जानिए किसी कंपनी की एजेंसी कैसे ले

Agency business ideas ! किसी कंपनी की एजेंसी कैसे ले

यदि आप बिजनेस करने के बारे में सोच रहे है और आप अधिक इन्वेस्ट नही करना चाहते है तब की स्थिति में किसी कंपनी का एजेंसी ले सकते है, आपको समय रहते हुए एजेंसी के बारे में जानकारी होना चाहिए, आज के समय मे कोई भी बड़ी कंपनी का बहुत सारे एजेंसी होती है, जिसे आप परचेस करके आप खुद उस एजेंसी का बॉस बन सकते है। फ्रेंचाइजी एक ऐसा काम है जिसमें आप खुद ही बॉस रहेंगे, साथ ही आप नामी कंपनियों के उत्पाद को अपने दुकान या शो रूम में बेचते है, व आप उस कंपनी के नाम से मुनाफा कमा सकते है, यदि आप खुद के बॉस बन जाये तो कैसा लगेगा, तो आइए हम कंपनी के ऐजेंसी कैसे ले व किसी किसी कंपनी की ऐजेंसी का प्राइस कितना है।

किसी कंपनी की एजेंसी का मतलब :

एजेंसी का मतलब है किसी नामचीन कम्पनी का नाम इस्तेमाल करके उनका प्रोडक्ट बेचना व अपना खुद का बिजनेस करना है। यह एक ऐसा वर्क है जिसे छोटे शहर, कस्बो यहाँ तक कि आप दूर दराज के गाँव मे भी शुरू कर सकते है, गांव व छोटे कस्बों में आ किसान कॉल सेंटर, पतंजलि आयुर्वेद केयर, व कंप्यूटर ट्रेनिंग सेंटर आदि का एजेंसी ले सकते है, साथ ही आप छोटे या बड़े शहरों में खाने पीने व शिक्षा से लेकर स्वास्थ्य तक कि जुड़ी कंपनियों का एजेंसी लेकर खोल सकते है, बस आपको एक छोटा सा शुरुआत में निवेश करना होगा फिर यह निवेश आपको आसमान की बुलंदियों तक लेकर जाती है।

एजेंसी क्या है?

आज के समय मे मार्केट में खुली प्रतिस्पर्धा व ब्रांडिंग का जमाना है, जो दिखता है वह बिखता है हो गया ऐसे में सभी कंपनियां अधिक से अधिक कस्टमर अपने कंपनी की तरफ आकर्षित करने में लगा हुआ है, कोई भी फेमस या नामचीन कंपनी, जिसका नाम मार्केट में चल रहा है व स्थापित हो चुका है, वह कुछ शर्तों के अनुरूप वह अपने नाम का आपको इस्तेमाल करने का इजाजत देता है व आपके उसके नाम से स्टोर, रेस्टोरेंट, काम्प्लेक्स, शो रूम व कैफ़े आदि डाल सकते है। इसके लिए आओमो कंपनी द्वारा बनाये गए नियम पर खरे उतरना पड़ेगा तभी आपको वह अपने नाम से एजेंसी डालने का इजाजत देगा, फेमस कंपनी के फ्रेंचाइजी लेने से बाजार में स्थापित होने में वक़्त नही लगता है क्योंकि आज के समय में टेक्नोलॉजी का जमाना है ऐसे में कौन सी कंपनी फेमस है और कौन नही यह सबको पता है।

किसी कंपनी का एजेंसी कैसे प्राप्त करें?

यदि आप बिजनेस करना चाहते है वह किसी दूसरे ब्रांड को अपना बनाना चाहते हो तो ऐसे में आपको किसी कंपनी का एजेंसी लेकर अपना काम की शुरुआत करनी होगी तभी कम समय मे आप सफलता हासिल कर सकते है, सर्वप्रथम आपको इंडस्ट्री या फिर कंपनी का चुनाव करना होगा, फिर उसमें होने वाले खर्च का आकलन करके अपने बिजनेस सेट करने के बारे में सोचना चाहिए। इसके लिए आपको पूरे मार्केट का रिसर्च करना होगा कि मार्केट में किसी चीज का डिमांड अधिक है उसी के अनुरूप काम करना होगा, आपको इस बात का ध्यान रखना है किसी कंपनी का एजेंसी लेने पर कितना पैसे लगा रहे है व कितना लाभ होगा इसका आकलन करना होगा। पूरी तरह से तैयारी होना चाहिए, उसके बाद कंपनी के फ्रेंचाइजर से मिलकर डील की बात करें। इंटरनेट में कम्पनी की फ्रेंचाइजी नियमों के बारे व उपलब्धता की जानकारी उपलब्ध होती है, अगर आप कंपनी की एजेंसी के लिए खरे उतरते है तब आपको शर्तों पर सहमति के बाद आप उस कंपनी की एजेंसी खोलने की अनुमति मिल जाती है।

कैसे करे किसी कंपनी की एजेंसी का चुनाव :

वर्तमान में बहुत सारे छोटे व बड़े कंपनी है जो अपना एजेंसी बिजनेस के लिये उपलब्ध कराती है, छोटी कम्पनियों का एजेंसी के लिए 2 लाख से 10 लाख रुपये की राशि के मध्य का इंवेस्ट करना होता है, आप अपने बजट के अनुसार कंपनी का चुनाव एजेंसी के लिए कर सकते है, आपको इस बात का ध्यान रखना है कि आप जिस स्थान में ऐजेंसी डालने वाले है वहाँ आपकी कमाई होगी या नही इस बात पर निर्भर करेगा कि आप कहाँ व किस कंपनी का एजेंसी डालते है। कंपनी का मार्केट वैल्यू का मापन करने के पश्चात ही आप उसकी ऐजेंसी लेने का फैसला करे, आपको इस बात का भी ध्यान रखना है कि जगह कैसी है। आप zomato, swiggy, Natural Ice cream, Patanjali Ayurveda, Medieasy आदि कंपनी का शेयर ले सकते है।

यदि आप बड़े कम्पनी की एजेंसी के बारे में सोच रहे है तब आपको अधिक इंवेस्ट करने की जरूरत होगी आप 25 लाख से 1 करोड़ तक इन्वेस्ट करना चाहते है ऐसे स्थिति में आप Domino’s, Pizza hut, KFC, Protein Bar, Mufti showroom, Bike show room, polo brand, adidas, आदि का एजेंसी खोल सकते है, इसकी मार्केट वैल्यू बहुत अधिक है व डीमांड भी बहुत ज्यादा है।

अधिक जानकारी प्राप्त करने के लिए आप फ्रेंचाइजी प्लस की आधिकारिक वेबसाइट www.franchiseplus.com में विजिट कर अधिक जानकारी प्राप्त कर सकते है।

एजेंसी कंपनियों की प्रमुख मुख्य शर्तें:

•जगह – वर्क शुरू करने के लिए आपके पास पर्याप्त जगह होनी चाहिए, पार्किंग की व्यवस्था होनी चाहिए।

• सिक्योरिटी मनी- कंपनियां कुछ सिक्योरिटी मनी रखवाती हैं। जिससे किसी विषम परिस्थितियों में आप पैसे नही चुका पाते है तब वह उसका उपयोग कर सकें।

• समय – विभिन्न कंपनियों की अलग-अलग शर्तें व नियम होती हैं। कुछ कंपनियां निश्चित समयावधि के लिए, वही कुछ कंपनी आजीवन के लिए एजेंसी खोलने की अनुमति देता है।

एजेंसी के लिए आपको बहुत अधिक पढ़ा-लिखा होना जरूरी नहीं है, आपपको बिजनेस की थोड़ी बहुत समझ होनी चाहिए, इसके साथ ही आप जगह, सोशल नेटवर्क और जोखिम उठाने की क्षमता है तो आप इस क्षेत्र में आ सकते हैं।

मार्केट में हर सेक्टर की एजेंसी आज के समय मे उपलब्ध है। यह आप पर निर्भर करता है कि आप अपने रुचि के अनुसार किस क्षेत्र में हाथ आजमाना चाहते हैं व बिजनेस करना चाहते है। शिक्षा के क्षेत्र में जहां मदर्स प्राइड, शेमरॉक स्कूल, DAV, किड्स गुरुकुल और बचपन जैसे स्कूल अपना ब्रांच डालने की अनुमति देता है, वहीं उच्च शिक्षा में इंडियन इंस्टीटय़ूट ऑफ कॉमर्स एंड ट्रेड जैसे संस्थान,व IGNOU हैं। कंप्यूटर एजुकेशन के लिए भी एसटीसी टेक्नोलॉजी और एनिमेशन के लिए पिकासो डिजिटल मीडिया जैसे नामचीन प्लेटफॉर्म उपलब्ध हैं।

खाने-पीने के क्षेत्र में भी बहुत सारे एजेंसी उपलब्ध है। फूड फैक्ट्री स्लाइस पिज्जा, अंकल फूड प्रोडक्ट्स, KFC, डोमिनोज़, विजयनबिज जो एक साउथ इंडियन फूड कॉर्नर है, जे कार्ट हेल्थ एंड लाइफस्टाइल प्रा.लि., बेबे दा ढाबा जैसी नामचीन कम्पनियां शामिल हैं। इनके अलावा रिटेल के क्षेत्र में किताबों की दुकान बुक कैफे, किड स्पेस, महिलाओं के ब्रांड स्वास्तिक, घर संसार, dmart, big bazzar, एक्वेरियम वर्ल्ड शॉप और ज्वेलरी डिजाइनिंग के क्षेत्र से जुड़ी डायागोल्ड, मंगलम, जैसी कम्पनियां शामिल हैं।

बहुत ही कम धनराशि से आप एक बड़ा काम शुरू कर सकते हैं और इसमें जोखिम की संभावना भी कम होती है, छोटी कम्पनियों की फ्रेंचाइजी 2 लाख से 10 लाख के बीच में मिल जाती है। केंद्र व राज्य सरकारों की लघु उद्योग से जुड़ी नीतियों में सब्सिडी के साथ लोन की व्यवस्था होती है, आप वहाँ से लोन ले सकते है साथ ही आप इसके अलावा बैंक से लोन मुहैया करवा सकते है हैं।

अमेरिकी मार्केट रिसर्च कम्पनी के मुताबिक एशियन एजेंसी मार्केट की आय प्रतिवर्ष 50 बिलियन अमेरिकी डॉलर के हिसाब से बढ़ रहा है ब आने वाले पांच सालों में यह 100 बिलियन अमेरिकी डॉलर हो जाएगा, जो एक तरह का बदलाव है, । पिछले तीन-चार सालों में भारत में एजेंसी बढ़ने का ट्रेंड 30 से 35 प्रतिशत प्रतिवर्ष की दर से बढ़ा है ऐसे में अनुमान लगा सकते है बड़े ब्रांड का नाम लगाकर लोग आज बिजनेस करने लगे है, इसलिए भविष्य में भी एजेंसी मार्केट अच्छा रहेगा ऐसी संभावना है।

Top 10 कंपनी की एजेंसी का नाम –

भारत के कुछ ऐसे कंपनी है जिसका आप एजेंसी खोल सकते है, उसका नाम निम्न है, यह कंपनी भारत मे बहुत फेमस है वह इसकी मार्केट वैल्यू भी अधिक है तो आइए जानते है कम्पनी के नाम-

1. प्रधानमंत्री कौशल विकास योजना फ्रेंचाइजी

2. स्पीक इंग्लिश जिम ( SEG)

3. सियाराम सिल्क मिल्स लिमिटेड

4. दिल्ली पैरामेडिकल एंड मैनेजमेंट इंस्टीट्यूट

5. एक्सपप्रेस कार वॉश

6. 3 एम कार केयर

7. महिंद्रा फर्स्ट चॉइस व्हील्स लिमिटेड

8. ईजीगो (Ezeego One Travel & Tours Ltd.)

9. पंतजलि आयुर्वेद

10. Domino’s pizza and Pizza Hut

किसी कंपनी के एजेंसी लेने के फायदे :

यदि आप किसी नामचीन कंपनी के एजेंसी लेते है तब आपको बहुत फायदे है, पहला यदि आप नामचीन कंपनी का एजेंसी लिए है तो किसी तरह का प्रोमोशन की जरूरत नही पड़ती है ग्राहक आसानी से आएंगे, दूसरा आपका कमाई ब्रांड के आधार पर होगा, सीधी बात है यदि कंपनी का नाम है तो ग्राहक की संख्या कम नही होगी, जगह का चुनाव में सावधानी बरतें, मार्केट में आजकल ब्रांड का चलन है ऐसे में आप अपने नाम से दुकान या बिजनेस डालते है वह नही चलता है ऐसे में एजेंसी रहता है तो उसका बहुत फायदा मिल जाता है।

किसी कंपनी का एजेंसी लेते है तब क्या सुविधा मिलता है?

किसी भी कंपनी का एजेंसी लेते है तब यदि आप दुकान जिसमे प्रोडक्ट बेचने का काम करना हो तब आपको समान के प्राइस अर्थात डीलिंग अमाउंट में प्रोडक्ट मिलता है। वही आप restaurant या फिर शो रूम ओपन करते है तब आपके फर्म में काम करने वाले एम्प्लॉई भी एजेंसी के लिए कंपनी कराती है, जिससे आपको एम्प्लॉई सर्च करने में दिक्कत नही आएगा। साथ ही सभी लोगो को कंपनी ट्रेनिंग प्रोवाइड करती है, जिससे किसी तरह का दिक्कत न हो। कंपनी अपनी एजेंसी का समय समय पर जानकारी लेती रहती है और एजेंसी को नुकसान होने की स्थिति में सचेत करता है व कंपनी अपनी ओर से एक्सट्रा हेल्प भी प्रोवाइड कराती है।

One Comment

Add a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: