मुर्गी पालन एक लाभदायक व्यवसाय कैसे शुरू करें जानें पूरा तरीका | Poultry Farming Business In Hindi

मुर्गी पालन व्यवसाय कैसे शुरू करें – Poultry Farming Business In Hindi

स्वरोजगार से अच्छा कोई रोजगार नहीं है। पोल्ट्री फार्म भारत में उभरता हुआ स्वरोजगार है। भारत में अंडा और चिकन मीट की डिमांड बहुत तेजी से बढ़ रही है। जल्दी पैसे कमाने का सपना पूरा करने के लिए पोल्ट्री फार्म (Poultry farm) स्वरोजगार का सबसे अच्छा विकल्प है। कम लागत में आप अधिक लाभ कमा सकते हैं। बस थोड़ी सी जानकारी और छोटी—सी पूंजी में आप मूर्गी पालन का स्वरोजगार शुरु कर सकते हैं। पोल्ट्री फार्म (Poultry farm) के इस बिजनेश को कम जगह पर भी शुरु किया जा सकता है। सरकारी योजनाएं भी आपको पोल्ट्री फार्म शुरू करने के लिए लोन व ट्रेनिंग भी देती हैं। पोल्ट्री फार्म (Poultry farm) शुरू करने में लागत से इसकी टेक्निक और कमाई के बारे में इस लेख में लेटेस्ट जानकारी आपको दी जा रही है।

मुर्गी पालन क्या है?

मुर्गी का पालन मांस (meat) के लिए किया जाता है, उसे ब्रायलर कहा जाता है। अंडे के लिए भी मुर्गियों को पाला जाता है। औसतन एक मुर्गी एक साल में 180 से 270 अंडे देती है। अंडे से निकले चूजे 5 से 6 महीने की उम्र में अंडे देना शुरू करती है, लगभग 3 साल तक अंडे देती है। पोल्ट्री फॉर्म में ब्रायलर मीट और अंडे के लिए मुर्गियों को पाला जाता है।

Step 1) मुर्गी पालन व्यवसाय का विश्लेषण करें 

बिजनेस कोई भी हो उसकी सफलता आपकी मेहनत पर ही निर्भर करती है अगर आपको poultry farming के बारे में ज्यादा जानकारी नहीं है तो सबसे पहले इसके बारे में जानकारी जुटाए। जानकारी जुटाने के लिए अपने पास के पोल्ट्री फार्म के मालिकों से मिले।

उनसे मिलके बिजनेस कैसे करना है और किस तरह से अपना सामन मार्किट तक भेजना है यह सब जानकारी जुटा ले। भले ही आप उनके अनुसार काम न करें पर जितनी अधिक जानकारी आपके पास होगी , उतना ही बेहतर आपके बिजनेस के लिए होगा।

Step 2) जगह का इंतज़ाम करना (शेड बनाना)

आप किस स्तर पर और कितनी मुर्गी को रखना चाहते है आपको उसी हिसाब से जमीन का इंतज़ाम करना होगा। वेसे तो एक मुर्गी के लिए 1 से 2.5 वर्गफुट जमीन पर्याप्त होती है अगर इससे कम हो तो मुर्गियों को परेशानी आ सकती है तो अगर आप 150 मुर्गियों को पालते है तो आपको 150 से 200 feet जमीन की आवश्यकता होगी।

ध्यान रहे जब आप जगह/शेड बनाने का चयन करते है तो यह जगह साफ़ सुथरी और खुली हुयी होनी चाहिए। जगह खुली हो पर सुरक्षित भी होनी चाहिए। खुली जगह इसलिए जरुरी है क्योंकि इससे खुली हवा मुर्गियों को मिलती रहेगी और वह आगे चलकर बहुत सी बीमारियों से भी सुरक्षित रहेंगे।

बाकी आप अपनी इच्छा के अनुसार शहर में या शहर के बाहर अपने पोल्ट्री फार्म बनाने का चयन कर सकते है। कई शहरो में आपको पोल्ट्री फार्मिंग शुरू करने के लिए पहले permission की आवश्यकता होती है जो की आप अपने शहर के नगर निगम ऑफिस में जाकर पता कर सकते है। आपको आसपास रह रहे लोगों से NOC यानी की No Objection Certificate की भी आवश्यकता पढ़ सकती है।

जगह का चयन कर लेने के बाद आपको उस जगह पर अपनी मुर्गियों को उचित सुविधाये प्रदान करनी होगी। जैसे की आपको शेड में पानी की अच्छी व्यवस्था करनी होगी। आपको अपने मुर्गियों , चूज़ों को सूखी जमीन में रखना होगा। गीली जगह पर उनके बीमार होने का खतरा बढ़ जाता है। शेड को कुछ इस ढंग से बनवाये जिसमे खर्च भी कम आये और आपको बेस्ट result मिले।

Step 3) मुर्गियों के प्रकार 

मुर्गी पालन के बिजनेस में आपको सबसे पहले निर्णय लेना होता है की आप किस तरह की मुर्गी पालना चाहते है। मुर्गी कुल तीन प्रकार की होती है। जिसमे लेयर मुर्गी, ब्रायलर मुर्गी और देसी मुर्गी शामिल है।

लेयर मुर्गी का इस्तेमाल ज्यादातर अंडे पाने के लिए किया जाता है। यह 4- 5 महीने की होने के बाद अंडे देना प्रारम्भ कर देती है। इसके बाद यह लगभग 1 साल तक अंडे देती है। उसके बाद जब इनकी उम्र 16 month के आसपास होती है तब इनको मांस के लिए बेच दिया जाता है।

दूसरी होती है ब्रायलर मुर्गी , इनका इस्तेमाल ज्यादातर मांस के रूप में किया जाता है। यह दूसरे प्रकार की मुर्गी की तुलना में तेज़ी से बढ़ते है यही वजह है जो इनको मांस के रूप में इस्तेमाल के लिए सबसे बेहतर बनाता है।

आखिरी होती है देसी मुर्गी , इनका इस्तेमाल अंडे व मांस दोनों पाने के लिए किया जाता है। आप किस तरह की मुर्गी का पालन करना चाहते है वह निर्णय ले। उसी हिसाब से आपको चूज़ों को खरीदना होगा।

Step 4) चूज़े कहाँ से ले? 

अगर जगह का चयन और मुर्गी के प्रकार का चयन कर लिया गया है तो अब बारी आती है चूज़ों को लाने की। तो आपको बता दे की पोल्ट्री फार्मिंग में चूज़ों का बहुत ही अधिक महत्त्व है इनके बिना यह बिजनेस मुमकिन नहीं। इसलिए आप जहाँ कहीं से भी इन्हें लाये इतना ध्यान रखे की ये बिमारी से ग्रसित न हो।

क्योंकि अगर ये बीमार हुए तो आपके बाकी चूजों पर भी असर हो सकता है और वह भी बीमार हो सकते है। इसलिए किसी जाने माने एक्सपर्ट की मदद से ही अपने यहाँ चूजों को लाएं। ज्यादातर चूजों की कीमत 30 से 35 रुपये के आसपास होती है आप 3000 से 3500 में 100 चूज़े खरीद सकते है।

Step 5) खाने का इंतज़ाम

अब आपके पास बिजनेस के लिए जमीन है चूज़े भी है तो अब बारी आती है उनके लिए खाने के इंतज़ाम करने की। तो आप मुर्गियों को कई अलग-अलग तरह का चारा दे सकते है। पर अगर आप अपने चूजों में ज्यादा विकास देखना चाहते है तो आप उनको अलसी , मक्का आदि खाने को दे सकते है। यह दोनों ही काफी पौष्टिक होते है और growth में मदद करते है। इसके अलावा आप को मुर्गियों के लिए पानी का इंतज़ाम करना होगा।

ध्यान रहे पानी साफ़ रहे और जो पानी का बर्तन है उसे समय समय पर साफ़ करते रहे। मुर्गियों और चूज़ों को खाना रात में देने की वजह दिन में दे। रात में वह खाना नहीं खाते है इसलिए विकास के लिए दिन में ही खाना दे। अगर ठीक से खाना दिया जाए तो एक चूज़े को 1 किलो वजन करने में लगभग 45 से 55 दिन लग सकते है। वजन बहुत ही आवश्यक होता है इसलिए खाने पर ध्यान दे।

मुर्गा मुर्गियों के खिलाने वाले दाने की कीमत ₹30 किलो है। चूजे होने और फिर उनसे मुर्गियां बनने तक तीन तरह के दाने खिलाए जाते हैं। प्री स्टार्टर दाना जो 10 दिन तक के चूजे को खिलाया जाता है, फिर उसके बाद फिर 11 से 20 दिन के ब्रायलर चूजे के लिए स्टार्टर फीड और 21 दिन से मार्केट में बेचने तक समय ब्रायलर मुर्गे को फीनिशर फीड खिलाया जाता है।

Step 6) मुर्गियों को मार्केट पहुंचाना 

पोल्ट्री फार्मिंग की आखिरी स्टेप होती है आपके सामान को मार्किट में भेजने की। अगर आप अंडे बेचते है तो उनके आपको 4 से 5 रुपये तक मिल सकते है वहीँ अगर आप मुर्गी को बेचते है तो आपको इसके वजन के हिसाब से पैसे मिल सकते है जैसे की आप 1 किलो के लगभग 75 से 80 रुपये आसानी से कमा सकते है और जब इनका सीजन जैसे शादी , सर्दी आदि का तब आपको इसके 100 se 120 रुपये तक मिल सकते है या शायद उसके ज्यादा भी। इसलिए अच्छा मुर्गी के लिए खाना बहुत ही ज्यादा जरुरी है तब ही आप ज्यादा लाभ प्राप्त कर पाएंगे।

मुर्गी पालन से होने वाली आमदनी

कोई भी स्वरोजगार शुरू करने से पहले उसमें लागत और लाभ के बारे में भी जान लेना जरूरी है। अंडा और ब्रायलर मीट इसकी मांग पूरे साल बनी रहती है। ऐसे में यह व्यवसाय सबसे लाभ कमाने वाला व्यवसाय है। 4 महीने में चूजा अंडा देने लायक हो जाता है। हर अंडे पर 3 रुपए 30 पैसे लागत आती है और मार्केट में थोक एक अंडे की कीमत ₹4.70 है। हर अंडे में लगभग डेढ़ रुपए का फायदा है, इस तरह से देखा जाए तो 10000 लेयर बर्ड का फॉर्म शुरू करने पर रोजाना ₹15000 का फायदा फार्म शुरू होने के 4 महीने बाद शुरू हो जाएगा।

पोल्ट्री फार्म शुरु करने की लागत

पोल्ट्री फार्म छोटे पैमाने से लेकर बड़े पैमाने लगाया जा सकता है। अगर छोटे पैमाने में पोल्ट्री फार्म शुरू करना चाहते हैं तो इसके लिए कुछ 50,000 रूपये से डेढ़ लाख रूपये तक की लागत आती है। पोल्ट्री फार्म के बिजनेस को आप आगे धीरे-धीरे बढ़ा सकते हैं। आमदनी के साथ इन्वेस्ट करने पर अपने बिजनेस को बड़ा कर सकते हैं और अधिक लाभ कमा सकते हैं।

मीडियम साइज के पोल्ट्री फार्म (poultry farm) खोलने के लिए डेढ़ से 3 लाख रुपए तक का खर्चा आता है। जिला सहकारी बैंक और सरकारी बैंक से रोजगार करने के लिए सबसे ब्याज सब्सिडी का लोन भी आसानी से उपलब्ध हो जाता है।

मुर्गी पालन के लिए बैंक से लोन

नाबार्ड (NABARD) का पूरा नाम राष्ट्रीय कृषि और ग्रामीण विकास बैंक (National Bank For Agriculture & Rural Development) ट्री फार्म खोलने के लिए 75% लोन दे रहा है। आपके पास ट्रेनिंग और सही प्लान होना चाहिए। सरकारी संस्थान आपकी हर जगह मदद करेंगी। नाबार्ड की वेबसाइट https://www.nabard.org/hindi/

मुर्गी पालन करने कई बैंक भी सस्ती दर में लोन मुहैया कराती है। यहां से आसानी से सब्सिडी वाला लोन आपको मिल सकता है। इसके लिए आपको ड्राइविंग लाइसेंस आधार कार्ड जैसे आईडी प्रूफ दिखाना होता है। बिजनेस प्लान जिसमें जगह और प्रशिक्षण के बारे में बताना होता है। मुर्गी पालन से संबंधित लोन लगभग हर बैंक में उपलब्ध है, यह कृषि स्वरोजगार के अंतर्गत आता है।

पोल्ट्री फॉर्म स्वरोजगार और ट्रेनिंग के लिए यहां भी संपर्क कर सकते हैं

आप अपने जिले के कृषि विज्ञान केंद्र पर भी जाकर ट्रेनिंग के लिए अप्लाई कर सकते हैं पुलिस स्टाफ यहां समय-समय पोल्ट्री फॉर्म प्रबंधन की ट्रेनिंग दी जाती है। अपने जिले विशेष की अधिक जानकारी के लिए केंद्रीय पक्षी अनुसंधान संस्थान का हेल्प नंबर जिससे आप फोन करके पता कर सकते हैं- 2301220; 2310023;
ईमेल :cari_director@rediffmail.com; director.cari@icar.gov.in 

तो दोस्तों ये थी आसान स्टेप जिससे की आप समझ गए होंगे की पोल्ट्री फार्मिंग शुरू कैसे करें। यह बिजनेस आज के समय में काफी लोगों की पसंद बनता जा रहा है तथा इसमें होने वाला मुनाफा भी समय के साथ बढ़ता जा रहा है अगर अभी आप ये बिजनेस शुरू करते है तो उम्मीद है की आगे चलकर यह बिजनेस और भी grow करेगा और आपका फायदा बढ़ता ही जायेगा।

यह भी पढ़े

Goat Farming Business के बारे में पूरी जानकारी

मछली पालन व्यवसाय कैसे शुरू करें पूरी जानकारी

गाय पालन व्यवसाय कैसे शुरू करें

5 Comments

Add a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: