कंप्यूटर और लैपटॉप रिपेयरिंग बिजनेस कैसे शुरू करें | Computer and Laptop Repairing Business Ideas in Hindi

डिजिटल युग में कंप्यूटर और लैपटॉप की बिक्री बढ़ने से कंप्यूटर और लैपटॉप रिपेयरिंग बिज़नेस को खोलने का सोच रहे हैं तो बिलकुल यह फायदा पहुंचा सकता है। दोस्तों आज के समय में बिना कंप्यूटर और लैपटॉप के बिजनेस की कल्पना करना मुश्किल है क्योंकि ज्यादातर बिज़नेस अब ऑनलाइन हो चले हैं और इसके अलावा जीएसटी लागू होने के बाद से तो हर छोटी या बड़ी कंपनियों को जीएसटी इनेबल सॉफ्टवेयर में ही अपना बिल बनाना जरूरी हो गया है। इसका असर यह हुआ की जो दुकानदार या छोटे बड़ी कंपनियां पहले बिना कंप्यूटर बिल के अपना कारोबार चला रही थी उन्हें भी कंप्यूटर या लैपटॉप का इस्तेमाल करना जरूरी हो चला है।

अगर आप कंप्यूटर और लैपटॉप रिपेयरिंग बिज़नेस खोलने में रुचि रखते हैं तो आप बिल्कुल सही जगह हैं इस पोस्ट में हम रिपेयरिंग बिज़नेस कैसे खोलें जानेंगे।

कंप्यूटर और लैपटॉप रिपेयरिंग बिजनेस क्या है

कंप्यूटर और लैपटॉप का इस्तेमाल हर क्षेत्र में काफी बढ़ चुका है, जिसके कारण मशीन में समय के साथ इश्यू आना लाज़मी है। इसी इश्यू को ठीक करने के काम रिपेयरिंग बिजनेस कहते हैं। 

दोस्तों कंप्यूटर और लैपटॉप हार्डवेयर और सॉफ्टवेयर के कॉम्बिनेशन से बनता है। जिन्हें हार्डवेयर और सॉफ्टवेयर की अच्छी जानकारी है वह इस बिज़नेस को शुरू करके काफी अच्छी कमाई कर सकते हैं।

कंप्यूटर और लैपटॉप में कई महत्वपूर्ण डाटा स्टोर होते हैं, असल में इन्ही डाटा का दाम होता है, इसीलिए कंप्यूटर और लैपटॉप में कुछ खराबी आए तो विशेषज्ञ रिपेयर शॉप पर लोग जाते हैं।

यह स्किल्स जरूरी हैं कंप्यूटर और लैपटॉप रिपेयरिंग बिज़नेस शुरू करने के लिए

दोस्तों जिस प्रकार जॉब में आपकी स्किल्स देखी जाती है ठीक उसी प्रकार बिज़नेस की शुरुआत करने से पहले भी कुछ स्किल्स आपको बिज़नेस शुरू करने में मदद कर सकती है और इसी पर आपके बिज़नेस का प्रॉफिट भी निर्भर करेगा।

कंप्यूटर और लैपटॉप रिपेयरिंग बिज़नेस शुरू करने से पहले कुछ स्किल्स का आना बेहद फायदेमंद और जरूरी है। यह जरूरी स्किल्स निम्नलिखित हैं:-

हार्डवेयर की जानकारी:- कंप्यूटर और लैपटॉप में कई अलग तरह के हार्डवेयर होते हैं, सभी के फंक्शन अलग अलग पार्ट्स के लिए होते हैं। रिपेयरिंग बिज़नेस शुरू करने के लिए इसका ज्ञान होना जरूरी है।

सॉफ्टवेयर की जानकारी:- कंप्यूटर और लैपटॉप में सॉफ्टवेयर की भरमार पाई जाती है। क्योंकि हर अलग अलग कार्य के लिए सॉफ्टवेयर होते हैं। इसका बिज़नेस स्टार्ट करने के लिए सॉफ्टवेयर को सेटअप करना आना चाहिए।

कंप्यूटर और लैपटॉप की भाषा:- दोस्तों कंप्यूटर और लैपटॉप रिपेयरिंग करने के लिए आपको इन मशीनों की भाषा आना जरूरी है ताकि आप कमांड दे सकें।

यह स्किल आना इसीलिए जरूरी है ताकि कस्टमर आपके पास अपना कंप्यूटर या लैपटॉप लेकर आए तो आपको उसको ठीक करना आता हो।

कंप्यूटर और लैपटॉप रिपेयरिंग का काम कहां से सीख सकते हैं

दोस्तों आज के वक्त में काफी सीखने के रास्ते खुल चुके हैं। कंप्यूटर और लैपटॉप रिपेयरिंग कोर्स आप ऑनलाइन और ऑफलाइन मोड दोनों जरिए से सीख सकते हैं।

ऑनलाइन कोर्स करने के लिए udemy.com से कोर्स खरीद सकते हैं। इसमें आपको पूरा करने पर सर्टिफिकेट भी मिलेगा। Udemy की वेबसाइट पर कोर्स की फीस 3500 रुपए से शुरू है।

कंप्यूटर या लैपटॉप रिपेयरिंग सिखाने वाली इंडिया में बहुत सारी संस्था है जहां से आप कम्प्यूटर ओर लैपटॉप रिपेयरिंग का काम सिख कर आप अपना बिजनेस शुरू कर सकते हैं। कंप्यूटर और लैपटॉप रिपेरिंग कोर्स में प्रवेश के लिए आपको आठवीं या 10वीं पास होना जरूरी है। ये कोर्स एक महीने से लेकर एक साल तक का होता है।

फीस की बात करें तो इस कोर्स का फीस अलग अलग संस्था के हिसाब से होता है, वैसे औसतन शौर्ट कोर्स जो 2 से 3महीने का होता है उसका फीस 10 से 15 हज़ार तक हो सकता है। कंप्यूटर और लैपटॉप रिपेयरिंग कोर्स करने के बाद आप किसी के साथ काम कर के अनुभव प्राप्त करें जिससे आपको बिजनेस के लिए ज़्यादा से ज़्यादा आयडिया आएगा। काम सीख ने के बाद आपको सबसे पहले एक शॉप की ज़रूरत पड़ेगी।

बिज़नेस शुरू करने के लिए सही लोकेशन

कंप्यूटर या लैपटॉप रिपेयरिंग बिजनेस के लिए सही स्थान का होना बहुत जरूरी है। दोस्तों यूं तो आप इस बिज़नेस की शुरुआत चाहें तो घर पर से भी कर सकते हैं लेकिन हमारा राय यही रहेगा की आप इसे मार्केट में एक छोटी सी शॉप खोल कर करें। स्थान का चुनाव करते वक्त इस बात का खास ध्यान रखें के स्थान किसी मेन मार्केट में हो या ऐसी स्थान पे हो जो कंप्यूटर या लैपटॉप रिपेयरिंग के लिए जाना जाता हो। इससे आपको कस्टमर ज्यादा मिलने की उम्मीद रहती है। कोशिश करें के आपका स्थान कम से कम 100 वर्ग फुट में हो जहां आप उपकरण सेट करने और स्टोरेज इत्यादि के लिए पर्याप्त जगह हो।

कंप्यूटर और लैपटॉप रिपेयरिंग बिज़नेस के लिए रॉ मैटेरियल आवश्यक उपकरण

दोस्तों किसी तरह के भी रिपेयरिंग बिज़नेस शुरू करने के लिए आपके पास प्रोडक्ट के स्पेयर पार्ट्स होने जरूरी हैं। कंप्यूटर और लैपटॉप रिपेयरिंग बिज़नेस के लिए हार्डवेयर और सॉफ्टवेयर दोनों चाहिए होता है। हार्डवेयर में कई उपकरण इंक्लूड होते हैं जैसे की रैम, रोम, मदरबोर्ड, सीपीयू, सीडी रोम, ग्राफिक कार्ड, प्रोसेसर, वाईफाई एंटेम्ना, वीडियो कार्ड, साउंड कार्ड, नेटवर्क कार्ड इतियादी और सॉफ्टवेयर की श्रेणी में माइक्रोसॉफ्ट ऑफिस सॉफ्टवेयर, एंटीवायरस सॉफ्टवेयर, ऑपरेटिंग सिस्टम, एडोब फ्लैश प्लेयर, यह और भी कई अन्य तरह के सॉफ्टवेयर।

लैपटॉप या कंप्यूटर रिपेयरिंग में प्रयोग होने वाले उपकरण की लिस्ट लंबी है लेकिन कुछ मुख्य उपकरण के नाम निम्नलिखित है वैसे प्रशिक्षण के दौरान उपयुक्त होने वाले सभी सामग्री के बारे में बताई जाती है। इसमें से कुछ मुख्य उपकरण इस प्रकार है।

• Tool kits
• soldering iron
• Micro soldering iron
• Multimeter
• BGA Machine
• DC Supply Machine
• Frequency counter
• Cathode-ray Oscilloscope
• SMD (Surface mount device)
Machine
• Hot Air Gun
• Desoldering pump
• SMD tester 

इसमें से कुछ उपकरण अधिक महँगे होते है तो आप चाहे तो आप किसी दूसरे रिपेयरिंग वाले से संपर्क कर उस उपकरण का काम आप उनके द्वारा ले सकते है जिसके लिए आपको कुछ पैसा देना होगा। ये सब समान आप किसी भी शहर के होलसेल दोकान से ये सब समान ले सकते हैं आप चाहे तो ऑनलाइन भी खरीद सकते हैं।

कंप्यूटर और लैपटॉप रिपेयरिंग बिज़नेस शुरू करने से पहले यहां रजिस्ट्रेशन जरूर कराएं

कंप्यूटर और लैपटॉप रिपेयरिंग बिज़नेस शुरू के लिए अगर आप तैयार हैं तो आपको कुछ बात को ध्यान में रखना काफी जरूरी है ताकि रिपेयरिंग बिज़नेस लीगली बढ़ा सकें और कोई भी प्रोब्लम न हो।

  • कंपनी नेम रजिस्टर जरूर कराएं इससे यह होगा आप लीगली कंपनी से भी डील कर सकते हैं, दरअसल कंप्यूटर और लैपटॉप रिपेयरिंग के लिए ज्यादातर कस्टमर एक फर्म से होते हैं, वे आपसे डील तभी करेंगे अगर आपकी कंपनी रजिस्टर्ड हो। 
  • जीएसटी नंबर इससे आप स्पेयर पार्ट्स में आसानी से डील कर सकते हैं। 

कंप्यूटर और लैपटॉप रिपेयरिंग बिज़नेस में कितनी इन्वेस्टमेंट लगती है

दोस्तों यूं तो इस बिज़नेस का सेटअप कॉस्ट यानी की जमीन का इन्वेस्टमेंट ज्यादा नहीं हैं किंतु इस बिज़नेस में मुख्य इन्वेस्टमेंट रॉ मैटेरियल की खरीद पर लगता है। कंप्यूटर और लैपटॉप में कई छोटे बड़े पुर्जों को इस्तेमाल में लिया जाता है, टेक्नोलॉजी क्षेत्र में नियमित बदलाव होने के कारण कई बार इसके पुर्जे काफी महंगे आते हैं।

बात करें उपकरण पे आने वाली लागत पे तो लैपटॉप के कुछ उपकरण ऐसे है जिसका रेट लाखों में है,जैसे के BGA मशीन इस मशीन का न्यूनतम राशि 80,000 के आसपास है जो 2 से 3 लाख तक आता है। अगर आपका बजट कम है तो आप ऐसे उपकरण को छोड़ सकते हैं और किसी रिपेयरिंग वाले से जिनके पास ये सब उपकरण मौजूद हो उनसे कांटेक्ट करले। फिर आपका बिजनेस बढ़ने पे ये सब उपकरण खरीद सकते हैं। ऐसे में आप कम लागत में ये बिजनेस की शुरुआत कर सकते हैं। इस बिज़नेस में अनुमानित 10-15 लाख रुपए लगेंगे।

सरकार से ले सकते हैं लोन-

यदि आप चाहे तो कंप्यूटर या लैपटॉप रिपेयरिंग बिजनेस के लिए प्रधानमंत्री रोज़गार योजना के तहत भी लोन ले सकते है। या आप ने जो प्रशिक्षण लिया है उस सर्टिफिकेट के आधार पे आप किसी बैंक में भी लोन के लिए अप्लाई कर सकते हैं। लोन की सीमा 25 हज़ार से 2 लाख तक हो सकती है।

किसी कंपनी का Authorized service centre लेने के है अवसर

हर कंपनी अपने ग्राहक को लैपटॉप या कंप्यूटर लेने पे कुछ दिन की वारंटी देती है। इसके तहत वारंटी के अवधि में अगर लैपटॉप या कंप्यूटर खराब हो जाती है तो कंपनी फ्री में रिपेयरिंग करती है । जिसके लिए वो हर शहर में अपना सर्विस सेंटर रखती है। इस तरह आप चाहे तो किसी कंपनी का मान्यता प्राप्त सर्विस सेंटर खोल सकते हैं। इसके लिए आपको पता करना होगा के किस कंपनी का सर्विस सेंटर आपके शहर में नही हैं। और आप उस कंपनी से संपर्क कर सर्विस सेंटर खोल सकते हैं।

बिजनेस चलाने के लिए कुछ खास टिप्स

शुरुआत में सर्विस चार्ज मार्केट चार्ज से कम रखें, जिससे आपके ज़्यादा से ज़्यादा ग्राहक बनेंगे। प्रोडेक्ट को दिए वक़्त पे ग्राहक रिपेयरिंग कर दें। ग्राहक से लैपटॉप या कंप्यूटर रिपेयरिंग के लिए लेते समय एक राशिद बना कर ग्राहक को दे दें के आप ने क्या क्या recive किया। अपने शॉप का ज़्यादा ज़्यादा ब्रांडिंग करें। इत्यादि।

निष्कर्ष

दोस्तों इस लेख के जरिए हमने कंप्यूटर और लैपटॉप रिपेयरिंग बिज़नेस के बारे में जाना। यह बिज़नेस की मांग है क्योंकि कंप्यूटर और लैपटॉप आज सभी देशों के तरक्की के प्लांस संजोए हुए हैं। कंप्यूटर और लैपटॉप में मौजूद डाटा ही हैं जो खराब होने पर रिपेयरिंग बिज़नेस को बढ़ावा देता है।

अन्य पढ़े :

मोबाइल रिपेयरिंग बिजनेस कैसे शुरू करें

इलेक्ट्रॉनिक रिपेयर शॉप कैसे खोले

Mobile Accessories बिजनेस कैसे शुरू करें

Add a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: