Tyre Retreading बिजनेस कैसे शुरू करें महत्वपूर्ण जानकारी

Tyre Retreading business | अब पुराने टायर से भी कमा सकते है पैसे

आज हम आपके लिए लाएं है एक और किफायती और ट्रेंडिंग बिज़नेस आईडिया जिसके बारे में आज हम आपको विस्तार से सारी जानकारी देने जा रहे है। आज अगर हम survey करने जाएं तो लग भाग हर घर में दो से तीन गाड़ियाँ तो आपको मिल ही जाएगी और गाड़ियों का आधार है उनके tyre तो आज हम आपके लिए Tyre Retreading बिजनेस से जुड़ी काफी सारी जानकारी लाए है जिस से आपको इनके बारे विस्तार से जानने का मौका मिलेगा और शायद हो सकता है एक अच्छा बिजनेस आईडिया भी मिल जाएं तो आईये जानते है Tyre Retreading से जुडी कुछ महत्वपूर्ण बातो के बारे में।

Tyre Retreading business है क्या ?

Tyre Retreading एक ऐसी प्रक्रिया है जिसमे , पुराने टायरों को पुनः निर्माण में लाया जाता है। जो टायर्स पहले से उपयोग में लाए जा चुके है उनके ऊपरी तह को उतारकर उनको नवीनीकरण करके उनसे नए टायर का निर्माण किया जाता है।

रिट्रेडिंग एक ऐसी प्रक्रिया है जिसके माध्यम से हम अपने पुराने टायरों का उपयोग कर सकते हैं । इस पद्धति में, एक टायर का पहना हुआ रबर जिसमें एक अच्छा और मजबूत मटेरियल उपयोग किया होता है, उसको उतार दिया जाता है और एक प्रक्रिया के माध्यम से मशीन में डाल दिया जाता है,

जिसमें इसे पूरी तरह से नया रूप और आकार दिया जाता है । उसके बाद,उस नयी तह चढ़ाये हुए टायर को आगे ले जाया जाता है, जिसमें टायर को final टच देने के लिए नए रबर को मशीन में डालकर एक नया ही रूप दिया जाता है और इसलिए, टायर को एक नया बना हुआ ट्रेड पैटर्न मिलता है।

इन वर्षों में, दुनिया भर में टायर निर्माण उद्योग में बहुत विकास हुआ है। original टायर बनाने वाली कम्पनीज टायर्स को इतने मजबूत मैटेरियल्स के साथ तैयार करती है ,जिसकी मदद से ना सिर्फ इन्हे एक बार पर बार बार निर्माण किया जा सकता है इसलिए, इसके साथ ही, रिट्रेड टायर उद्योग भी बढ़ रहा है, क्योंकि मजबूत टायर केसिंग की मदद से टायर को रिट्रेडिंग करना बहोत आसान हो जाता है और ज्यादा खर्च भी नहीं करना पड़ता इसके आलावा अच्छी quality वाला रेट्रेडिंग टायर आप को मिल जाता है।

आपको टायर को रेट्रेडिंग करने के लिए जरूरी है उसका पूरी तरह से उपयोग ना कर पाना जब आपका टायर पूरी तरह से खतम होने की स्थति में पहुंच जाता है तब टायर retreading की पृकिर्या शुरू हो जाती है । जब आपको पता चलता है कि ट्रेडर 2-3 मिमी तक नीचे है या , या यदि आपके टायर में पंचर हैं और मरम्मत की जरूरत है इन मामलों में, आपको अपने टायर को एक अनुभवी तकनीशियन के पास ले जाना होगा, जो टायर की जांच और निरीक्षण करेगा वो आपको बता सकता है कि क्या वह retreading होने की स्थिति में है या नहीं

Tyre retreading process

1. पुराने टायर्स को collect करना –

सबसे पहले पुराने या पहले से उपयोग किये जा चुके टायर्स को इकठा किया जाता है

2 . inspection –

जब पुराने टायर्स को फर्म में लाया जाता है तो उनकी अच्छे से जांच की जाती है के वो टायर retreading के लिए सही है या नहीं 540/2 स्पेक्ट्रा या नेवेरा inspection machine में डालकर ज़िम्मेदार इंस्पेक्टर की मदद से उन्हें जांचा जाता है

3. निरीक्षण के बाद बफरिंग टाइयर –

आज के बफ़र बेहद मजबूत होते हैं और टायर को एक सही length और आकर देते है उसमे टायर से खराब हुए मटेरियल को उचित मात्रा में निकाल दिया जाता है और फिर उसे आकार देने का प्रोसेस शुरू हो जाता है । MATTEUZZI जैसे अंतर्राष्ट्रीय नेताओं मदद से नेवीरा को एशिया के लिए लाइसेंस के साथ नयी और बेहतर टेक्नोलॉजी बनाने में मदद करता है

4. पुराने टायर्स पर मरमत करना –

नयी टेक्नोलॉजी और नई मशीनों की मदद से मरम्मत के तरीकों में काफी तरकी हुई है इनमें से कई टायरों को नियमित रूप से मरम्मत कीया जा सकता है और ज्यादातर मामलों में ओरिजिनल मटीरियल के खराब होने पर भी उसे वापस ठीक किया जा सकता है। मरम्मत स्टेशन वह जगह है जहां टायर पर लगी किसी भी तरह की चोट को नयी टेक्नोलॉजी की मदद से ठीक किया जा सकता है

5. सीमेंट की मदद से चोट को भरना –

यहां तक ​​कि छोटी चोटों में भी यह महत्वपूर्ण है कि चोट को साफ किया जाए और भरा जाए। यदि ऐसा नहीं किया जाता है, तो टायर पे जंग लगना, टायर्स से हवा बाहर निकल जाने जैसी चीजे होने का डर बना रहता है । चोट की अच्छे से जांच की जानी चाहिए , और फिर कार्बाइड कटर से साफ किया जाना चाहिए। चोट को मजबूत करने के बाद, चोट को भरने के लिए एक वल्केनाइजिंग रबर स्टेम लगाया जाना चाहिए। यह एक मजबूती देता है टायर को जिसे टायर लम्बी उम्र तक चल सकता है। सीमेंट की मदद से अगर टायर्स को रिपेयर किया जाता है तो आसानी से खराब नहीं होते और आपके व्हीकल को अच्छी grip भी देते है

6. नया पैटर्न या डिज़ाइन देना –

पुराने चलने वाले , रबर को पहले से ही नए चलने वाले पैटर्न डिजाइन के साथ वल्केनाइज किया गया है। बफ़्ड टायर को अपने ओरिजिनल रूप से बाहर लाने की लिए और नया रबर चढ़ाने के लिए कुशन गम की एक पतली परत की जरूरत होती है।अगर टायर का ओरिजिनल रबर अच्छी हालत में है तो उसे सीधा बिल्डिंग मशीन के साथ लगाया जाता है। जिसकी मदद से पुराने टायर को नया पैटर्न और डिज़ाइन मिल जाता है

7. कोई चोट बाकि ना रह जाएं –

नए टायर फिर से चेक करने के लिए उनको बाँधा जाता है और उनकी एक बार फिरसे अच्छे से जांच की जाती है जिसे उनमे कोई कमी ना रह जाये

8. चैंबर द्वारा इलाज –

टायर पूरा तैयार हो जाने के बाद उसे चैम्बर प्रक्रिया जरिये मतलब , टायर heat सहन कर सकता है या नहीं , उसकी गिसने की क्षमता कितनी , हवा का दबाव कम ज्यादा तो नहीं , रबर की क्षमता कितनी जैसी बहुत सी चीजे चेक की जाती है |

9. आखरी निरिक्षण और आकर देना –

टायर की अंतिम जांच की जाती है । यह जांच बताती है कि कोनसे टायर काम में लाये जा सकते है या नहीं फिर ही उन्हें रिट्रेड प्लांट को छोड़ने की अनुमति दी जाती है

आप Tyre retreading के लिए raw material कहा से ला सकते है

इस बिज़नेस की सबसे बेहतरीन बात मुझे ये लगती है के आपको raw matrial के लिए ज्यादा मश्कत करने की जरूरत नहीं पड़ती आप को आसानी से , लोकल garage , टायर सर्विस सेंटर या transport companies की मदद से आसानी से used टायर्स मिल जाते है , इसके अलावा इस बिज़नेस में रबर शीट , cushion gum , valcunizing सीमेंट, curing bag और envlope जैसे raw material आपको आसानी से बाजार से उपलभ्ध हो सकते है

 investment and profit from business:-

आपको Tyre रिट्रेडिंग बिजनेस के लिए कम से कम 15 और ज्यादा से ज्यादा 25 लाख तक की investment की जरूरत पढ़ सकती है और अगर हम बात करे प्रॉफिट की तो शुरूआती दौर में 40 %और अगर आपका बिज़नेस जम जाता है तो आगे वालो सालो में आप 80 % तक मुनाफा कमा सकते है

कौन से कुदरती material उपयोग में लाए जाते है :-

– सबसे पहले आता है रबर जैसे के हम सबको पता है के कुदरती रबर हमें पारा वृक्षों की मदद से हासिल होते है ,ज्यादातर रबर उन्ही से बनाये जाते है

– उसके बाद उस कुदरती रबर के साथ carbon black केमिकल को मिलाया जाता है जो रबर की शक्ति को और बड़ा देता हैं

– बड़े transpotation टायर्स के लिए पॉलीस्टर मटेरियल उपयोग में लाया जाता है जो टायर को और ज्यादा मजबूत बनाता है

 Tyre retreding बिज़नेस के लिए machines

– TYRE CURING CHAMBER:-

ये मशीन ज्यादातर टायर्स को आकर देने और उनमे हवा भरने का काम करती है JCB टायर रिट्रेडिंग और TRUCK टायर रिट्रेडिंग के लिए इस मशीन का उपयोग किया जाता है

-Tread Builder मशीन:-

इस मशीन का उपयोग अलग अलग तरह के छोटे या बड़े टायर्स बनाने के लिए किया जाता है ये मशीन टायर्स में लगे CUSION GUM को बांधे रखने में मदद करती है

-Tyre Buffing Machine:-

Buffring मशीन पुराने टायर्स के तह को हटाकर नए heavy duty processer के साथ टायर को नया बनाने में मदद करता है पुराने टायर को बफर करके मतलब साफ़ करके उनपर नयी सतह को डालने में मदद करती है

Tyre retreading business marketing:-

Tyre retreading बिज़नेस ज्यादातर heavy transportation व्हीकल्स में उपयोग में लाया जाता है, अगर आप चाहते है के आपका बिज़नेस और ज्यादा आगे बड़े तो आपको लोकल गेराज , टायर पंचर स्टेशन , ट्रांसपोर्ट कम्पनीज , टायर मैन्युफैक्चरर , माल की हेरा फेरी करने वाली गाड़ियों जैसे माध्यमों से जुड़े रहना चाहिए जिसे उनकी जरूरत के वक्त आप उन्हें अपना प्रोडक्ट आसानी से बेच सके।

इसके अलावा आप अपने बिजनेस को ऑनलाइन भी ले जा सकते है जैसे के JUST DIAL , TRADE INDIA , INDIA MART जैसे लिस्टिंग पोर्टल पर जाकर अपना बिज़नेस लिस्ट करवा सकते है इसके आलावा आज सोशल मीडिया मार्केटिंग की मदद से आप अपने प्रोडक्ट को लाखो लोगो तक पहुंचा सकते है , इसे आपके प्रोडक्ट की मार्केटिंग भी और ज्यादा बेहतर हो सकती है।

अगर आप एक नए और किफायती बिजनेस आइडिया की तलाश में है तो आपको Tyre retreading से बेहतर ऑप्शन नहीं मिल सकता। देश भर में वाहनों के बढ़ते चलन को देखते हुए , और उनकी मांग को ध्यान में रखते हुए टायर की उपयोगयता आने वाले समय में कभी कम नहीं हो सकती , ऐसे समय में Tyre retreading एक समझदारी भरा सुझाव माना जा सकता ह। इसके आलावा आज की कंपनियां टायर्स को काफी मज़बूती के साथ बनाती है जिसे उनका नवनीकरण आसानी से किया जा सकता है , और वो भी काफी किफायती कीमत पर।

हमने इस आर्टिकल में Tyre retreading व्यापर से जुड़े काफी सारे महत्वपूर्ण पहलू और जानकारी आपको प्रधान करने की कोशिश की है उम्मीद है आपको इन सब से बहोत लाभ होगा , ऐसी ही और जरूरी जानकारीयां हम आप तक लाते रहेंगे तब तक जुड़े रहिये हमारे साथ। धन्यवाद

One Comment

Leave a Reply to Khushi Cancel reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: