बकरी पालन प्रशिक्षण (Training) कहाँ और कैसे लें पूरी जानकारी

बकरी पालन प्रशिक्षण (Training) की पूरी जानकारी – जानवरों को पालने का काम मनुष्य हमेशा से करता आया है।और आज हम जिक्र कर रहे है बकरी पालन का।बकरियों को पालने का कार्य भी मनुष्य बहुत समय से करता आया है। बकरी पालन का अर्थ है बकरियों की अच्छी तरह से देख रेख तथा उनका सही तरह से ख्याल रखना।यह कार्य गाँवो में ज्यादा हुआ करता था लेकिन आज के समय मे यह बहुत ऊंचे स्तर पर शहर में भी हो रहा है।लेकिन बकरी पालन से लाभ लेने के लिए भी अलग अलग लोगो के अलग अलग तरीके है।बकरी पालन एक बहुत अच्छा और काफी पुराना कार्य है जो सदियों से होता आ रहा है।

बकरी पालन कैसे शुरू करे पूरी जानकारी हासिल करने के लिए यहाँ से पढ़े – 

बकरी पालन की आवश्यकता:

बकरी पालन क्यों करना चाहिए ? और क्या आवश्यकता है।इसका जवाब भी लग अलग स्तर पर अलग अलग है।बकरी पालन आर्थिक रूप से इंसान को लाभ देता है।बकरी पालन की आवश्यकता धार्मिकता के आधार पर भी है,और बकरी पालन का एक कारण स्वस्थ के लिए भी आवश्यक है।इन स्तरों पर बकरी पालन की आवश्यकता बढ़ती जा रही है।

आर्थिक रूप से आवश्यक:

बकरी पालन ग्रामीण इलाकों में किया जाता है लेकिन वो काफी निचला स्तर है।और यही कार्य बहुत बड़े स्तर पर भी किया जाता है।इसका मुख्य कारण है व्यापार।बकरी पालन एक बहुत ही लाभकारी व्यापार है।जिसमे बहुत फायदा होता है।इसीलिए यह आर्थिक रूप से आवश्यक है।

धार्मिक रूप से आवश्यक:

दुनिया में और खासकर भारत में बहुत धर्म के लोग रहा करते है,इन्ही में कुछ त्योहार ऐसे हुआ करते है जब बकरों की आवश्यकता बहुत बढ़ जाती है।और इन त्योहारों को लोग बहुत अच्छी तरह मनाते है।इसीलिए लिए बकरी पालन की आवश्यकता धार्मिक भी है।

स्वास्थ्य के लिए आवश्यक:

बकरी को पाल कर उससे स्वास्थ्य के लिए आवश्यक चीज़ें प्राप्त की जाती है,जिससे बहुत सी बीमारियों का इलाज भी हुआ करता है।बकरी का दुध बहुत सी बीमारियों में फायदा देता है और बीमारियों को खत्म करने में सहायक होता है।इसी कारण बकरी पालन स्वास्थ्य के लिए भी बहुत आवश्यक है।

बकरी पालन का प्रशिक्षण:

बकरी पालने के लिए प्रशिक्षण की जरूरत होती है।किसी काम को करने के लिए उसे सही तरह से करने के बारे में जानना जरूरी है।अगर आपको यह नही आता कि बकरी को किस तरह पाला जाता है तो आप बकरी पालन नही कर सकते।बकरी पालन करने के लिए जो भी जानकारी की जरूरत पड़ती है हम यहाँ आपको वह सभी जानकारी देंगे।

बकरी पालन का प्रशिक्षण कहाँ से प्राप्त करे:

भारत में बहुत से ऐसे प्रशिक्षण संस्थान है जहाँ पर admission लेकर आप बकरी पालन तथा उनसे लाभ कमाने का तरीका सिख सकते है।वहाँ आपको बकरी की नस्ल के बारे में, उनके खाने रहने तथा जगह के बारे में पूरा तरह प्रशिक्षण दिया जाएगा।साथ ही यह भी शिखाया जाएगा कि बकरी पालन में किस तरह लाभ कमाया जा सकता है।

शुल्क:

इन संस्थानों में एडमिशन लेने के लिए आपको 6000 से 15000 रुपये खर्च करने पड़ेंगे,इसमे ज्यादातर में आपको खाने रहने की सुविधा इसी शुल्क में दी जाती है।इन संस्थाओं में आपको हर तरह की जानकारी दी जाएगी,जिसमे theory और practical भी कराया जाता है।जिससे आप ठीक तरह से बकरी पालन सिख सकते है।

बकरी पालन प्रशिक्षण के लिए निचे दिए गए वेबसाइट में जाकर अधिक जानकारी हासिल कर सकते है यह फिर आप इस नंबर 0565-2763320 पर कॉल कर सकते हैं  www.cirg.res.in

प्रशिक्षण लेने के लिए योग्यता:

बकरी पालन वैसे तो गाँव मे भी लोग किया करते है और वह ज्यादा पड़े लिखे नही होते लेकिन फिर भी वह बकरी पालन कर लेते है।परंतु आप यह प्रशिक्षण बड़े मुनाफे लेने के लिए ले रहे है,और इसे व्यापार की दृष्टि से सीखना चाहते है।तो कुछ योग्यता तो होनी चाहिए।इसमें आपको कम से कम ग्रेजुएशन तो होना मांगता है जिससे कि आप इस प्रशिक्षण को अच्छी तरह सिख लें और आगे जाकर अच्छा लाभ कमा सके।

प्रशिक्षण कैसे लें:

बकरी पालन का प्रशिक्षण लेने के लिए सबसे पहले आपको एक प्रशिक्षण संस्थान को चुनना होगा,जिसके बारे में आप इस वेबसाइट से पता कर सकते है www.cirg.res.in और उनके दिए गए नंबर पर संपर्क कर के जानकारी हासिल कर सकते है उसके बाद आपको उस ससंस्थान में एडमिशन लेने होगा।उसके बाद बाकी का सभी काम संस्थान का है वो आपको बकरी पालन की पूरी training देंगे।

बकरी पालन व्यवसाय में लाभ:

बकरी पालन व्यवसाय में लाभ बहुत अच्छा है। क्योंकि बकरियों की और उनसे मिलने वाली चीजों की बहुत demand होती है।फिर चाहे वो त्योहारों पर हो या बीमारियों में,इनका commercial angle से भी बहुत लाभ प्राप्त होता है।किसी बकरे का मीट per kg भी बहुत महंगा बिकता है और अगर पूरे बकरे की बात करे तो वो और बीबी ज्यादा महँगा बिकता है।बकरी पालन के व्यवसाय में बहुत अच्छा लाभ मिलता है।

34 Comments

Add a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: