हवाई चप्पल बनाने का बिजनेस कैसे शुरू करें | Slipper Making Business Plan in Hindi

कम पैसे में शुरू करे चप्पल बनाने का बिज़नेस | Slipper Making Business Ideas in Hindi

हेलो दोस्तों आज मैं आपको चप्पल बनाने का बिजनेस के बारे में बताने जा रहा हूँ की आप कैसे यह बिजनेस शुरू कर के अच्छा मुनाफा कमा सकते है और अपनी रोज मर्राह की जिंदगी को खुशहाल कर सकते हैं चप्पल हर-तरह से पैरों को सुरक्षित रखते हैं जितना महत्वपूर्ण हम लोग के लिए कपड़े है ठीक वैसे ही महत्वपूर्ण है चप्पल। चप्पल का उपयोग गांव शहरों दोनों जगहों में किया जाता हैं। शहरों में जहां चप्पल का उपयोग फैशन के तौर पर किया जाता है वही गावों में चप्पल का उपयोग कंकड़ और पत्थर से बचने के लिए किया जाता है।

भारत में चप्पल की बिक्री अत्यधिक मात्रा में होती हैं। अधिकतर लोग चप्पल का प्रयोग घर के अन्दर किया करते हैं। चप्पल कई तरह के होते है कुछ तो ऐसे होते है जिन को पहन कर आप घर से बाहर भी जा सकते है। बाजार में कई तरह की छोटी-बड़ी रंगीन चप्पलें मिलती है। इन चप्पल को बेचकर कम्पनियां अत्यधिक मुनाफा कमाती हैं। अगर आप भी चप्पल बनाने का बिजनेस शुरू करना चाहते है तो आप इस बिजनेस के जरिये महीने के अच्छे खासे पैसे कमा सकते है

कैसे करें चप्पल का व्यापार शुरू :-

किसी भी बिज़नेस को शुरू करने से पहले हमे उसके बारे में प्लानिंग करनी होती है अर्थात कुछ चीजों का निर्धारण करना होता है जैसे . :-

बजट का निर्धारण
स्लिपर (हवाई चप्पल ) निर्माण के लिए रॉ मटेरियल
मशीन कहाँ से ख़रीदे
पैकेजिंग के लिए वस्तुए आदि.

जब आपका बिज़नेस प्लान बन जाये अर्थात चीजों का निर्धारण हो जाये अर्थात कौन – सी चीज कहाँ से और कैसे लानी है इसका निर्धारण कर लेने के पश्चात् आपको बिज़नेस के लिए अगला कदम बढ़ाना चाहिए

हवाई चप्पल बनाने के व्यापार के लिए जरूरी लाइसेंस

हम सभी जानते है की हमारे यहां कोई भी व्यापार या बिज़नेस करने के लिए उसका रजिस्ट्रेशन बहुत आवश्यक होता है इसके बिना आपके बिज़नेस में और उसके मैन्युफैक्चरिंग बहुत सारी परेशानियों का सामना करना पड़ सकता है इसलिए आपको अपने बिज़नेस का रजिस्ट्रेशन जरूर करवाना चाहिए रजिस्ट्रेशन करवाने से आप सरकार द्वारा दी गयी सुविधाओं का लाभ उठा सकते है

इस बिज़नेस के रजिस्ट्रेशन में लगने वाले डाक्यूमेंट्स की लिस्ट :-

*GST रजिस्ट्रेशन करवाना होगा
*उसके बाद आपको अपनी कंपनी का ROC में रजिस्ट्रेशन करवाना होगा .
* अगर आप छोटे स्तर पर ये बिज़नेस करना चाहते है तो आपको (one Farm कंपनी ) या फिर आप LLP(लिमिटेड लिएबिलिटीज़ प्रोप्रिएटोरशिप ).
* यदि आप स्लीपर का बिजनेस गांव से करना चाहते है तो कर सकते है पर इसके लिए आपको अपने गाँव के ब्लॉक से परमिशन लेनी होगी .
* इसके बाद आपको ट्रेड लाइसेंस की आवश्यकता होगी जिसके लिए आपको लोकल म्युनिसिपेलिटी अथॉरिटी में अप्लाई करना होगा .
* इसके बाद आपको SSI रजिस्ट्रेशन करवाना DIC (डिस्ट्रिक्ट इंडस्ट्रीज सेण्टर ).
* इसके बाद आपको प्रदुषण कण्ट्रोल विभाग से परमिशन लेनी होगी
* आप चाहा तो अपने बिज़नेस का रजिस्ट्रेशन उद्योग आधार की वेबसाइट पर जाके अपने बिज़नेस को ऑनलाइन रजिस्टर करवा सकते है .

हवाई चप्पल बनाने का बिज़नेस शुरू करने के लिए हमें कुछ मशीनो की अवसक्ता होती है हमें जिन मशीनो की जरुरत होगी वो है

1) हैण्ड ऑपरेट हवाई चप्पल सोल कटिंग मशीन ( Hawai Chappal Sole Cutting Machine) – 

यह मशीन के जरिये चप्पल बनाने के लिए जो रबर की शीट इस्तेमाल होती है उस रबर की शीट को यह मशीन die के मदद से बहुत ही आसानी के साथ हर साइज में काटने के लिए इस्तेमाल में लाई जाती है यह मशीन की मदद से आप किसी भी तरह का हवाई चप्पल बना सकते है

यह मशीन बिजली से चलती है और इन्हें चलने के लिए 3 फैज़ बिजली की जरूरत होती है यह मशीन आप बाजार से यह फिर ऑनलाइन इंडिया मार्ट से बहुत ही आसानी के साथ खरीद सकते है और यह मशीन लगभग 1 लाख तक आपको मिल जाएगी

2) हवाई चप्पल ग्राइंडिंग मशीन (Hawai Chappal Grinding Machine) – 

यह मशीन की मदद से चप्पल के सोल को घिस कर प्लेन किया जाता है ऐसा करने से चप्पल की ख़ूबसूरती थोड़ी बढ़ जाती है यह मशीन 1 यह 3 फैज़ बिजली से चला सकते है यह मशीन की कीमत 6 से 7 हज़ार तक होती है और यह आपको आसानी के साथ बाजार यह ऑनलाइन मिल जाएगी

3) हवाई चप्पल स्क्रीन प्रिंटिंग (Screen Printing) –    

स्क्रीन प्रिंटिंग मशीन के मदद से आप चप्पल के उप्पर के हिस्से में डिज़ाइन बना सकते है इससे चप्पल में थोड़ी खूबसूरती बढ़ जाती है यह मशीन 2 से 3 हज़ार में मिल जाती है

4) हवाई चप्पल ड्रिल मशीन (Hawai Chappal Dril Machine) –

ड्रिल मशीन का इस्तेमाल चप्पल के शोल में होल करने के लिए किया जाता है फिर उसमे स्ट्रैप लगाया जाता है जब शुरू में चप्पल की शोल की कटाई करते है तभी उसमे 3 छोटे छोटे होल die के दुवारा हो जाता है उसी होल को यह ड्रिल मशीन के जरिये से बड़ा किया जाता है ताकि स्ट्रैप आसानी से घुस सके यह मशीन आपको बाजार यह ऑनलाइन 12 से 14 हज़ार में मिल जाएगी 

5) हवाई चप्पल स्ट्राप मशीन (Strap Machine) –

 यह मशीन के जरिये से चप्पल के सोल में स्ट्राप लगाया जाता है यह मशीन आपको 4 से 5 हज़ार तक मिल जाएगी 

6) चप्पल की 3 से 10 नंबर तक की Die – 

डाईस का इस्तेमाल अलग अलग साइज की स्लिपर बनाने के लिए किया जाता है यह die की मदद से चप्पल का सोल काटा जाता है इसी die से चप्पल का साइज बनाया जाता है और यह die अलग अलग साइज के होते है इसकी कीमत 400 से 600 तक प्रति die की होती है ऑनलाइन यह die आपको और भी सस्ते में मिल जाएंगे, डाईस तीन प्रकार की होती है , सिंगल डाई, चिल्ड्रन डाई , डबल डाई

हवाई चप्पल बनाने के लिए कच्चा माल (Raw Material)

सारे मशीन का सेटअप होने के बाद आपको कच्चा माल की भी आवश्यकता होगी। इन कच्चे माल  में जो सबसे प्रमुख है हवाई चप्पल बनाने के लिए 2 रॉ मटेरियल ही use किया जाता है

1) रबर की शीट –

इसका इस्तेमाल हवाई चप्पल की सोले बनाने के लिए किया जाता है इसके कारण ही हवाई चप्पलों में सोले होती है जिससे वह जल्दी घिसती नहीं है पर ये भी रबड़ की क्वालिटी पर निर्भर करता है अगर स्लीपर की सीट जो की रबड़ की बनी होती है यदि वह बेहतर क्वालिटी की है तो वह जल्दी नहीं घिसेगी ; लेकिन अगर रबड़ अच्छी क्वालिटी का नहीं है तो आपके स्लिपर के सोल के घिसने के चान्सेस बहुत ज्यादा है

यह चप्पल बनाने वाली रबर की शीट अलग अलग quality की बाजार में मिलती है पतले रबर शीट की कीमत थोड़ी काम होती है यह 200 से 250 में मिल जाता है और इससे सस्ते दामों वाला चप्पल तैयार किया जाता है और दूसरी मोटी शीट होती है यह थोड़ी अच्छी quality की होती है और इसका कीमत 400 से 450 तक होता है एक रबर की शीट से 20 चप्पल आसानी से बन जाता है

2) चप्पल की स्ट्राप –

स्ट्राप यानी चप्पल का फीता इसे चप्पल के उप्पेर तीनो होल में लगाया जाता है इसकी कीमत 4 से 5 रुपए प्रति स्ट्राप की होती है

स्लीपर स्ट्रैप बहुत तरह की होती है :-

चौड़ी स्लीपर स्ट्रैप men’s के लिए कीमत 2 रूपए से 10 रूपए तक
पाइप स्ट्रेप (ट्रांसपेरेंट स्ट्रेप ) Womens के लिए 4 रुपय से 12 रुपय तक
आप अपनी आवश्यकता अनुसार इससे कम या अधिक दाम वाली स्ट्रेप का इस्तेमाल कर सकते है

इस व्यापार में काम आने वाले कच्चा माल आपको स्थानीय बाजारों में आसानी से मिल जाता है। अगर आप चाहते है इसे ऑनलाइन मंगवा ना तो आप मंगवा सकते हैं

3) PVC पेंट :-

यह वह पेंट है जिसकी सहायता से आप हवाई चप्पल पर पेंट करने का कार्य करते है

हवाई चप्पल कैसे तैयार होते है (Hawai Chappal Making Process)

आइए जानते है कैसे होते है चप्पल तैयार ? सबसे पहले रबर शीट को सोल कटिंग मशीन में रखा जाता है इसके बाद आपको जिस नंबर की सोल बनानी होती है उसी नंबर की die रबर शीट के उप्पेर रख दिया जाता और सोल कटिंग मशीन से die को प्रेस किया जाता है और उसी आकर का सोल कटिंग हो जाता है कटिंग के दौरान ही चप्पल में छोटे छोटे सुराख़ हो जाते है मशीन अगर अच्छी quality की हो तो कटिंग अच्छी होती हैं।

कटिंग के बाद ग्राइंडिंग मशीन की सहायता से चप्पल के खुरदुरे हिस्से को प्लेन किया जाता है। इसे बहुत ही सावधानी के साथ किया जाता है चप्पल के चारो तरफ मशीन से प्लेन किया जाता है जिससे चप्पल में खूबसूरती थोड़ी बढ़ जाती है

 इसके बाद चप्पल को प्रिंट करने की भी आवशयकता होती है। इसमे काफी कम खर्च होता है। स्क्रीन प्रिंटिंग मशीन के मदद से हवाई चप्पल की उप्पेर वाले हिस्से में डिज़ाइन बनाया जाता है जिस से चप्पल और भी खुबसुरत देखने में लगता है चप्पल प्रिंट हो जाने के बाद इसे कुछ वक़्त सूखने के लिए छोड़ना जरूरी होता है

चप्पल सूख जाने के बाद अब ड्रिलिंग मशीन की आवश्यकता होती है यह मशीन की सहायता  से चप्पल की उप्परि स्थानों पर पहले से जो छोटो छेद हुवी रहती है उसे ड्रिलिंग मशीन की मदद से और बड़ा किया जाता है। 

इसके बाद स्ट्रैप डालने के मशीन की सहायता से चप्पलो में फीते डाले जाते हैं। इस तरह चप्पलें हो गई तैयार और इसे अब पैकिंग कर के बाजार में सप्लाई किया जा सकता है।

स्लिपर पैकिंग :-

स्लिपर पैकिंग के लिए आपके पास बहुत सारे ऑप्शन रहते है जिसमे से आप किसी एक ऑप्शन का चुनाव कर उसे स्लिपर पैकिंग के लिए कर सकते है जैसे पैकिंग बॉक्सेस जब आपका स्लिपर अर्थात हवाई चप्पल बनकर तैयार हो जाये तथा उसकी पैकिंग कार्य पूर्ण हो जाये फिर आप उसे सेल कर सकते है सेल करने लिए आप ऑनलाइन या ऑफलाइन तरीका अपना सकते है

कैसे करें प्रचार-प्रसार ?

आप चप्पलों का प्रचार-प्रसार विभिन्न होर्डिंग,मैगज़ीन,अखबार में भी कर सकते है।

हवाई चप्पल बनाने में कितनी आएगी लगत ? कितनी हो पाएगी कमाई ?

यदि आप अपने हवाई चप्पल को ऑफलाइन बेचना चाहते है तो आप डिस्ट्रीब्यूटर और शॉप वाले को बेच सकते है आप ऑफलाइन के साथ साथ ऑनलाइन भी अपने स्लिपर अर्थात प्रोडक्ट को सेल करना चाहते है तो फ्लिपकार्ट ,मिंत्रा (Myntra ) पर बेच सकते हैं इससे आपको अच्छा प्रॉफिट होगा

यदि आप स्लिपर या हवाई चप्पल का बिज़नेस छोटे स्तर पर शुरू कर रहे है तो इसमें कम से कम 1 से 1.50 लाख तक की लागत लग सकती हैं। अगर आप इस बिज़नेस को बड़े स्तर पर शुरू करना चाहते है तो आपको 5 से लेकर 6 लाख तक की लागत आ सकती है। क्यों की मार्किट में मशीन थोड़ी मेहेंगी मिलती है

मोटेतौर पर आपकी कुल लागत = रॉ मटेरियल + मशीनरी + लेबर सैलरी + भूमि + वाहन किराया
मान लीजिये 10,000 + 90,000 + 7000 + 50000 + 4000 = 161000

यदि भूमि आपकी अपनी हो खरीदी हुई या किराये की न हो तो आपकी लगत मानी गयी कुल लगत से कम आएगी

चप्पल बनाने में कुल लागत 20 से 25 रुपए तक आती है। यदि आप व्होलेसलेर्स को एक जोड़ी स्लिपर 50 तो 60 रूपए में बेचते है तो आपको 25 से 35 रूपए का प्रॉफिट होगा | मशीन डेली 100 स्लिपर का प्रोडक्शन करती है तो एक मशीन में 100*30= 3000, की डेली प्रॉफिट एक मशीन से मिल सकती है वही बड़े स्तर पर ऐसी 250 चप्पलें बनाई जा सकती है।

ये मानी गयी डेली स्लिपर मैन्युफैक्चरर / प्रोडक्शन तथा उत्पादन के हिसाब से आपकी एक महीने की कमाई इतनी होगी अगर आपका उत्पादन इससे ज्यादा होगा तो आपको एक माहिने इससे ज्यादा लाभ प्राप्त होगा इस तरह से आप कमाई का हिसाब लगा सकते है।

कैसे पहुंचाए चप्पल बाजार तक (Marketing)

सबसे पहले इन चप्पलों को बाजार तक पहुंचाने के लिए कुछ लोगों को इस काम में लगाना होगा ताकि ये लोग बाजार में जाकर आपकी बनाई हुवी चप्पल को होलसेलर और रिटेलर तक पंहुचा सके। जिससे आपको एक फ़ायदा यह होगा की आपकी बनी हुई चप्पल का मार्केटिंग भी हो जाए और बिक्री भी होने लगेगी।

बस एक बार चप्पल का order आना मार्केट से शुरू हो जाए फिर निकल पड़ा आपका बिज़नेस। आपको अपने व्यापार में चप्पल की quality का विशेष ध्यान रखना होगा। अगर आपकी मशीन अच्छी होगी तो आपकी quality बहुत अच्छी होगी और उतना ही अधिक मात्रा में आपके चप्पल की बिक्री होगी। कच्चे माल कहाँ से ले कहाँ से नहीं इसका भी विशेष रूप से ध्यान दे। 

अन्य पढ़े :

पेपर बैग मेकिंग का बिजनेस कैसे शुरू करें

दोना पत्तल (Paper Plate) बनाने का बिजनेस कैसे शुरू करें

अगरबत्ती बनाने का बिजनेस कैसे शुरू करें

घर बैठे महिला कैसे करें पैकिंग का काम

12 Comments

Add a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: