बू को 1 महीने तक धूप में रखा जाता है ये अचार जितना पुराना होता है उतना ही स्वादिष्ट होता है निम्बू के अचार में स्वादानुसार मिर्च भी डाला जा सकता है 

कटहल, परवल और करेले के अचार में इन सबको छील कर सुखाया जाता है और उसके बाद तेल के साथ राई, हल्दी, सरसों और नमक का मिश्रण इन सब्जियों में मिला दिया जाता है सारे मिश्रण मिला देने के बाद इसे धूप में सुखाया जाता है

घर बैठे अचार का बिज़नेस कैसे शुरू करे

अचार का बिज़नेस घर बैठे करने के लिए कुछ आवश्यक पद निम्न है-

  • अचार बिज़नेस के लिए जगह का चयन।
  • अचार बिज़नेस के लिए जरूरी लाइसेंस बनवाना।
  • काम करने वालो को तय करना व मशीनों के खरीदना।
  • कच्चा माल खरीदना।
  • अचार बनाना या तैयार करना।
  • अचार को थोक विक्रेता व इस्तेमाल करने वाली जगह बेचना।
  • मुनाफा कमाना।

अचार बिज़नेस के लिए जगह का चयन

किसी भी बिज़नेस को करने के लिए उसके अनुसार जगह होना बहुत जरूरी होता है, तो अचार के बिज़नेस के लिए जगह चुनना चाहिए, जहा गोदाम, मशीनों की जगह, अचार बनाने के जगह, पानी और बिजली सबका सिस्टम अच्छा हो, जिससे अचार बिज़नेस में अचार बनाने में कोई परेशानी न हो।

अचार बिज़नेस के लिए जरूरी लाइसेंस बनवाना

कोई भी खाने वाली चीज का बिज़नेस करने के लिए हमे लाइसेंस की जरूरत होती है, कई हमारी जिम्मेदारी है अच्छा व स्वादिष्ट व्यंजन को तैयार करना, जो लोगो की सेहत को नुकसान न दे।

अचार बिज़नेस के लिए जरूरी लाइसेंस निम्न है-

  • GST
  • Udyam  रजिस्ट्रेशन
  • fssai
  • Trademark

स्कीम जो अप्लाई कर सकते हैं वो निम्न हैं-

  • Mudra scheme
  • PMEGP scheme
  • PM FME scheme
  • Stand up India scheme

ये सभी स्कीम व लाइसेंस इस्तेमाल किये जाते हैं।

काम करने वालो को तय करना व मशीनों को खरीदना।

किसी भी बिज़नेस जो चलाने के लिए उसमे माहिर कौशल वाले लोग व मशीनों की आवश्यकता पड़ती है, जिससे अचार को बेहतर से बेहतर बनाकर मार्केट में बेच मुनाफा कमाया जा सके।

कच्चा माल खरीदना

अचार के बिज़नेस के लिए अचार बनाने में इस्तेमाल कच्चा माल खरीदना सबसे जरूरी है, क्योंकि बिना कच्चे माल के अचार बनाया है नही जा सकता।

अचार बनाना व तैयार करना

कच्चे माल को मशीनों व अचार बनाने में माहिर लोग के द्वारा तैयार किया जाता है, जिसमे  वेजिटेबल व फ्रूट की कटिंग, मसालो, नमक व तेल की मिक्सिंग, 72 घण्टे तक टैंकर में रखकर उसे तैयार कर लेना।

अचार को थोक विक्रेता व इस्तेमाल करने वाली जगह बेचना।

तैयार अचार को थोक विक्रेता व उन एजेंसी व जगहों पर बेच देना जहाँ से वह ग्राहको तक पहुँच सके, या तो कुछ मार्केटिंग द्वारा खुद के ग्राहक भी बना लिए जाते है, जिससे मार्केट में हमारे ब्रांड व नाम की जगह बन जाये, और बिज़नेस और बढ़ सके।

मुनाफा

यह हर बिज़नेस का उद्देश्य होता है, मुनाफा करके अपने बिज़नेस को बढ़ाना व भविष्य को बेहतर बनाना, अचार के बिज़नेस में आचार बेचकर व्यपारी बहुत मुनाफा भी कमाता है।

अचार मेकिंग बिजनेस को शुरू करने में लागत कितना आता है – ( Investment )

अचार मेकिंग बिजनेस को शुरू करने के लिए कम से कम 40 से 50 हज़ार की लागत लगेगी इस राशि में सबसे छोटी शुरुआत होगी. 5/- से 10/- हज़ार में फल-सब्जियां लाना, 9/- से 10/- हजार में तेल और मसालें , 4/- से 5/- हज़ार में बड़े डिब्बे और बड़े बर्तन. शुरुआत में 1-2 नौकरों को मेहनताना देना इस लागत से अचार का बिजनेस की अच्छी शुरुआत होगी व्यापारी को चाहिए जैसे –जैसे कम में बढ़ोतरी हो वैसे-वैसे नौकरों की संख्या बढ़ाने के साथ-साथ अचार बनाने की मशीन की खरीद भी हो ताकि आने वाले भावी समय में अचार का बिजनेस स्तर बढ़ता ही जाए और मुनाफा दुगना-तिगुना हो

अचार मेकिंग बिजनेस में मासिक मुनाफा कितना होगा – ( Profit )

अचार मेकिंग बिजनेस में 40 से 50 हज़ार की लागत लगा कर इसका दुगना ही मुनाफा कमाया जा सकता है पहली मार्केटिंग में लागत की सारी राशि वसूल हो जाएगी और उसके बाद सिर्फ मुनाफा ही मुनाफा होगा इस छोटे बिजनेस को मेहनत-लगन और नये-नये प्रयोग के द्वारा बड़ा बिजनेस बनाया जा सकता है इस बिजनेस का मुनाफा हर महीने मिलेगा और मुनाफे में बढ़ोतरी भी होती हुई मिलेगी

अन्य पढ़े :

गुड़ (Jaggery) बनाने का बिजनेस कैसे शुरू करें

अगरबत्ती बनाने का बिजनेस कैसे शुरू करें

जूते बनाने का बिजनेस कैसे शुरू करें

15 Comments

Add a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: