बुक और स्टेशनरी की शॉप कैसे खोले? Books & Stationery Shop Business Plan in Hindi

बुक और स्टेशनरी शॉप बिज़नेस कैसे शुरू करे | Books & Stationery Shop Business Ideas in Hindi 

Books & Stationery Shop Business in Hindi – शिक्षा जगत में आये दिन बदलाव देखने को मिल रहा है, भारत हमेशा से शिक्षा के क्षेत्र में आगे रहा है, विश्व का सबसे प्राचीन लाइब्रेरी नालंदा विश्वविद्यालय भारत मे ही है। आज के समय मे बुक का महत्व बहुत ज्यादा है, लोग जागरूक हो रहे है समय के साथ विकास की गाथा लिख रहे हैं।

शिक्षा आज के समय मे जीवन की बुनियादी आवश्यकताओं में से एक है, जिस प्रकार चाय के लिए चायपत्ती व शक्कर की जरूरत होती है उसी तरह शिक्षा के लिए बुक्स एंड स्टेशनरी की आवश्यकता होती है, शिक्षा के लिए या फिर कुछ भी काम करना हो हमे चार्ट पेपर, पेन, पेंसिल, रबर, स्पॉनर व नापने के स्केल आदि की आवश्यकता होती है।

बुक्स एंड स्टेशनरी लगाना हो तो यह एक सरल व कम लागत में लगने वाला बिजनेस है इसके लिए आपकी योजना सही होनी चाहिए, और यह सरल व्यपार है इसके लिए आपको ग्राहक से डील करना आना चाहिए अगर आप एक बिजनेस शुरू करने का सोच रहे हैं तो आप अपनी एक बुक और स्टेशनरी की शोप खोलकर अच्छा खासा पैसा कमा सकते हैं। 

Table of Contents

बुक और स्टेशनरी बिजनेस का बाजार कितना है?

भारत युवाओं का देश है आज यहाँ सबसे ज्यादा युवा आबादी है आज का युवा अपने शिक्षा में बहुत अधिक ध्यान देता है ताकि वह एक बेहतर भविष्य का निर्माण कर सके एक बेहतर भविष्य के लिए अच्छी शिक्षा बहुत अहम होती है इसलिए आज शिक्षा में होने वाला खर्च पहले की तुलना में बहुत ज्यादा हो गई है यह स्थिति सिर्फ भारत मे ही नही है बल्कि पूरे विश्व मे शिक्षा के प्रति एक ललक देखी गई है

शिक्षा के बढ़ते चलन के कारण आज बुक और स्टेशनरी का बिजनेस के लिए एक अच्छा बाजार उपलब्ध है आज हर किसी को नौकरी पाने के लिए कठिन संघर्ष करना पड़ता है, जिसमे व्यक्ति खुद को काबिल बनाने के लिए कई तरह की किताबो का अध्ययन भी करता है छात्रों की इन्ही बढ़ती जरूरतों ने आज इस बिज़नेस को एक फायदेमंद बिजनेस की श्रेणी में लाकर खड़ा कर दिया है

यह एक ऐसा बिजनेस है जिसका बाजार कभी खत्म नही होने वाला है बुक्स और स्टेशनरी का बिजनेस साल भर चलता रहता है इस बिजनेस की सबसे बड़ी विशेषता यह है कि इस बिजनेस में आपके ग्राहक बच्चे से लेकर बड़े सभी है बस यही बात बुक और स्टेशनरी का बिजनेस को काफी फायदेमंद बना देती है इसके साथ ही आज लोगो का साहित्य भी पढ़ने की तरफ रुझान बढ़ रहा है जो कि इस बिजनेस के लिए एक अच्छी बात है तो चलिए विस्तार से जानते है कि बुक्स और स्टेशनरी का बिजनेस क्या होता है? इस बिजनेस को कैसे शुरू कर सकते हैं?

यह भी पढ़े : कॉपी बनाने का व्यापार कैसे शुरू करें?

बुक और स्टेशनरी का बिजनेस कैसे शुरू करें? How to Start Books and Stationary Shop Business in Hindi 

इस बिजनेस को शुरू करने के लिए सबसे पहले आपको जगह का चयन करना होता है यानि आपको अपनी एक दुकान किराए पर लेनी होगी। ये दुकान स्कूल, काॅलेज या आपके नजदीकी चलने वाले मार्केट में हो सकती है। इसके बाद आपको दुकान में बुक्स आदि स्टेशनरी के सामान सुरक्षित रखने के लिए फर्नीचर आदि का काम करवाना पड़ेगा।

इसके बाद आपको स्टेशनी के सामान में काॅपियां, बुक्स , पेन, पेंसिल आदि चीजों का माल खरीदना पड़ेगा। इन सभी के बाद यदि आप एक दो वर्कर रखना चाहे तो रख सकते हैं। आपको ‘शॉप एंड इस्टैब्लिशमेंट एक्ट‘ के तहत अपनी शॉप का नामांकन कराना होता है और आप ये नामांकन ओनलाइन भी आसानी से करा सकते हैं। इसके बाद आप आसानी से अपनी स्टेशनरी की शोप को शुरू कर सकते हैं।

बुक और स्टेशनरी की दुकान खोलने के लिए किन किन चीजों की जरूरत पड़ेगी?

एक अच्छी योजना

कोई भी बिजनेस हो, वह कितना जल्दी सफल होगा यह बहुत हद तक इस बात पर निर्भर करता है कि उसकी शुरुआत कैसी है, और एक अच्छी शुरुआत एक अच्छी योजना पर निर्भर करती है इसलिए बुक और स्टेशनरी का बिजनेस शुरू करने से पहले कुछ चीज़ों के लिए योजना बना लें उदाहरण के लिए स्टेशनरी की दुकान में आप किन छात्रों के लिए किताबें आदि रखेंगे

क्योंकि जब आप बिजनेस शुरू करेंगे, तो आपके सामने एक बहुत बड़ा छात्रों का समूह रहेगा हो सकता है आप सभी छात्रों के लिए पुस्तके रखें, या आप किसी खास वर्ग के छात्रों के लिये किताबें रखेंगे, इस बात का निर्धारण आपको पहले ही करना पड़ेगा इसके साथ ही आपको बुक और स्टेशनरी में किन किन चीज़ों को रखना है, इसकी भी एक सूची तैयार करना जरूरी है, ताकि आप अपने पैसों का सही तरह से इस्तेमाल कर पाएं

दुकान खोलने के लिए एक कमरा

कोई भी बिजनेस हो उसके लिए एक अच्छी जगह की चुनाव करना एक अहम काम होता है इसके साथ ही कितनी जगह पर्याप्त होगी, यह भी काफी अहम होता है इसलिए अपने दुकान के लिए जगह का चुनाव करते समय कुछ बातों का ध्यान जरूर रखें सबसे पहले यह सुनिश्चित कर लें कि आप खुद के घर मे यह दुकान खोलने वाले हैं, या घर से बाहर क्योंकि यह एक ऐसा बिजनेस है जिसे आप अपने घर पर भी शुरू कर सकते हैं

इसके लिए आपको कम से कम 500 स्क्वायर मीटर जगह की जरूरत पड़ेगी जिसमे आप आसानी से एक बुक्स और स्टेशनरी की दुकान खोल सकते हैं दुकान के लिए यदि सबसे उपयुक्त जगह की बात करें तो वह किसी स्कूल, कॉलेज, सरकारी कार्यालयों के पास सबसे उपयुक्त माना जाता है क्योंकि इन जगहों पर आपको सीधे ग्राहक मिलते हैं जिससे आपकी आमदनी ज्यादा होने की संभावना रहती हैं

फर्नीचर की व्यवस्था

जब आपके दुकान के लिए जगह का निर्धारण हो जाये, उसके बाद फर्नीचर का नंबर आता है किसी भी स्टेशनरी और बुक्स की दुकान के लिए फर्नीचर और उसकी डिज़ाइन बहुत महत्वपूर्ण होती है इसलिए जब आप फर्नीचर के लिए जाए तो इस बात का ध्यान रखें कि जो भी फर्नीचर आप उपयोग करने जा रहे हैं, क्या वह आपके दुकान की सारी जरूरतों को पूरा करेगी आप चाहें तो फर्नीचर को अपने हिसाब से बनवा भी सकते हैं

इसके लिए आपको एक कारीगर और लकड़ियों की व्यवस्था करनी पड़ेगी कारीगर आपकी जरूरतो के हिसाब से फर्नीचर बना सकता है इसके अलावा यदि आप फर्नीचर बनवाना नही चाहते तो, इसे आप खरीद भी सकतें है इसे आप अपने शहर से खरीद सकतें है, और ऑनलाइन भी मंगवाया जा सकता है

यह भी पढ़े : मोबाइल की दुकान कैसे खोले?

बुक और स्टेशनरी का बिजनेस शुरू करने के लिए कितना इंवेस्टमेंट चाहिए?

बुक और स्टेशनरी की दुकान खोलने पर होने वाले खर्च को दो हिस्सों में बांट सकते हैं जिसमे एक है फर्नीचर आदि में होने वाला इन्वेस्टमेंट, वही दूसरा है सामान खरीदने में होने वाला इन्वेस्टमेंट बुक्स और स्टेशनरी के शॉप में आपका इन्वेस्टमेंट ज्यादा लग सकता है इसका कारण है कि आपको इसके लिए फर्नीचर आदि भी बनवाना पड़ेगा इस इन्वेस्टमेंट में आप कोई कटौती नही कर सकतें है

यदि आपको अपने बुक्स स्टोर को अच्छा व बेहतरीन लुक देना है तब आप 4 लाख से 5 लाख तक शुरुआत में इन्वेस्ट करे, जिसे आपके बुक डिपो अच्छा व आकर्षण लगे, समय की सरलता को समझते हुए आप बैंक से लोन भी ले सकते है, खुद का दुकान हो तो उसे इंटीरियर पर पैसे लगाए, जिसे दुकान का लुक बेहतरीन लगे। आप मुद्रा लोन या फिर बिजनेस लोन दोनों तरह के लोन बैंक से स्टार्ट अप के लिए ले सकते है। इन्वेस्ट कम ब बेहतर करें, आपको वजन में नही गुणवत्ता में ध्यान देना होगा, आपका बिजनेस तब जाकर बेहतर होगा।

आप जितनी बड़ी शॉप खोलना चाहते है आपका इन्वेस्टमेंट में उसी हिसाब से होगा पर यदि एक सामान्य व्यक्ति की बात करें, जिसके पास ज्यादा पूंजी निवेश करना सम्भव नही है, वह 50,000 – 60,000 रु तक के निवेश के द्वारा भी यह बिज़नेस आसानी से शुरू कर सकता है

बुक और स्टेशनरी की शॉप में क्या-क्या माल रख सकते हैं (Books and stationery items list)

आप अपनी स्टेशनरी की दुकान में पढ़ाई से संबंधित सभी सामान रख सकते हैं। पेन, पेंसिल, काॅपी, किताब, केल्क्यूलेटर, स्केल, रबर, सोप्नर, वाइट बोर्ड, फेविकोल, गोंद, सेलो टेप, बूक पर चढ़ाने के लिए कवर, मार्कर, हाइलाइटर, स्केच कलर, कटर, थर्माकोल सीट, चार्ट आदि सामान आप अपनी स्टेशनरी की दुकान में रख सकते हैं।

इसके साथ ही आप हर केटेगरी की बुक्स अपनी दूकान में बेच सकते हैं। जैसे- हर कक्षा की किताबें और कंपीटीशन से संबंधित बूक्स आदि आप किसी भी कोर्स सी जुड़ी हुई सभी तरह की किताबें रख सकतें है इसके अलावा आजकल किसी भी प्रसिद्ध लेखक की कई अच्छी किताबों को रखा जाने लगा हैं, तो आप भी यह कर सकते हैं साथ ही आजकल शादी, जन्मदिन,नये साल आदि की मुबारकबाद देने के लिए ग्रीटिंग कार्ड भी रखे जाते हैं

माल कहां से खरीदें 

एक बार स्टेशनरी में रखे जाने वाले सामानों का निर्धारण हो जाने के बाद बात आती है कि इन सामानों को कहाँ सेखरीदा जाएं स्टेशनरी का माल खरीदने के लिए आपको ज्यादा सोचने की जरूरत नहीं पड़ेगी। क्योंकि ये बड़ी आसानी से मिल जाता है। काॅपियां और पेन, पेंसिल आदि सामान आप इनकी कंपनियों से डायरेक्ट कम मूल्य पर खरीद सकते हैं। आपने देखा होगा कि घरों में भी कई सारे बिजनेस खूले हुए हैं, जिनमें काॅपियों का निर्माण किया जाता है। आप सीधे ही उनसे संपर्क करके माल खरीद सकते हैं।

बाकि के सामान की जहां तक बात है इन्हें आप इनके होलसेल विक्रेता से आसानी से खरीद सकते हैं एक और माध्यम होता है वो है आनलाइन कुछ ऐसी भी वेबसाइट्स आपको मिल जाएगी जो आपको ये सभी सामान ऑनलाइन आर्डर करने पर ही मिल जायेगीं यदि आप अपने मुनाफे में इजाफा करना चाहते हैं तो आप सीधे उस कंपनी से संपर्क करें जो समान बनाती है, उसके बाद आप सीधे उस कंपनी से ही अपने सामान को उठा सकते है यह आपके लिए बहुत फायदेमंद तरीका रहेगा, लेकिन इसके लिए आपको थोड़ी मेहनत करनी पड़ेगी

यह भी पढ़े : घर बैठे ऑनलाइन बिजनेस कैसे करें?

बुक और स्टेशनरी आदि की बिक्री कैसे बढ़ाएं?

बुक्स और स्टेशनरी आदि की बिक्री बढ़ाने के लिए आपके पास कई सारे रास्ते हैं। सबसे पहले तो आप अपनी स्टेशनरी शोप की एक छाप बनवा लें। आप जो भी बुक्स या काॅपी सेल करें आप उसपे अपनी दूकान की छाप छोड़ दें। ऐसा करने से आपकी दुकान की पहचान बनी रहेगी और आपकी दुकान में कस्टमर्स बढेंगे। ऐसा करने से एक फायदा ये भी है कि बहुत सारे कस्टमर्स परमानेंट कस्टमर बन जाते हैं। इसके अलावा बिक्री बढ़ाने के लिए आप स्कूलों या कोचिंग सेंटर पर जाकर अपनी दुकान का प्रचार कर सकते हैं। 

इसके साथ ही आप अपनी दुकान का पेंपलेट छपवाकर उसे न्यूज पेपर आदि के द्वारा बंटवा सकते हैं। इसके अलावा आप जब भी स्कूलें खूलती है तब स्टूडेंट्स को बूक्स, काॅपियां आदि पर डिस्काउंट दे सकते हो। इतना ही नहीं आप दो दर्जन काॅपी के सेट के साथ एक पेन का पैकेट भी दे सकते हैं। ऐसा करने से आप अपने स्टेशनरी के उत्पादों की बिक्री बढ़ा सकते हैं। आप ओनलाइन मार्केट का भी सहारा ले सकते हैं जहां आप अपनी ओनलाइन बुक स्टोर खोलकर वहां अपने उत्पाद अच्छी रेट में बेच सकते हैं।

बुक्स और स्टेशनरी की शॉप से मुनाफा कितना हो सकता है? 

इस बिजनेस से होने वाला मुनाफा दो चीज़ों पर निर्भर करता है यदि आप अपने ग्राहकों को ब्रांडेड समान ज्यादा बेच रहे हैं, आपको होने वाला मुनाफा 20-25% तक ही सीमित रहता है क्योंकि ब्रांडेड कंपनियां आपके मार्जिन को पहले से ही उस समान में जोड़ देती हैं, उसके बाद ही अपने उत्पाद की कीमत Ad के माध्यम से ग्राहकों को भी बता देती हैं

इसके वजह से आप उन उत्पादों को एक निश्चित कीमत से ज्यादा का नही बेच सकते हैं वही जब आप किसी अनब्रांडेड सामान को बेचते है तो आप उस पर 50- 55% तक का मुनाफा भी आसानी से पा सकते है इसलिए आपकी पूरी कमाई इस बात पर निर्भर करती है, की आप किस तरह का सामान बेच रहे हैं यदि आप सौ रुपये का कोई उत्पाद बेचते हैं तो आप उसे 140 से 150 रुपये तक बेच सकते हैं।

इसका मतलब है आप सौ रुपये की लागत पर 40 से 50 रुपये कमा सकते हैं। इसके बाद आपके उत्पाद की बिक्री पर निर्भर है कि आप कितना कमाते हैं। यदि आप 1 लाख की लागत लगाते है, तो आप इस पर 40,000 रु का फायदा पा सकते हैं तो दोस्तों आज हमने जाना कि आप किस प्रकार एक स्टेशनरी की दूकान खोलकर अच्छा खासा पैसा कमा सकते हैं।

बुक्स और स्टेशनरी दुकान खोलने के लिए आवश्यक दस्तावेज?

बुक्स और स्टेशनरी दुकान खोलने के लिए आपके पास कुछ जरूरी दस्तावेज होनी चाहिए बिना इसके आप दुकान नहीं खोल पाएंगे हां आप अगर ग्रामीण क्षेत्र में है तो वहां पर आप बिना दस्तावेज के भी दुकान खोल सकते हैं लेकिन अगर आप शहरी क्षेत्र में दुकान कर रहे हैं तो उस समय आपको दस्तावेज की जरूरत पड़ेगी दस्तावेज में आपके पास आधार कार्ड होना अनिवार्य है इसके अलावा आपके पास पैन कार्ड के साथ साथ बैंक से संबंधित दस्तावेज भी होना जरूरी है।

अगर आपने स्वयं की जमीन पर बुक्स और स्टेशनरी की दुकान कर रखी है तो आपके पास जमीन से संबंधित कागजात होना अनिवार्य है अन्यथा अगर आपने किसी दूसरे की जमीन पर या किराए से दुकान कर रखी है तो आपके और दुकान मालिक के बीच समझौता पत्र होना चाहिए। इसके साथ-साथ आपके पास लाइसेंस भी होना जरूरी है

अगर आप बड़े स्तर पर स्टेशनरी की दुकान करना चाहते हैं। भारत में लगातार शिक्षा का प्रसार बढ़ता जा रहा है इस वजह से आने वाले समय में स्टेशनरी शॉप की मांग और भी अधिक बढ़ने वाली है जो लोग इस तरह का बिजनेस अभी शुरू कर देंगे आने वाले समय में बहुत फायदा मिलेगा।

यह भी पढ़े : कॉफी शॉप कैसे खोलें?

स्टेशनरी शॉप के लिए इस्टैब्लिशमेंट एक्ट के तहत पंजीकरण की आवश्यकता

  1. अगर आप बड़े लेवल पर बुक्स और स्टेशनरी शॉप ओपन करना चाहते हैं तो उस समय आपको एस्टेब्लिशमेंट एक्ट के तहत अपना रजिस्ट्रेशन करवाना अनिवार्य है इस एक्ट में आने वाले सभी नियमों का पालन आपको करना पड़ता है जैसे इसके नियमों में है कि आपको दुकान में काम करने वाले वर्कर की छुट्टी और काम करने के समय का निर्धारण करना होगा। इसके अलावा आप को सरकारी छुट्टी पर भी अपनी दुकान को बंद करना होगा अगर कोई धार्मिक कार्य है तो उस समय भी आपको अपने स्टेशनरी की शॉप को बंद करना होगा।
  2. इसके तहत आने वाले नियम महिला और पुरुष वर्कर दोनों के लिए लागू होंगे और वर्कर्स की सैलरी में कटौती से लेकर उन्हें निकालने तक के सभी नियमों का पालन करना अनिवार्य है।
  3. जब एक बार आप एस्टेब्लिशमेंट एक्ट के लिए आवेदन कर देते हैं तो उसके बाद आपको लाइसेंस बनवाने की प्रक्रिया शुरू करनी होगी इसमें आप कुल मिलाकर 10 फॉर्म भरने होंगे जिसमें आपको इन सभी नियमों के पालन करने के बारे में जानकारी देनी होगी।
  4. आपके द्वारा भरी गई सभी जानकारियों को सरकार के द्वारा वेरीफाई किया जाएगा अगर उन्हें लगता है कि आपके द्वारा भरी गई सभी जानकारी सही है तो मात्र 10 दिनों के अंदर आपका लाइसेंस बनकर तैयार हो जाएगा उसके बाद आप अपने बिजनेस को सुचारू रूप से जारी रख सकते हैं।
  5. आप चाहे तो ऑनलाइन भी आवेदन कर सकते हैं लेकिन अगर आप ऑनलाइन आवेदन नहीं करना चाहते हैं तो लाइसेंस के लिए आपको डायरेक्ट अपने नजदीकी नगर पालिका केंद्र पर जाकर संपर्क कर सकते हैं वहां से भी आप लाइसेंस प्राप्त कर सकते हैं।

बुक और स्टेशनरी शॉप की मार्केटिंग के लिए क्या करें?

जब आप कोई बिजनेस शुरू करते हैं तो लोगो को अपने बिजनेस के बारे में बताना पड़ता है,ताकि लोग आपके बिजनेस से जुड़ सकें बुक्स और स्टेशनरी का बिजनेस का प्रमोशन के लिए आप कई तरीके अपना सकते हैं आज के जमाने मे आपको अपना बिज़नेस आगे बढ़ाना है तो आपको समय के साथ चलना होगा, आपके दुकान अर्थात बुक्स एंड स्टेशनरी का प्रचार आपको सोशल मीडिया में करने की आवश्यकता होगी। आप अपने स्टोर के बिजनेस व्हाट्सएप पर एकाउंट ओपन कर सकते है,

फेसबुक एंड इंस्टाग्राम में आप आपने बुक्स स्टोर के नाम से पेज बना सकते है, और वहाँ बुक्स एंड स्टेशनरी का फोटोज शेयर कर सकते है, जिसे आपके व्यपार को फायदा भी होगा और कस्टमर भी जुड़ेंगे, समय के अनुरूप किसी भी काम को करना चाहिए, आप ऑनलाइन में सेल कर सकते है, आप इसके लिए पेड प्रमोशन के यूज़ कर सकते है।

लोकल न्यूज़पेपर में एडवर्टिजमेंट भी अपने दुकान के नाम से दे सकते है जिसे आपके कस्टमर बढ़ेगा। आप अपने शॉप का कार्ड बनवा ले जो भी कस्टमर समान लेने आते है उसे वह आप दे ताकि वह दुबारा भी आपके दुकान से समान खरीदे।

आप स्कूल और कॉलेजो में जाकर अपने स्टेशनरी के बारे में बच्चों को बता सकते हैं, और उन्हें अपनी स्टेशनरी से सामान लेने के लिए प्रेरित कर सकते हैं इसके साथ ही कई ऐसे सरकारी और प्राइवेट कार्यालय होते हैं, जहां पेपर आदि की जरूरत बनी ही रहती है आप जाकर वहां के किसी अधिकारी से मिलकर उनसे बात कर सकते है

साथ ही आप उनको कोई विशेष आफर भी दे सकते है जैसे आप उन्हें यह आफर दे सकते है कि आप उन तक खुद ही स्टेशनरी का सामान पहुचां देंगे ऐसे ही कई ऐसे रचनात्मक तरीको का आप उपाय कर सकते हैं, जिससे आपका बिजनेस अच्छी तरक्की कर सकता है

बुक्स और स्टेशनरी शॉप का मैनेजमेंट कैसे करें?

  1. बुक्स और स्टेशनरी शॉप खोलने से ज्यादा मुश्किल काम है कि उसका मैनेजमेंट करना क्योंकि अगर सही तरीके से शॉप का मैनेजमेंट नहीं किया जाए तो वह आपको ज्यादा मुनाफा नहीं दे सकती शॉप का मैनेजमेंट करने के लिए सबसे पहले आपको उन चीजों को नोटिस करना होगा जो आपकी दुकान में सबसे ज्यादा बिकती हैं और अपने हर दिन के रेवेन्यू को आप को ध्यान में रखना पड़ेगा।
  2. आपके पास अपने बिजनेस के लिए एक प्रॉपर प्लान तैयार होना चाहिए इसके लिए आपको एक सीट में इस बात को मेंशन करना होगा कि आप अपनी दुकान में कितने घंटे तक काम करेंगे।
  3. अगर आप छोटे स्तर पर बुक्स और स्टेशनरी शॉप कर रहे हैं तो आपको किसी भी तरह की सीसीटीवी की जरूरत नहीं पड़ती है लेकिन वहीं अगर आप शहर में बड़े स्तर पर स्टेशनरी की दुकान कर रहे हैं तो उस समय आपको सीसीटीवी कैमरा की जरूरत पड़ेगी क्योंकि इसकी मदद से आप अपने वर्कर्स और लोगों पर नजर रख पाएंगे अन्यथा आपकी दुकान से सामान चोरी होने के ज्यादा चांस रहेंगे।
  4. स्टेशनरी की दुकान में आपको अपने ग्राहक को payment से जुडी अलग-अलग सुविधा प्रदान करनी होगी ऐसा नहीं है कि आप अपनी शॉप पर केवल कैश के माध्यम से ही पेमेंट एक्सेप्ट करें कैश पेमेंट के अलावा आपको नेट बैंकिंग qr-code और अन्य तरह की सुविधा अपने ग्राहकों के लिए  उपलब्ध करवानी होगी ताकि उन्हें पेमेंट करने में किसी भी तरह की परेशानी का सामना नहीं करना पड़े और जहां ग्राहक को किसी भी चीज के लिए परेशानी का सामना नहीं करना पड़ता है तो वह बेझिझक होकर उस दुकान पर सामान खरीदने के लिए चले आते हैं।
  5. कुछ स्टेशनरी शॉप के मालिक लालच के चक्कर में सम्मान को मार्केट वैल्यू से अधिक वैल्यू में बेचने का प्रयास करते हैं हालांकि कुछ समय तक तो ग्राहक आपसे सामान ले सकते हैं लेकिन अगर उन्हें इस बात का पता चलता है तो वह आने वाले समय में कभी भी आपसे समान नहीं खरीदेंगे इससे आपको नुकसान भी हो सकता हैं
  6. एक बात का ध्यान रखें कि आप सभी वस्तुओं का एक निर्धारित प्राइस रखे उससे अधिक मूल्य पर उन्हें ना बेचे इससे ग्राहक को भी फायदा होगा और आपका बिजनेस भी सही तरीके से चलेगा।

यदि आप भी चाहे तो बुक्स और स्टेशनरी का बिजनेस में हाथ आजमा सकते हैं यह एक ऐसा बिजनेस है, जिसमे घाटा लगने की संभावना बहुत कम रहती है

अन्य पढ़े :

कॉस्मेटिक शॉप बिजनेस कैसे शुरू करें?

स्वयं की बेकरी शॉप कैसे खोले

ज्वेलरी शॉप कैसे खोले?

9 Comments

Add a Comment

Your email address will not be published.

error: