गरीब महिलाओं के लिए भारत सरकार द्वारा रोजगार योजना

महिला उद्यमियों के लिए भारत सरकार द्वारा संचालित महिला रोजगार योजना 2022 (Loan Schemes 2022 For Women Entrepreneurs In India in Hindi)

महिलाओं के लिए रोजगार योजना – महिलाओं के विकास के बिना समाज की उन्नति असंभव है| इसीलिए सभी देश महिलाओं के विकास पर जोर दे रहे हैं| भारत की महिलाओं के लिए रोजगार एवं प्रशिक्षण सहयोग योजना 1986-87 में शुरू की गई थी जिसका उद्देश्य ग्रामीण और शहरी गरीब महिलाओं का विकास करना है

विश्व के अन्य देशों के साथ-साथ भारत में महिलाओं के रोजगार वह महिला सशक्तिकरण पर ध्यान दे रहे है| कई प्रकार की योजनाओं के द्वारा सरकार महिलाओं के खिलाफ हो रही हिंसा और भेदभाव के प्रति सजग हो रही है| भारत सरकार महिलाओं के लिए विभिन्न रोजगार योजनाएं चला रही है ताकि वे आर्थिक रूप से संपन्न हो और समाज में उनका सम्मान हो | यह योजनाएं पीड़ित और कमजोर महिलाओं की सहायता कर रही हैं

भारत सरकार द्वारा महिला रोजगार के लिए चलाई जा रही योजनाएं इस प्रकार हैं (Mahila ke liye rojgar yojana 2022)

Table of Contents

1. महिला स्वरोजगार योजना (Mahila Swarojgar Yojana)

महिलाओं को रोजगार प्रदान करने के लिए और उनके व्यवस्था को प्रोत्साहन देने के लिए राज्य सरकारों ने महिला स्वरोजगार योजना चलाई है| इस योजना से गरीब महिलाओं को रोजगार मिलता है| राज्य सरकारों द्वारा इस योजना को इसलिए शुरू किया जा रहा है ताकि रोजगार पाकर महिलाएं अपनी प्रतिदिन की जरूरतों का खर्च उठा सकें इसके लिए महिलाएं किसी पर निर्भर ना रहे|

इस योजना का मुख्य उद्देश्य महिलाओं को आत्मनिर्भर बनाना है| यह योजना 2005 में शुरू की गई थी लेकिन इस योजना में कुछ कमियों के रहते हुए इसका लक्ष्य पूरा नहीं हो पाया था इसलिए राज्य सरकारों ने इस योजना को सफल बनाने के लिए कई बदलाव किए ताकि यह योजना सफल हो सके|

इस योजना के अंतर्गत महिलाओं को ₹2500 सहायता राशि प्रदान की जाती थी| जिसे अब राज्य सरकारों ने बढ़ाकर ₹5000 कर दिया है। महिलाओं को यह राशि व्यावसायिक यंत्रों को खरीदने के लिए दी जाती है। ताकि इससे महिलाएं अपना रोजगार शुरू कर सकें।

महिला स्वरोजगार योजना की विशेषताएं

1) रोजगार के अवसर-

इस योजना में दिए जाने वाले प्रशिक्षण से महिलाओं को कई तरह के रोजगार के अवसर प्राप्त होते हैं जैसे महिलाएं कढ़ाई, बुनाई , पान , फूल ,फल या सब्जी की दुकानें, अचार डालना, सिलाई सेंटर आदि खोल कर अपने परिवार का पालन पोषण कर सकती है

2) विकलांग व गरीब महिलाओं को सुविधा-

इस योजना से गरीब महिलाओं विकलांग, शारीरिक रूप से अक्षम महिलाओं को आर्थिक सहायता दी जाती है| ताकि वे अपना व्यवसाय शुरू करके रोजगार प्राप्त कर सकें।

3) महिलाओं को शक्ति करण बनाना-

इस योजना के माध्यम से राज्य ऐसी महिलाओं को जो पिछड़े क्षेत्र से संबंध रखती हैं ,उन्हें रोजगार के अवसर प्रदान करना है, उन्हें जागरूक करना है ताकि उनका सशक्तिकरण हो सके|

महिला स्वरोजगार योजना की पात्रता शर्तें

1) महिला स्वरोजगार योजना से लाभ उठाने के लिए लाभार्थी की उम्र 18 वर्ष से अधिक होनी चाहिए।
2) स्वरोजगार योजना में केवल गरीब महिलाओं को ही रोजगार के लिए पैसा दिया जाता है|
3) परिवार की वार्षिक आय 35 हजार से अधिक नहीं होनी चाहिए|
4) इस योजना का लाभ केवल राज्य की महिला ही ले सकती है महिला राज्य की स्थाई निवासी होनी चाहिए|

महिला स्वरोजगार योजना के लिए आवश्यक दस्तावेज

1) इस योजना का लाभ उठाने के लिए महिला के पास राज्य का मूल निवासी प्रमाण पत्र होना आवश्यक है।
2) आवेदन कर्ता के पास बैंक खाता कामा पासबुक होनी चाहिए।
3) आवेदन कर्ता के पास वोटर कार्ड, आधार कार्ड , राशन कार्ड जैसे प्रमाण पत्र होना चाहिए।
4) आवेदन कर्ता की आय का प्रमाण पत्र होना चाहिए।
5) आवेदन कर्ता का जाति प्रमाण पत्र होना चाहिए।

यह भी पढ़े : विधवा महिलाओं के लिए सरकारी योजना

2) स्वयं सहायता समूह योजना (Swayam sahayata samuh Yojana)

स्वयं सहायता समूह के अंतर्गत महिलाओं को बचत करना सिखाया जाता है। महिलाएं अपनी बचत का थोड़ा सा हिस्सा इन स्वयं सहायता समूह में जमा करवाती रहती हैं। अगर कोई महिला अपना रोजगार शुरू करना चाहती है तो उसे स्वयं सहायता समूह से ऋण प्रदान किया जाता है।

बैंक ऐसे स्वयं सहायता समूह को और अधिक आर्थिक मदद प्रदान करते हैं। स्वयं सहायता समूह के सदस्यों की संख्या कम से कम 10 और ज्यादा से ज्यादा 20 होनी चाहिए। स्वयं सहायता समूह में इकट्ठे पैसे से महिलाएं गांव में सूक्ष्म या लघु उद्योगों की शुरुआत कर सकती है। जिससे समूह की अन्य महिलाओं को भी रोजगार मिलता है और उन्हें आय प्राप्त होती है।

स्वयं सहायता समूह योजना के उद्देश्य

1) इस योजना का उद्देश्य बैंकों एवं ग्रामीण गरीब जनता के बीच परस्पर भरोसा पैदा करना है।
2) ग्रामीण दिलीप महिलाओं में बचत व ऋण दोनों तरह के बैंकिंग कार्यों को प्रोत्साहन देना है|
गरीब महिलाओं की आवश्यकताओं को पूरा करने के लिए ऋण संबंधी नीतियों का विकास करना इस योजना का उद्देश्य है।

स्वयं सहायता समूह योजना के लाभ

1) स्वयं सहायता समूह के निर्माण होने से दूसरे अन्य संस्थाओं पर महिलाओं की पैसों पर निर्भरता कम हो जाती है|
2) स्वयं सहायता समूह को बैंकों से धन दिया जाता है जिससे पैसे के लेनदेन में आसानी हो जाती है|
3) स्वयं सहायता समूह मैं किसी महिला को नेतृत्व दे दिया जाता है जो सारे समूह के प्रबंधन का काम करती है|
इस समूह से महिलाएं अपनी छोटी सी बचत मैं से जरूरत पड़ने पर या आपातकालीन स्थिति अपने समूह के कार्य के लिए पैसों का प्रयोग कर सकती है|

स्वयं सहायता समूह के चयन हेतु शर्तें

1) सहायता समूह के सदस्यों की संख्या 10 से 20 के बीच होनी चाहिए|
2) समूह की स्थापना तथा इसके उद्देश्यों के प्रति बैंक संतुष्ट होना चाहिए|
3) समूह को अपने पास सामान्य रिकॉर्ड रखना चाहिए|

इस योजना का लाभ उठाने के लिए महिला के पास राज्य का मूल निवासी प्रमाण पत्र होना आवश्यक है।

3) मुफ्त सिलाई मशीन योजना (Free Silai Machine Yojana)

मुफ्त सिलाई मशीन योजना को हमारे देश के प्रधानमंत्री के द्वारा देश के गरीब व शिक्षित महिलाओं को रोजगार प्रदान करने के लिए शुरू किया जा रहा है। योजना के अनुसार भारत सरकार देश की करीब और कामकाजी महिलाओं को फ्री में सिलाई मशीन उपलब्ध कराएगी।

योजना के अनुसार महिलाएं सिलाई मशीन को मुफ्त प्राप्त कर सकेंगे और फ्री सिलाई मशीन से अपना खुद का रोजगार घर बैठे शुरू कर सकती है जिससे वे कपड़े सिलाई करके अच्छी आय प्राप्त कर सकती हैं फ्री सिलाई मशीन से अपना खुद का रोजगार घर बैठे शुरू कर सकते हैं जिससे वह कपड़े सिलाई करके अच्छी आय प्राप्त कर सकती है।

फ्री सिलाई मशीन योजना के अंतर्गत सरकार देश के हर राज्य में 60,000 से अधिक महिलाओं को फ्री में मशीन प्रदान करेगी | इस योजना के अंतर्गत देश की जो गरीब व इच्छुक महिलाएं वह सिलाई मशीन प्राप्त करना चाहती है उन्हें इसके लिए आवेदन करना होगा। इस योजना के अंतर्गत केवल 20 वर्ष से 40 वर्ष की आयु के महिलाएं ही भाग ले सकती है |

मुफ्त सिलाई मशीन योजना के लाभ 

1)  इसी योजना के अंतर्गत देश की गरीब महिलाओं को रोजगार का अवसर प्राप्त होगा।
2)  महिलाओं को रोजगार के लिए प्रेरित किया जाता है ताकि में रोजगार प्राप्त करके आत्मनिर्भर बन सकें।
3) यह योजना महिलाओं को मुफ्त में सिलाई मशीन उपलब्ध कराएगी।
4) मुफ्त सिलाई मशीन प्राप्त करके महिलाएं घर बैठकर लोगों के कपड़े सिलाई करके आमदनी प्राप्त कर सकती हैं।

मुफ्त सिलाई मशीन योजना की पात्रता शर्तें

1) आवेदन करने वाली महिला की आयु कम से कम 20 वर्ष और ज्यादा से ज्यादा 40 वर्ष होनी चाहिए।
2) महिला के पति की वार्षिक आय ₹14000 से अधिक नहीं होनी चाहिए।
3) देश की विकलांग विधवा महिलाएं भी योजना के लिए पात्र हैं।
आर्थिक रूप से कमजोर महिलाएं भी इस योजना के लिए आवेदन कर सकती है।

सिलाई मशीन योजना के लिए आवश्यक दस्तावेज

1) आवेदन करने वाली महिला का आयु प्रमाण पत्र, पहचान पत्र, आय प्रमाण पत्र होना चाहिए।
2) यदि महिला विकलांग हो तो डॉक्टर से विकलांगता का प्रमाण पत्र अवश्य लेना होगा|
3) आवेदिका के पास आधार कार्ड होना चाहिए|
4) पासपोर्ट साइज फोटो होनी चाहीए

यह भी पढ़े : बेटियों के लिए 5 फायदेमंद सरकारी योजनाएं

4) PMMY प्रधानमंत्री मुद्रा योजना (Pradhan Mantri MUDRA Yojana)

प्रधानमंत्री मुद्रा योजना विशेष रूप सेनये व्यापारियों को लोन देने की योजना है ताकि वो अपना व्यापार बढ़ा सके। इस योजना में अब हर 4 लोगों में से 3 महिलाएं रही है जिस कारण से इस योजना का सर्वाधिक लाभ महिलाओ को मिल रहा है।

प्रधानमंत्री मुद्रा योजना में कितने प्रकार के लोन दिए जाते है 

दोस्तो प्रधानमंत्री मुद्रा योजना में कुल 3 प्रकार के लोन दिए जाते है –

  • तरुण लोन –  तरुण लोन में आपको 5 से 10 लाख  रुपये तक लोन दिया जाता है 
  • शिशु लोन – इसमें आपको 50 हजार रुपये तक लोन मिल जाता है।
  • किशोर लोन – 1 लाख रुपये से 5 लाख रुपये तक का मिल जाता है।

मुद्रा लोन पर ब्याज दर – दोस्तो अगर आप प्रधानमंत्री योजना से मुद्रा लोन की ब्याज दर 8% की होती है ।

प्रधानमंत्री मुद्रा योजना (PMMY) के लिये आवश्यक डॉक्यूमेंट 

  • पेन कार्ड 
  • आधार कार्ड 
  • स्थायी निवास प्रमाण पत्र 
  • बैंक स्टेटमेंट
  • पासपोर्ट साइज फ़ोटो 

प्रधानमंत्री मुद्रा योजना (PMMY) आवेदन कैसे करे? – प्रधानमंत्री मुद्रा योजना का आवेदन करने के लिये आपको नजदीकी बैंक से संपर्क करना होगा , इस योजना का लाभ किसी भी बैंक से ले सकते है।

5) PMRY प्रधानमंत्री रोजगार योजना (Pradhan Mantri Rojgar Yojana)

ये योजना शिक्षित एवं अनुभवी लोग जो अपना खुद का व्यापार शुरू करना  चाहते है उन लोगों को लोन देकर उनके व्यापार में सहायता करना। इस योजना में  कम से कम 8 वीं तक शिक्षा होना जरूरी है। इस योजना में 15 दिन की तक ट्रेनिंग दी जाती है उसके बाद 40 हज़ार रुपये तक आर्थिक सहायता दी जाती है।

PMRY प्रधानमंत्री रोजगार योजना लेने की पात्रता 

  • पेन कार्ड 
  • आधार कार्ड 
  • स्थायी निवास प्रमाण पत्र 
  • बैंक स्टेटमेंट
  • पासपोर्ट साइज फ़ोटो 
  • जाति प्रमाण पत्र 
  • अनुभव प्रमाण
  • आय प्रमाण पत्र 

6) अन्नपूर्णा योजना (Annapurna Yojana)

ये योजना उन महिलाओं के लिया फायदेमंद है जो कि खुद का फूड कैटरिंग का व्यापार करती है । अन्नपूर्णा योजना को स्टेट बैंक ऑफ मैसूर द्वारा दिया जाता है।

अन्नपूर्णा योजना लोन के लिए पात्रता

  • पेन कार्ड 
  • आधार कार्ड 
  • स्थायी निवास प्रमाण पत्र 
  • बैंक स्टेटमेंट
  • पासपोर्ट साइज फ़ोटो 
  • जाति प्रमाण पत्र 
  • अनुभव प्रमाण
  • आय प्रमाण पत्र 
  • लोन के गारेंटी के लिये आपके  गारंटर होना आवश्यक है।

अन्नपूर्णा योजना लोन की कुछ जरूरी बाते 

  •  आप अन्नपूर्णा योजना लोन को स्टेट बैंक ऑफ इंडिया और मैसूर बैंक ऑफ इंडिया  दोनो से ले सकते है।
  • अन्नपूर्णा योजना लोन लेने के  बाद आपको 3 वर्ष का समय मिलता है।
  • अन्नपूर्णा योजना लोन  को 36 किस्तों में चुकाना पड़ता है
  • अन्नपूर्णा योजना लोन की ब्याज दर बैंक पर निर्भर रहता है।

7) महिला उद्यमियों के लिए स्त्री शक्ति पैकेज (Stree Shakti Package Scheme)

ये योजना उन महिलाओं के लिये है जो कि अपना नया- नया व्यापार शुरू करती है। इस योजना के लिए ये आवश्यक है कि जो महिला लोन लेना चाहती है उसका उसके फार्म में 50% हिस्सेदारी कम से कम हो।

महिला उद्यमियों के लिए स्त्री शक्ति पैकेज के लिए कुछ जरूरी बाते

  • जिस महिला को स्त्री शक्ति पैकेज चाहिए उसका राज्य में होने वाले उद्यमिता विकास कार्यक्रम में नाम होना आवश्यक है।
  • इस योजना से अगर महिला उद्यमी 5 लाख रुपये तक का लोन लेती है तो उससे किसी भी प्रकार की गारेंटी की आवश्यकता नहीं पड़ती है 
  •  इस योजना का उद्देश्य महिला उद्यमियों को आगे बढ़ाने का है।

यह भी पढ़े : 12वीं पास महिलाओं के लिए सरकारी नौकरी

8) सेंट कल्याणी योजना (Cent Kalyani Yojana)

ये योजना केंद्र सरकार द्वारा लाई गयी है ताकि जो महिला अपना व्यापार शुरू करना चाहती है । इस योजना का लाभ उठाकर कर अगर महिला चाहे तो अपना व्यापार का दायरा आगे बढ़ा सकती है।

सेंट कल्याणी योजना के लिये पात्रता 

सेंट कल्याणी योजना उन्ही महिलाओं को मिल सकती है जिनका पहले से व्यापार हो या फिर कोई व्यापार शुरू करने जा रही है।

सेंट कल्याणी योजना के लिये आवश्यक दस्तावेज 

  • पहचान प्रमाण पत्र 
  •  एड्रेस प्रूफ 
  • आय प्रमाण पत्र 
  •  जिस व्यापार के लिये आप लोन ले रहे है उसका प्रमाण पत्र 

सेंट कल्याणी योजना की ब्याज दर 

सेंट कल्याणी योजना में अगर आप 10 लाख रुपये तक का लोन लेते है तो आपको 9.90% की दर से लोन को चुकाना होगा वहीं अगर आप 10 लाख रुपये से ज्यादा का लोन लेते है तो आपको 10.20% की दर से लोन चुकाना होगा।

9) महिला उद्यम निधि योजना (Mahila Udyam Nidhi Scheme)

महिलाओं को आत्मनिर्भर बनाने के उद्देश्य से इस योजना की शुरुआत की गई । इस योजना में जो छोटे उद्योग होते है उनकी शुरुआत की जा सकती है । महिला उद्यम निधि योजना में अधिकतम 10 लाख रुपये तक का लोन बैंक की तरफ से दिया जाता है।

महिला उद्यम निधि योजना की नियम और शर्ते

  • जिसे भी महिला उद्यम निधि योजना का लाभ लेना है उसका उसके व्यापर में कम से  कम 50% की हिस्सेदारी होना आवश्यक है ।
  • शुरू किए गये व्यापार में कम से कम 5 लाख रुपये का निवेश होना चाहिए।
  • लोन की कुल अवधि 10 वर्ष होती है जिसमे 5 वर्ष तक कोई भी लोन नहीं चुकाना पड़ता है।

10) देना शक्ति योजना (Dena Shakti Scheme)

देना शक्ति योजना महिला उद्यमी को प्रोत्साहित करने के लिए बनाई गयी है जिसमे महिलाओं को नया उद्योग शुरू करने के  लिये लोन दिया जाता है । इस  योजना  में महिला उद्यमियों को काफी किफायती ब्याज दरों में लोन दिया जाता है।

देना शक्ति योजना की शर्तें 

इस योजना का लाभ जो महिला उद्यमी लेना चाहती है उस महिला के पास उद्योग की 50% हिस्सेदारी होनी चाहिये।

देना शक्ति योजना  के लिये आवश्यक दस्तावेज 

  • पेन कार्ड 
  • आधार कार्ड 
  • बैंक स्टेटमेंट 
  • पासपोर्ट फ़ोटो 

11) ओरिएंटल महिला विकास योजना (Orient Mahila Vikas Yojana)

ये योजना ओरिएंटल बैंक ऑफ कॉमर्स के द्वारा महिला उद्यम को बढ़वा देने की उद्देश्य से शुरू किया गया। इस योजना में  महिला उद्यमी को 10 लाख  रुपये से 25 लाख  रुपये तक का लोन देने की योजना है ।

ओरिएंटल महिला विकास योजना की शर्ते 

  • इस योजना का लाभ लेने वाली महिला उद्यमी के पास  उद्योग की 50% से ज़्यादा की हिस्सेदारी होना आवश्यक है।
  • इस योजना में लोन चुकाने के लिये 7 वर्ष का समय दिया जाता है ।

12) प्रधानमंत्री समर्थ योजना (Samarth Yojana)

समर्थ योजना केंद्र सरकार के द्वारा शुरू वस्त्र उत्पादन को बढ़ावा देने के लिये शुरू की गयी योजना है। इस योजना के अनुसार वस्त्र उत्पादन करके अपना जीवनयापन कर रही 75% गरीबो महिलाओं को बढ़वा देना है । 

प्रधानमंत्री समर्थ योजना की पात्रता

  • आधार कार्ड 
  • पेन कार्ड 
  • स्थायी निवास प्रमाण पत्र 
  • राशन कार्ड
  • पासपोर्ट साइज फ़ोटो 
  • मोबाइल नंबर 

समर्थ योजना से लाभ – 

  • समर्थ योजना में उन महिलाओं के लिए बहुत फायदेमंद होता है जो कि काफी घर से संबंध रखती है।
  • इस योजना में महिलाओं को ट्रेनिंग दी जाती है ताकि महिलायें कपड़े उत्पादन के काम को सीख कर अपने पैर पर खड़े हो सकते है।
  •  ये योजना का मुख्य उद्देश्य महिलाओ को उनको अपने पैर पर खड़ा करना है ।
  • इस योजना को अब 18 राज्य में लागू किया जा चुका है।
  • समर्थ योजना के तहत 12 लाख से ज्यादा लोगों को अगले 3 से 4 साल तक मे प्रक्षिक्षण देने का लक्ष्य देने का उद्देश्य है।

निष्कर्ष

सरकार द्वारा चलाई जा रही योजनाओं का मुख्य उद्देश्य महिलाओं को रोजगार के अवसर प्रदान करना है। अतः केंद्र सरकार समय-समय पर महिलाओं को रोजगार प्रदान करने वाली योजनाएं शुरू करती है जिससे गरीब महिलाओं को रोजगार मिल सके और महिलाओं को आय प्राप्त हो सके|

आज के समय में महिलाओं को रोजगार प्रदान करने के लिए और उनके विकास के लिए कई सारे कार्य किए जा रहे हैं| ताकि हमारे देश की गरीब , पिछड़ी महिलाएं आत्मनिर्भर बन सकें| इसलिए भारत सरकार और राज्य सरकार कई प्रकार की योजनाएं चला रही हैं| किसी भी देश का विकास तभी होता है जब उस देश की महिलाओं का विकास हो|

यह भी पढ़े : 

महिलाओं के लिए घर बैठे बिजनेस आइडियाज

घर बैठे महिलाएं कैसे करें पैकिंग का काम

32 Comments

Add a Comment

Your email address will not be published.

error: