बूक्स और स्टेशनरी की शॉप कैसे खोले-Books & Stationary Shop Business Plan

बूक्स और स्टेशनरी की शॉप कैसे खोले दोस्तों शिक्षा का क्षेत्र काफी विस्तृत है और शिक्षा का विकास दिन-दिन होता जा रहा है। इसके साथ ही आप कुछ भी काम करते हो आपको किसी बूक या फिर पेन-पेंसिल,रबर,स्केल,चार्ट,काॅपी,वाइटनर और मार्कर जैसी चीजों की तो जरूरत पड़ती होगी। एक छात्र को इन चीजों की जरूरत अच्छे से पता होती है। ऐसे में आप स्टेशनरी की दूकान पर ये चीजें खरीदने जाते हैं। इन चीजों की जरूरत हर घर में है और इस बात से आप अच्छे से वाकिफ होंगे। पेन, पेंसिल और काॅपी तो लगभग सबके काम आती है। अगर आप एक बिजनेस शुरू करने का सोच रहे हैं तो आप अपनी एक बूक्स और स्टेशनरी की शोप खोलकर अच्छा खासा पैसा कमा सकते हैं।

बुक्स और स्टेशनरी बिजनेस का बाजार कितना है?

भारत युवाओं का देश है आज यहाँ सबसे ज्यादा युवा आबादी है आज का युवा अपने शिक्षा में बहुत अधिक ध्यान देता है ताकि वह एक बेहतर भविष्य का निर्माण कर सके एक बेहतर भविष्य के लिए अच्छी शिक्षा बहुत अहम होती है इसलिए आज शिक्षा में होने वाला खर्च पहले की तुलना में बहुत ज्यादा हो गई है यह स्थिति सिर्फ भारत मे ही नही है बल्कि पूरे विश्व मे शिक्षा के प्रति एक ललक देखी गई है शिक्षा के बढ़ते चलन के कारण आज बुक्स और स्टेशनरी का बिजनेस के लिए एक अच्छा बाजार उपलब्ध है आज हर किसी को नौकरी पाने के लिए कठिन संघर्ष करना पड़ता है, जिसमे व्यक्ति खुद को काबिल बनाने के लिए कई तरह की किताबो का अध्ययन भी करता है छात्रों की इन्ही बढ़ती जरूरतों ने आज इस बिज़नेस को एक फायदेमंद बिजनेस की श्रेणी में लाकर खड़ा कर दिया है

यह एक ऐसा बिजनेस है जिसका बाजार कभी खत्म नही होने वाला है बुक्स और स्टेशनरी का बिजनेस साल भर चलता रहता है इस बिजनेस की सबसे बड़ी विशेषता यह है कि इस बिजनेस में आपके ग्राहक बच्चे से लेकर बड़े सभी है बस यही बात बुक्स और स्टेशनरी का बिजनेस को काफी फायदेमंद बना देती है इसके साथ ही आज लोगो का साहित्य भी पढ़ने की तरफ रुझान बढ़ रहा है जो कि इस बिजनेस के लिए एक अच्छी बात है तो चलिए विस्तार से जानते है कि बुक्स और स्टेशनरी का बिजनेस क्या होता है? इस बिजनेस को कैसे शुरू कर सकते हैं?

बुक्स और स्टेशनरी का बिजनेस कैसे शुरू करे 

इस बिजनेस को शुरू करने के लिए सबसे पहले आपको जगह का चयन करना होता है यानि आपको अपनी एक दूकान किराए पर लेनी होगी। ये दूकान स्कूल, काॅलेज या आपके नजदीकी चलने वाले मार्केट में हो सकती है। इसके बाद आपको दुकान में बुक्स आदि स्टेशनरी के सामान सुरक्षित रखने के लिए फर्नीचर आदि का काम करवाना पड़ेगा। इसके बाद आपको स्टेशनी के सामान में काॅपियां, बूक्स, पेन, पेंसिल आदि चीजों का माल खरीदना पड़ेगा। इन सभी के बाद यदि आप एक दो वर्कर रखना चाहे तो रख सकते हैं। आपको ‘शॉप एंड इस्टैब्लिशमेंट एक्ट‘ के तहत अपनी शॉप का नामांकन कराना होता है और आप ये नामांकन ओनलाइन भी आसानी से करा सकते हैं। इसके बाद आप आसानी से अपनी स्टेशनरी की शोप को शुरू कर सकते हैं।

बुक्स और स्टेशनरी की दुकान खोलने के लिए किन किन चीज़ों की जरूरत पड़ेगी?

एक अच्छी योजना
कोई भी बिजनेस हो, वह कितना जल्दी सफल होगा यह बहुत हद तक इस बात पर निर्भर करता है कि उसकी शुरुआत कैसी है, और एक अच्छी शुरुआत एक अच्छी योजना पर निर्भर करती है इसलिए बुक्स और स्टेशनरी का बिजनेस शुरू करने से पहले कुछ चीज़ों के लिए योजना बना लें उदाहरण के लिए स्टेशनरी की दुकान में आप किन छात्रों के लिए किताबें आदि रखेंगे क्योंकि जब आप बिजनेस शुरू करेंगे, तो आपके सामने एक बहुत बड़ा छात्रों का समूह रहेगा हो सकता है आप सभी छात्रों के लिए पुस्तके रखें, या आप किसी खास वर्ग के छात्रों के लिये किताबें रखेंगे, इस बात का निर्धारण आपको पहले ही करना पड़ेगा इसके साथ ही आपको बुक्स और स्टेशनरी में किन किन चीज़ों को रखना है, इसकी भी एक सूची तैयार करना जरूरी है, ताकि आप अपने पैसों का सही तरह से इस्तेमाल कर पाएं

दुकान खोलने के लिए एक कमरा
कोई भी बिजनेस हो उसके लिए एक अच्छी जगह की चुनाव करना एक अहम काम होता है इसके साथ ही कितनी जगह पर्याप्त होगी, यह भी काफी अहम होता है इसलिए अपने दुकान के लिए जगह का चुनाव करते समय कुछ बातों का ध्यान जरूर रखें सबसे पहले यह सुनिश्चित कर लें कि आप खुद के घर मे यह दुकान खोलने वाले हैं, या घर से बाहर क्योंकि यह एक ऐसा बिजनेस है जिसे आप अपने घर पर भी शुरू कर सकते हैं इसके लिए आपको कम से कम 500 स्क्वायर मीटर जगह की जरूरत पड़ेगी जिसमे आप आसानी से एक बुक्स और स्टेशनरी की दुकान खोल सकते हैं दुकान के लिए यदि सबसे उपयुक्त जगह की बात करें तो वह किसी स्कूल, कॉलेज, सरकारी कार्यालयों के पास सबसे उपयुक्त माना जाता है क्योंकि इन जगहों पर आपको सीधे ग्राहक मिलते हैं जिससे आपकी आमदनी ज्यादा होने की संभावना रहती हैं

फर्नीचर की व्यवस्था
जब आपके दुकान के लिए जगह का निर्धारण हो जाये, उसके बाद फर्नीचर का नंबर आता है किसी भी स्टेशनरी और बुक्स की दुकान के लिए फर्नीचर और उसकी डिज़ाइन बहुत महत्वपूर्ण होती है इसलिए जब आप फर्नीचर के लिए जाए तो इस बात का ध्यान रखें कि जो भी फर्नीचर आप उपयोग करने जा रहे हैं, क्या वह आपके दुकान की सारी जरूरतों को पूरा करेगी आप चाहें तो फर्नीचर को अपने हिसाब से बनवा भी सकते हैं इसके लिए आपको एक कारीगर और लकड़ियों की व्यवस्था करनी पड़ेगी कारीगर आपकी जरूरतो के हिसाब से फर्नीचर बना सकता है इसके अलावा यदि आप फर्नीचर बनवाना नही चाहते तो, इसे आप खरीद भी सकतें है इसे आप अपने शहर से खरीद सकतें है, और ऑनलाइन भी मंगवाया जा सकता है

बुक्स और स्टेशनरी का बिजनेस शुरू करने के लिए कितना इंवेस्टमेंट चाहिए – Investment for this business

स्टेशनरी की दुकान खोलने पर होने वाले खर्च को दो हिस्सों में बांट सकते हैं जिसमे एक है स्टेशनरी के फर्नीचर आदि में होने वाला इन्वेस्टमेंट, वही दूसरा है स्टेशनरी के लिए सामान खरीदने में होने वाला इन्वेस्टमेंट स्टेशनरी के शॉप में आपका इन्वेस्टमेंट ज्यादा लग सकता है इसका कारण है कि आपको इसके लिए फर्नीचर आदि भी बनवाना पड़ेगा इस इन्वेस्टमेंट में आप कोई कटौती नही कर सकतें है इसके बाद समान में होने वाले इन्वेस्टमेंट की बात करते हैं यह इन्वेस्टमेंट आपके ऊपर निर्भर करता है आप जितनी बड़ी शॉप खोलना चाहते है आपका इन्वेस्टमेंट में उसी हिसाब से होगा पर यदि एक सामान्य व्यक्ति की बात करें, जिसके पास ज्यादा पूंजी निवेश करना सम्भव नही है, वह 50,000 – 60,000 रु तक के निवेश के द्वारा भी यह बिज़नेस आसानी से शुरू कर सकता है

बूक्स और स्टेशनरी की शॉप में क्या-क्या माल रख सकते हैं – What can you sell

आप अपनी स्टेशनरी की दुकान में पढ़ाई से संबंधित सभी सामान रख सकते हैं। पेन, पेंसिल, काॅपी, किताब, केल्क्यूलेटर, स्केल, रबर, सोप्नर, वाइट बोर्ड, फेविकोल, गोंद, सेलो टेप, बूक पर चढ़ाने के लिए कवर, मार्कर, हाइलाइटर, स्केच कलर, कटर, थर्माकोल सीट, चार्ट आदि सामान आप अपनी स्टेशनरी की दुकान में रख सकते हैं। इसके साथ ही आप हर केटेगरी की बुक्स अपनी दूकान में बेच सकते हैं। जैसे- हर कक्षा की किताबें और कंपीटीशन से संबंधित बूक्स आदि आप किसी भी कोर्स सी जुड़ी हुई सभी तरह की किताबें रख सकतें है इसके अलावा आजकल किसी भी प्रसिद्ध लेखक की कई अच्छी किताबों को रखा जाने लगा हैं, तो आप भी यह कर सकते हैं साथ ही आजकल शादी, जन्मदिन,नये साल आदि की मुबारकबाद देने के लिए ग्रीटिंग कार्ड भी रखे जाते हैं

माल कहां से खरीदें – Where to buy goods

एक बार स्टेशनरी में रखे जाने वाले सामानों का निर्धारण हो जाने के बाद बात आती है कि इन सामानों को कहाँ सेखरीदा जाएं स्टेशनरी का माल खरीदने के लिए आपको ज्यादा सोचने की जरूरत नहीं पड़ेगी। क्योंकि ये बड़ी आसानी से मिल जाता है। काॅपियां और पेन, पेंसिल आदि सामान आप इनकी कंपनियों से डायरेक्ट कम मूल्य पर खरीद सकते हैं। आपने देखा होगा कि घरों में भी कई सारे बिजनेस खूले हुए हैं, जिनमें काॅपियों का निर्माण किया जाता है। आप सीधे ही उनसे संपर्क करके माल खरीद सकते हैं। बाकि के सामान की जहां तक बात है इन्हें आप इनके होलसेल विक्रेता से आसानी से खरीद सकते हैं एक और माध्यम होता है वो है आनलाइन कुछ ऐसी भी वेबसाइट्स आपको मिल जाएगी जो आपको ये सभी सामान ऑनलाइन आर्डर करने पर ही मिल जायेगीं यदि आप अपने मुनाफे में इजाफा करना चाहते हैं तो आप सीधे उस कंपनी से संपर्क करें जो समान बनाती है, उसके बाद आप सीधे उस कंपनी से ही अपने सामान को उठा सकते है यह आपके लिए बहुत फायदेमंद तरीका रहेगा, लेकिन इसके लिए आपको थोड़ी मेहनत करनी पड़ेगी

बूक्स आदि की बिक्री कैसे बढ़ाएं – How to increase sales of books and stationary 

बूक्स आदि की बिक्री बढ़ाने के लिए आपके पास कई सारे रास्ते हैं। सबसे पहले तो आप अपनी स्टेशनी शोप की एक छाप बनवा लें। आप जो भी बूक या काॅपी सेल करें आप उसपे अपनी दूकान की छाप छोड़ दें। ऐसा करने से आपकी दूकान की पहचान बनी रहेगी और आपकी दूकान में कस्टमर्स बढेंगे। ऐसा करने से एक फायदा ये भी है कि बहुत सारे कस्टमर्स परमानेंट कस्टमर बन जाते हैं। इसके अलावा बिक्री बढ़ाने के लिए आप स्कूलों या कोचिंग सेंटर पर जाकर अपनी दूकान का प्रचार कर सकते हैं। इसके साथ ही आप अपनी दूकान का पेंपलेट छपवाकर उसे न्यूज पेपर आदि के द्वारा बंटवा सकते हैं। इसके अलावा आप जब भी स्कूलें खूलती है तब स्टूडेंट्स को बूक्स, काॅपियां आदि पर डिस्काउंट दे सकते हो। इतना ही नहीं आप दो दर्जन काॅपी के सेट के साथ एक पेन का पैकेट भी दे सकते हैं। ऐसा करने से आप अपने स्टेशनरी के उत्पादों की बिक्री बढ़ा सकते हैं। आप ओनलाइन मार्केट का भी सहारा ले सकते हैं जहां आप अपनी ओनलाइन बूक स्टोर खोलकर वहां अपने उत्पाद अच्छी रेट में बेच सकते हैं।

बूक्स और स्टेशनरी की शॉप से मुनाफा कितना हो सकता है – Profit from this business

इस बिजनेस से होने वाला मुनाफा दो चीज़ों पर निर्भर करता है यदि आप अपने ग्राहकों को ब्रांडेड समान ज्यादा बेच रहे हैं, आपको होने वाला मुनाफा 20-25% तक ही सीमित रहता है क्योंकि ब्रांडेड कंपनियां आपके मार्जिन को पहले से ही उस समान में जोड़ देती हैं, उसके बाद ही अपने उत्पाद की कीमत Ad के माध्यम से ग्राहकों को भी बता देती हैं इसके वजह से आप उन उत्पादों को एक निश्चित कीमत से ज्यादा का नही बेच सकते हैं वही जब आप किसी अनब्रांडेड सामान को बेचते है तो आप उस पर 50- 55% तक का मुनाफा भी आसानी से पा सकते है इसलिए आपकी पूरी कमाई इस बात पर निर्भर करती है, की आप किस तरह का सामान बेच रहे हैं यदि आप सौ रुपये का कोई उत्पाद बेचते हैं तो आप उसे 140 से 150 रुपये तक बेच सकते हैं। इसका मतलब है आप सौ रुपये की लागत पर 40 से 50 रुपये कमा सकते हैं। इसके बाद आपके उत्पाद की बिक्री पर निर्भर है कि आप कितना कमाते हैं। यदि आप 1 लाख की लागत लगाते है, तो आप इस पर 40,000 रु का फायदा पा सकते हैं तो दोस्तों आज हमने जाना कि आप किस प्रकार एक स्टेशनरी की दूकान खोलकर अच्छा खासा पैसा कमा सकते हैं।

बूक्स और स्टेशनरी शॉप की मार्केटिंग के लिए क्या करें

जब आप कोई बिजनेस शुरू करते हैं तो लोगो को अपने बिजनेस के बारे में बताना पड़ता है,ताकि लोग आपके बिजनेस से जुड़ सकें बुक्स और स्टेशनरी का बिजनेस का प्रमोशन के लिए आप कई तरीके अपना सकते हैं जैसे आप स्कूल और कॉलेजो में जाकर अपने स्टेशनरी के बारे में बच्चों को बता सकते हैं, और उन्हें अपनी स्टेशनरी से सामान लेने के लिए प्रेरित कर सकते हैं इसके साथ ही कई ऐसे सरकारी और प्राइवेट कार्यालय होते हैं, जहां पेपर आदि की जरूरत बनी ही रहती है आप जाकर वहां के किसी अधिकारी से मिलकर उनसे बात कर सकते है साथ ही आप उनको कोई विशेष आफर भी दे सकते है जैसे आप उन्हें यह आफर दे सकते है कि आप उन तक खुद ही स्टेशनरी का सामान पहुचां देंगे ऐसे ही कई ऐसे रचनात्मक तरीको का आप उपाय कर सकते हैं, जिससे आपका बिजनेस अच्छी तरक्की कर सकता है

यदि आप भी चाहे तो बुक्स और स्टेशनरी का बिजनेस में हाथ आजमा सकते हैं यह एक ऐसा बिजनेस है, जिसमे घाटा लगने की संभावना बहुत कम रहती है

5 Comments

Add a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: