Bank Clerk Kaise Bane? बैंक में क्लर्क बनने के लिए क्या करें पूरी जानकारी

जानिए सरकारी Bank Clerk कैसे बने? योग्यता/उम्र, क्लर्क की सैलरी कितनी होती है सम्पूर्ण जानकारी | How to Become a Bank Clerk in India

Bank Clerk Kaise Bane? जब आप बैंक में जाते हैं तब आपको बैंक में बहुत से लोग काम करते हुए दिखाई पड़ते होंगे उनमें से कुछ लोग आपकी सेवा में तत्पर रहते हैं जब भी आप बैंक से संबंधित किसी समस्याओं से जूझते हैं और उन समस्याओं को जिनसे शेयर करते हैं और समाधान हासिल करते हैं उन्हें आमतौर पर बैंक कर्मी या बैंक क्लर्क के रूप में जाना जाता है।

बैंकिंग सेक्टर हमारे देश की अर्थव्यवस्था की रीढ़ की हड्डी है जो यदि ना हो तो हम कभी भी सीधे होकर चल नहीं सकते हैं। इस सेक्टर में कार्य करना बहुत ही सौभाग्य की बात होती है। क्या आप भी बैंक के क्लर्क बनना चाहते हैं तो आज हम इसी बात पर चर्चा करेंगे कि आप बैंक के क्लर्क कैसे बनेंगे क्या प्रक्रिया है? आइए जानते हैं।

बैंक में क्लर्क कोन होता हैं?

बैंक में क्लर्क एक तरह से अधिकारी की तरह ही होता है मैनेजर के बाद दूसरा सबसे बड़ा बैंक में अगर किसी का बैंक के रखरखाव का कर्तव्य होता है तो वह बैंक का क्लर्क ही होता है जो पैसों का लेनदेन और जमा सभी के बारे में कंप्लीट जानकारी रखता है।बिना क्लर्क के बैंक से ग्राहकों को लेनदेन जैसी किसी भी सुविधा का लाभ नहीं मिल सकता है।

बैंक में क्लर्क की जॉब एक प्रतिष्ठान जॉब होती है और इसको पाने के लिए हमारे देश भारत में हर साल लगभग लाखों लोग इसकी तैयारी करते हैं लेकिन सभी लोग क्लर्क की जॉब नहीं प्राप्त कर पाते हैं। प्राइवेट और सरकारी दोनों बैंकों में एक क्लर्क की अहम भूमिका रहती है क्लर्क की जॉब के लिए आप 12वीं के बाद तैयारी करना शुरू कर सकते हैं इसके लिए आपको कंप्यूटर की नॉलेज होना जरूरी है।

यह भी पढ़े : सरकारी बैंक में नौकरी पाने के लिए क्या करें?

बैंक क्लर्क के कर्तव्य और जिम्मेदारियां

मुख्य रूप से बैंक में तीन प्रकार के क्लर्क होते हैं जैसे

ब्याज क्लर्क – बैंक और ऋणों और अन्य निवेशों से बैंक के ग्राहकों के ब्याज को बचाने के लिए ब्याज की रिकॉर्डिंग करने का कार्य ब्याज क्लर्क का होता है।

ऋण क्लर्क – ऋण की जानकारी को रिकॉर्ड करना और व्यवस्थित करने का कार्य ऋण क्लर्क का होता है।

स्टेटमेंट क्लर्क – ग्राहकों के खातों की जांच की मासिक बैलेंस शीट तैयार करने का कार्य स्टेटमेंट क्लर्क का होता है।

इसके अतिरिक्त बैंक के क्लर्क का कार्य कैश डिपॉजिट करना, कैश देना, पासबुक कि अच्छे से एंट्री करना, आरटीजीएस, एनईएफटी, चेक जमा करना, डीडी बनाना यह सभी प्रकार के कार्य बैंक के क्लर्क का होता है।

Education Qualification

यदि आप बैंक के क्लर्क बनना चाहते हैं तो आप की शैक्षणिक योग्यता कम से कम ग्रेजुएशन होनी ही चाहिए। अगर आप कॉमर्स फील्ड से है तो यह नौकरी आपके लिए कुछ हद तक आसान साबित हो सकता है क्योंकि अकाउंट का भी काम होता है। आपको कंप्यूटर में कार्य करना आना चाहिए साथी साथ जिस स्थान में रहकर आवेदन कर रहे हैं उस स्थान की स्थानीय भाषा की जानकारी पूर्ण रूप से आपको होनी चाहिए।

Age limit

बैंक का क्लर्क बनने के लिए हर एक कैटेगरी के लोगों के लिए आयु सीमा अलग-अलग है। सबसे पहले हम बात करते हैं जनरल कैटेगरी वाले लोगों के लिए- आपकी आयु सीमा 20 से 28 वर्ष के मध्य होनी चाहिए। फिर आते हैं ओबीसी जिनको 3 वर्ष की और छूट मिलती है या नहीं 32 वर्ष की आयु तक आप यह फॉर्म भर सकते हैं। एससी एवं एसटी वालों को 5 वर्ष की छूट और प्राप्त होती है। अंत में स्पेशल कैटेगरी के लोगों के लिए 10 वर्ष की छूट और होती है।

बैंक क्लर्क एग्जाम कैसा होता है?

वैसे तो बैंक का एग्जाम बहुत ही कठिन एग्जाम होता है इसमें तीन मुख्य परीक्षा पहले होती थी, प्रीलिम्स, फिर होता था मैन और फिर होता था इंटरव्यू। मगर अब सिर्फ दो ही परीक्षा होती है प्रीलिम्स और मेन। इसलिए परीक्षा बहुत ही कड़ाई से होती है। चूंकि यह एग्जाम बैंक का होता है इसलिए आपको बैंकिंग क्षेत्र कि हर छोटी सी छोटी बात की जानकारी होना अति आवश्यक है क्योंकि बैंक से संबंधित भी कुछ प्रश्न किए जाते हैं।

इसके अतिरिक्त इंग्लिश भाषा की जानकारी भी आपको मुख्य रूप से होनी चाहिए क्योंकि अंग्रेजी भाषा के भी लगभग 40 से 50 प्रश्न होते हैं। गणित का भी ज्ञान होना अति आवश्यक है क्योंकि गणित से भी प्रश्न पूछे जाते हैं। फिर आता है रीजनिंग एबिलिटी जो कि बैंक के एग्जाम में बहुत अधिक मायने रखता है।

बैंक क्लर्क के लिए सिलेबस क्या हैं?

आप चाहे किसी भी गवर्नमेंट एग्जाम की तैयारी कर रहे हो उसमें सिलेबस सबसे इंपॉर्टेंट रोल प्ले करता है क्योंकि जब तक आप को यह नहीं पता चलेगा कि आप जिस का पेपर देने वाले हैं उसमें आने क्या वाला है तब तक आप किसी भी परीक्षा में उत्तीर्ण नहीं हो सकते हैं। अगर आप बैंक क्लर्क की तैयारी कर रहे हैं तो सबसे पहले आपको उसके सिलेबस के बारे में संपूर्ण जानकारी होनी चाहिए हम आपको नीचे इसके सिलेबस के बारे में पूरी जानकारी बता रहे हैं।

आपकी जानकारी के लिए बता दें कि बैंक क्लर्क बनने के लिए आपको दो परीक्षाओं से गुजरना पड़ता है पहला pre और फिर mains तो pre के सिलेबस के बारे में बात करें तो इसमें –

  • Reasoning ability
  • English
  • Numerical ability

तीनों सब्जेक्ट मिलाकर कुल सो नंबर के होते हैं और इसमें आपको high Score करना होता है क्योंकि इसमें आप जितना हाई स्कोर करेंगे उतना ही आपका मेरिट में स्थान उच्च रहेगा और आप के चांस सिलेक्ट होने की अधिक रहेंगे।

Mains exam ka सिलेबस –

  • जनरल इंग्लिश
  • रीजनिंग एबिलिटी 
  • कंप्यूटर एपटिटूड
  • सामान्य वित्तीय जागरूकता
  • गणित

इन चार सेक्शन से कुल मिलाकर 200 नंबर के प्रश्न पूछे जाते हैं रीजनिंग एबिलिटी और कंप्यूटर एप्टिट्यूड एक ही पेपर होता है जिसमें दोनों आपको देखने को मिलते हैं। इस तरह दोनों पेपर को मिलाकर कुल 300 अंक की परीक्षा ली जाती है इसके बाद अगर आपका उसमें चयन हो जाता है तो आपको फाइनल राउंड यानी इंटरव्यू के लिए बुलाया जाता है इंटरव्यू में आपसे सामान्य ज्ञान और कंप्यूटर और बैंक से जुड़े प्रश्न पूछे जाते हैं अगर आप उसमें भी सफल हो जाते हैं तो आपको क्लर्क के पद के लिए चुन लिया जाता है।

यह भी पढ़े : 12वीं के बाद बैंक में नौकरी कैसे करें?

Important Exams for Bank Clerk

आईबीपीएस (IBPS) बैंकिंग क्लर्क एग्जाम के लिए सबसे बड़ा बैंक है जो प्रतिवर्ष यह परीक्षा लेता है और यह बहुत ही कठिन परीक्षा होती है जिसका कटऑफ भी बहुत ऊपर होता है लेकिन यदि आप अच्छे से मेहनत करेंगे तो आप अवश्य है इस परीक्षा में सफल हो सकते हैं।

एसबीआई की ओर से भी बैंकिंग क्लर्क की परीक्षा ली जाती है जो कि आईबीपीएस के तुलना में थोड़ा सा आसान होता है लेकिन फिर भी क्लर्क की परीक्षा बैंक की परीक्षा ही होती है इसलिए यहां पर भी आपको मेहनत करनी है

Last 5 years प्रश्न पत्र

अगर आप पहली बार यह परीक्षा देने जा रहे हैं और आपको परीक्षा के प्रश्नों का पैटर्न नहीं मालूम है तो आप लास्ट 5 साल के प्रश्न पत्र को देख सकते हैं और प्रश्न पत्र यदि सवाल हो तो वह भी आपके लिए बहुत अच्छा साबित हो सकते हैं आप उन प्रश्न पत्रों को देखकर अपनी तैयारी करना आरंभ कर दीजिए इंटरनेट पर भिन्न-भिन्न वेबसाइट पर फ्री में भी मॉक टेस्ट लिए जाते हैं उन परिक्षा को देने का प्रयास करें और अपनी पढ़ाई अच्छे से करें पढ़ाई में किसी भी तरीके का कोई भी लापरवाही यदि आप नहीं करेंगे तो आप अवश्य परीक्षा में सफल होंगे।

एंट्रेंस एग्जाम के सब्जेक्ट के अंतर्गत आपका जो विषय कमजोर है उस विषय पर ज्यादा से ज्यादा पढ़ाई करें मेहनत करें और सफलता हासिल करें।

परीक्षा पास करने की स्ट्रेटेजी

बैंक की परीक्षा को पास करना मानो सात समुंदर पार कर जाना किसी भी परीक्षा को पास करने के लिए आपको अपना एक गोल निर्धारित करना होगा जैसे आप बोर्ड की परीक्षा को पास करने के लिए दिन रात मेहनत किया करते थे ठीक उसी प्रकार से आपको यह परीक्षा भी पास करने के लिए दिन रात मेहनत करनी होगी एक गोल सेट करना होगा एक रूटीन बनाना होगा उसी रूटीन को फॉलो करते हुए आपको प्लानिंग भी करना होगा जिससे कि आप एक बार में इस परीक्षा को पास कर जाए।

यदि आप बैंक एग्जाम के लिए अच्छे से तैयारी करना चाहते हैं तो आप किसी कोचिंग में भर्ती हो सकते हैं या फिर स्वयं तैयारी करना चाहते हैं तो आजकल बहुत सारे एजुकेशन पोर्टल भी आ चुके हैं जहां पर आप खुद को रजिस्टर करके पढ़ाई कर सकते हैं इसके अतिरिक्त आप स्वयं करंट अफेयर्स की जानकारी रखें बैंक से संबंधित सभी प्रकार के न्यूज़ को सुनें और ज्यादा से ज्यादा 10 से 12 घंटे अवश्य पढ़ें।

एक्सपर्ट्स का कहना है कि किस एजुकेशन इंस्टीट्यूट से पढ़ने से अच्छा आप स्वयं ही अपनी तैयारी करें क्योंकि आपको आपसे बेहतर कोई नहीं जान सकता एजुकेशन इंस्टीट्यूशन वाले भी बनी बनाई चीजों को फॉलो करते हुए आपको जानकारियां देते हैं इससे अच्छा आप सुनाएं खोजे सीखे और खोजते खोजते ही आप बहुत कुछ जान सकेंगे इसलिए यदि आप स्वयं तैयारी करें तो यह आपके self-confidence को बढ़ाने में भी बहुत मदद करेगा और आपका प्रेम हमेशा एक्टिवेट रहेगा क्या आप को पढ़ना है और आपका ध्यान घूम फिर कर आपके पढ़ाई के ओर ही अग्रसर रहेगा।

यह भी पढ़े : भारतीयों के लिए विदेश में नौकरी कैसे पाएं?

बैंक में क्लर्क की सैलरी कितनी होती है?

आपने इस विषय के बारे में तो जान लिया होगा कि आखिर बैंक क्लर्क होता क्या है लेकिन अब कुछ लोगों के मन में सवाल यह भी आ रहा होगा कि आखिर बैंक क्लर्क की सैलरी कितनी रहती है? देखिए बैंक में क्लर्क की पोस्ट एक बहुत ही सम्मानीय पोस्ट होती है और बहुत कम लोग इस पोस्ट को ले पाते हैं इसलिए इसकी सैलरी भी आपको अच्छी ही देखने को मिलेगी प्राइवेट बैंकों की तुलना में सरकारी बैंकों में एक क्लर्क की सैलरी काफी अच्छी होती है।

हालांकि प्राइवेट क्लर्क की भी सैलरी कुछ समय बाद अच्छी हो जाती है लेकिन उसके लिए आपके पास लंबे समय तक का एक्सपीरियंस होना चाहिए। सरकारी बैंकों में सरकार हर साल क्लर्क की सैलरी में इजाफा करती है इसलिए उन्हें हर साल DA और PA अच्छा मिलता है।

जब कोई उम्मीदवार प्राइवेट बैंक में क्लर्क की पोस्ट पर तैनात होता है तो उसको मात्र 10,000 से लेकर 15000 के बीच ही सैलरी दी जाती है और जैसे-जैसे उसका एक्सपीरियंस बढ़ता जाता है उसके काम करने का तरीका अच्छा रहता है तो बैंक उसकी सैलरी 20,000 से अधिक कर देता है लेकिन अगर बात करें सरकारी बैंक की तो उसमें स्टार्टिंग सैलेरी ₹25000 से होती है और धीरे-धीरे यह सैलरी 50000 से लेकर ₹70000 तक पहुंच जाती है।

क्या एक बैंक क्लर्क PO बन सकता हैं?

बैंक में क्लर्क की जॉब मिलने के बाद लोगों के मन में अक्सर एक सवाल जरूर आता है कि क्या वे प्रोबशनरी ऑफिसर (PO) का पद प्राप्त कर सकते हैं लेकिन ऐसा कभी संभव नहीं हैं आपकी जानकारी के लिए बता दें कि प्रोबेशनरी ऑफिसर फर्स्ट ग्रेड लेवल की पोस्ट है इसके लिए सरकारी बैंक सालाना अलग से वैकेंसी निकालते हैं जिनमें सिलेक्शन का प्रोसेस क्लर्क के सिलेक्शन के प्रोसेस से बहुत अलग होता है और मुश्किल भी होता है।

लेकिन क्लर्क के पद पर रहते हुए अगर आप अच्छा काम करते हैं अपना सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन दिखाते हैं तो आपको आगे बढ़ने के बहुत सारे अवसर मिलते हैं। हां लेकिन बैंक के द्वारा समय-समय पर बहुत सारे एग्जाम करवाए जाते हैं जिनमें आपको एक बैंक क्लर्क होने के नाते छूट भी मिलती है अगर आप उन्हें एग्जाम्स को क्वालीफाई कर लेते हैं तो आप आगे बढ़ते जाते हैं और इसके बाद आपको TO यानी ट्रेनिं ऑफिसर के पोस्ट पर तैनात कर दिया जाता है। अगर आपका प्रदर्शन और भी अच्छा रहता है तो आपको Junior Management Grade Officer Scale -1 के लिए प्रमोट कर दिया जाता है 

अन्य पढ़े :

12वीं पास कॉमर्स छात्रों के लिए सरकारी नौकरी

सरकारी नौकरी पाने के लिए क्या करें?

One Comment

Add a Comment

Your email address will not be published.

error: