आटा चक्की (Flour Mill) का बिजनेस कैसे शुरू करें? Atta Chakki Business in Hindi

आटा चक्की का बिजनेस कैसे करें, कैसे लगाएं, कैसे काम करती है, मशीन की कीमत, प्रॉफिट, इन्वेस्टमेंट (Atta Chakki Business Plan in Hindi Profit, Ideas, Machine cost Full Information)

Atta Chakki Business in Hindi – किसी भी प्राणी को जीवन जीने के लिए अपने पेट को भरना आवश्यक होता है, क्योंकि उसका भोजन ही उसे पृथ्वी पर जीने के लिए ऊर्जा व स्वास्थ्य देता है, हम सभी भोजन में रोटियां खाना पसंद करते है, और हम सभी को पता है, रोटियां आटे से बनती है, और आटा, आटा चक्की से, तो आज वर्तमान में आटे चक्की का बिजनेस एक बेहतर विकल्प हो सकता है, तो आज हम सब आटा चक्की कैसे खोले व इसका बिजनेस कैसे करें से जुड़ी जानकारी के विषय मे जानेंगे

Table of Contents

आटा चक्की क्या होती है

गेंहू को पीसकर आटा को बनाने वाली मशीन आटा चक्की कहलाती है, इसमें धुले हुए गेंहू को पिसा जाता है, व आटे का बिज़नेस भी किया जाता है।

आटा चक्की के कुछ जरूरी पार्ट्स-

  1. होप्पर (इसमें गेंहू को डाला जाता है, सबसे ऊपर चौकोर आकार के होते है)
  2. होप्पर सेटिंग (होप्पर में गेहूं के दानों की मात्रा को कंट्रोल करने के लिए होता है)
  3. डाब (डाब जो आटे को बारीक व मोटा पीसने में सेट करने होता है)
  4. पावर मोटर (ये मोटर 3hp व 5hp के मशीन में 2 फैन बेल्ट वाली होती है, जो मोटर को मशीन से जोड़ती है)

ये कुछ मुख्य भाग आटा चक्की में होते हैं, जिनके मदद से आटा बनता है।

आटा चक्की बिजनेस क्या है

आटा चक्की खोल कर आटे का प्रोडक्शन कर, अपने अपने एरिया के दुकानदारों, ग्राहकों व फिक्स कस्टमरों को उनके हिसाब से आटे को बनाकर उन्हें बेचना व मुनाफा कमाना ही आटा चक्की बिज़नेस है। ये बिजनेस आज वर्तमान में काफी उभरता हुआ बिज़नेस बन रहा है, जो छोटे से लेकर बड़े पैमानों पर किया जाता सकता है।

यह भी पढ़े : राइस मिल का बिजनेस कैसे शुरू करें?

आटा चक्की बिजनेस कितने प्रकार का होता हैं?

जिस तरह से एक सिक्के के दो पहलू होते हैं उसी तरीके से एक बिजनेस के भी दो पहलू होते हैं पहला तो यह है कि अगर आपके पास कैपिटल कम है तो आप छोटे स्तर से आटा चक्की का बिजनेस शुरू कर सकते हैं वहीं अगर आपके पास जगह भी ज्यादा है और पैसा भी ज्यादा है तो आप बड़े स्तर पर आटा चक्की का बिजनेस कर सकते हैं और अच्छा मुनाफा कमा सकते हैं।

Atta Chakki Manufacturing Business मुख्य रूप से दो प्रकार का होता है पहला बेसिक मील और दूसरा फ्लोर मील –

(1) बेसिक मील :

इसमें आपको ग्राहक को सेवा प्रदान करनी होती है यानी कि ग्राहक आपके पास गेहूं या संवत मसाला लेकर आता है जिसको आप को पीसकर देना होता है उसके बदले में आप ग्राहक से पैसे ले सकते हैं अगर पैसे नहीं लेते हैं तो आप क्विंटल के हिसाब से कटौती कर सकते हैं। यह बिजनेस गांव और शहर दोनों ही जगह काफी पॉपुलर है इसको शुरू करने में ज्यादा लागत भी नहीं आती है और आपके पास ज्यादा जगह होने की भी जरूरत नहीं है।

अगर आपके पास एक खाली रूम है तो उससे भी आप इस बिजनेस को शुरू कर सकते हैं लेकिन एक बात का ध्यान रखें कि आपके पास बिजली का कनेक्शन होना जरूरी है। 

(2) फ्लोर मील :

इस तरह का बिजनेस करने के लिए आपके पास मोटी रकम होनी चाहिए क्योंकि इस तरह का बिजनेस करना एक तरीके से अपनी कंपनी खोलने के बराबर हैं। यह बिजनेस आप बड़े लेवल पर शुरू करेंगे जिसमें आप डायरेक्ट किसानों से अच्छा क्वालिटी का गेहूं प्राप्त करेंगे और साबुत मसाला उन्हें आप स्वयं पिसाई करके उनकी अच्छे तरीके से पैकेजिंग करके अपने ब्रांड के नाम से उन्हें बेचेंगे। बेसिक मील की तुलना में फ्लोर मील बिज़नेस में काफी ज्यादा मुनाफा देखने को मिलता है।

यह भी पढ़े : तेल की मिल का व्यापार कैसे शुरू करें?

आटा चक्की का बिजनेस कैसे शुरू करें? (How to Start Flour Mill Business in Hindi)

किसी भी बिजनेस को शुरू करने के लिए एक प्रॉपर तरीका होता है, जो उसे एक सफल बिजनेस बनाने में मदद करता है, वैसे ही आटा चक्की का बिजनेस को शुरू करने के कुछ जरूरी पद होते है-

1) जगह का चयन

किसी भी बिजनेस के लिए एक जगह का होना बहुत जरूरी होता है, अंत चक्की के बिजनेस को भी शुरू करने के लिए एक जगह होनी चाहिए जहां उस काम को आसानी से किया जा सके, ये जगह या तो रेंट पर ली जा सकती है, या जिसकी खुद की प्रॉपर्टी हो।

2) लाइसेंस व रजिस्ट्रेशन (License for Flour Mill Business)

किसी भी बिजनेस को करने के लिए उसके लिए कुछ रजिस्ट्रेशन व लाइसेंस होने जरूरी होते है, उसी प्रकार आटा चक्की के बिजनेस के लिए कुछ जरूरी रजिस्ट्रेशन व लाइसेंस निम्न है-

  • Udhyog विभाग का रजिट्रेशन लाइसेंस
  • Municipal या ग्राम पंचायत से बिजनेस के लिए NOC लाइसेंस
  • Commercial बिजली कनेक्शन लाइसेंस (जिससे नार्मल बिल से कम बिल आये, 6 यूनिट घर पर लग रही तो 4 यूनिट commercial बिल लगेगा)। ये मुख्य लाइसेंस व रजिस्ट्रेशन कर आटा चक्की बिजनेस को शुरू कर सकते है।

3) कमर्शियल बिजली सप्लाई 

आटा चक्की बिजनेस के लिए बिजली की बचत करने के लिए कमर्शियल बिजली कनेक्शन लेने से बिजली बिल भी कम आती है, ये कनेक्शन 8000 लगभग में ले सकते हैं।

4) आटा चक्की के लिए जरुरी मशीन को खरीदना

आटा चक्की बिजनेस के लिए सबसे जरूरी मशीन होती हैं, जिसके द्वारा ज्यादा से ज्यादा आटा बनाकर मुनाफा कमाया जा सके। मशीन अलग अलग तरह की होती है, उनकी प्राइस भी उनके प्रोडक्शन के ऊपर होती है, जितना बड़ा बिजनेस उतना ज्यादा capacity वाली आटा चक्की का इस्तेमाल किया जाता है, कुछ निम्न है-

7.5 HP 3rd phase पावर मोटर – 80kg  आटा के लगभग / घंटे

10 HP 3rd phase पावर मोटर – 100kg आटा के लगभग / घंटे

15 HP 3rd phase-पावर मोटर –  150kg आटा के लगभग / घंटे

इसी तरह 2HP, 3HP,5HP के पावर मोटर की कैपेसिटी लगभग 25 से 30 kg, 35 से 40kg, व 50 से 55 kg के लगभग / घंटे आटा तैयार किया जा सकता है। इन मशीनो के लिए nutraj, haystar, sansar व अन्य कंपनियों से मशीनों को उनकी वेबसाइटों पर जाकर खरीद सकते है। ये मशीन 15000 से 1 लाख तक भी आती है, जिनका इस्तेमाल अपने बिजनेस के अनुसार किया जाता है।

5) मैनपावर

किसी भी आटा चक्की को चलाने के लिए एक वर्कर का होना जरूरी होता है, जिसे लोग अपने बिजनेस के अनुसार रखते है, इनकी पेमेंट 5000 से 10,000 के लगभग होती है, व उससे ज्यादा भी हो सकती है।

6) बिजनेस मार्केटिंग

अपने आटा चक्की के बिजनेस को सब तक पहुचाने के लिए मार्केटिंग की आवश्यकता होती है, वो मार्केटिंग ऑनलाइन रूप से व ऑफलाइन रूप दोनो से करके ग्राहको को अपनी ओर आकर्षित किया जाता है।

7) ग्राहक को आटा बनाकर बेचना

ग्राहको के मांग के अनुसार उनको आटा बनाकर बेच दिया जाता है, शुरुवात में प्राइस कम रखी जाती है, व अगर आस पास कोई आटा चक्की दूसरी भी है, तो उससे कम दाम रखकर ग्राहक को अपनी तरफ ले सकते है।

8) मुनाफा

ग्राहको को आटा बनाकर बेचने से मुनाफा किया जा सकता है, यही 1kg / 5रुपये है तो 100kg पर 500 रुपये तक मुनाफा किया जा सकता है।

यह भी पढ़े : मिनी दाल मिल का बिजनेस कैसे शुरू करें?

आटा बनाने की प्रक्रिया (Flour Manufacturing Process)

  • मशीन से जुड़े बिजली के बोर्ड से ग्रीन बटन दबाए, जिससे मशीन मोटर स्टार्ट हो।
  • यही बोर्ड में 1एम्पियर की करंट शो हो रही, और मोटर 15HP की है, तो इसका मतलब मशीन के हॉपर(जहा पर गेहूं के दाने डाले जाते हैं) वो खाली है।
  • फिर हॉपर में गेहूं के दाने डाले, और डाब सेटिंग(आटा बारीक होने के लिए कंट्रोल करने वाला पार्ट), हॉपर सेटिंग(जहा दाने की मात्रा को कंट्रोल कर सकते है) करे, व ऐसा सेटिंग करे जिससे कम एम्पियर में ज्यादा अच्छे से दाने पीसे जा सके।
  • इसके बाद नीचे एरिया में से गेंहू जहा पीस गए वो जांचे की सही पिसा रहा या नही, उसी अनुसार फिर डाब बड़ा कर और बारीक आटा व हॉपर की सेटिंग से दाने को कम कर और बेहतर क्वालिटी का गेंहू पीस सकते है।और पूरा होने तक बीच बीच मे जांचते रहे, व आटा तैयार कर ले।

आटा चक्की बिजनेस में उपयोगी मशीन और उनकी कीमत (Flour Making Machine)

  • डबल स्टेज पल्वराइज़र – ₹18000-20000
  • रोस्टर – ₹22000
  • कांटा – ₹5000-10000
  • सहायक उपकरण के साथ पल्वराइज़र ₹18000
  • गैस कनेक्शन ₹10000
  • सिलिंग मशीन ₹5000
  • वेसल  ₹6500

सामान्य तौर पर अगर आप आटा चक्की बिजनेस के लिए मशीन खरीदना चाहते हैं तो उसकी कीमत सवा लाख से शुरू होकर ₹2 लाख हो सकती हैं। वहीं कुछ मशीनें ऐसे भी आती हैं जिनकी कीमत ₹10 लाख तक होती है उनमें आपको एक्स्ट्रा पिक्चर देखने को मिलते हैं उनमें काफी अधिक मात्रा में आटा और मसाला पीसा जा सकता है।

आटा चक्की बिजनेस के लिए किस तरह के गेहूं का चयन करें?

आटा चक्की बिजनेस में सबसे महत्वपूर्ण रोल गेहूं का ही रहता है क्योंकि अगर आपके पास अच्छा क्वालिटी का गेहूं है और आपके आटे में दम है तो आप का आटा बहुत ज्यादा बिकेगा जिससे आपका बिजनेस काफी ऊपर तक जाएगा। गेहूं में दो क्वालिटी के गेहूं आपको देखने को मिलेंगे पहला हाइब्रिड गेहूं और दूसरा पारंपरिक गेहूं। हाइब्रिड गेहूं वह होता है जिसको वैज्ञानिक पद्धति के आधार पर तैयार किया जाता है उसको तैयार करने के लिए रासायनिक उर्वरकों का प्रयोग किया जाता है कम बीज में भी यह अच्छी पैदावार देता है।

वर्तमान समय में हाइब्रिड गेहूं की मांग लगातार बढ़ती जा रही है और इसके पीछे का कारण यह है कि लगातार जनसंख्या वृद्धि से सभी लोगों को शुद्ध गेहूं प्राप्त नहीं हो पा रहा है इसलिए हाइब्रिड गेहूं ज्यादा से ज्यादा करके सभी लोगों की आवश्यकता को पूरा किया जा रहा है। दूसरा परंपरिक गेहूं है यह गेहूं का सबसे शुद्धतम रूप होता है इसको प्राकृतिक उर्वरकों की सहायता से उगाया जाता है।

हाइब्रिड गेहूं की तुलना में पारंपरिक गेहूं में अधिक ताकत होती है और इसकी रोटियां भी काफी अच्छी बनती है इसलिए मार्केट में सबसे ज्यादा बिकने वाला गेहूं पारंपरिक गेहूं होता है जिसकी कीमत भी काफी होती है। एक आम आदमी परंपरिक गेहूं के आटे का इस्तेमाल करने में असक्षम है।

यह भी पढ़े : कॉटन मिल का बिजनेस कैसे शुरू करें?

आटा चक्की के लिए इन्वेस्टमेंट कितना लगता है

आटा चक्की के लिए इन्वेस्टमेंट लगभग न्यूनतम 50, 000 से लेकर अधिकतम आपके बिज़नेस के अनुसार लाखो तक लग सकता है।

शुरुवाती दौर में निम्न होता है-

मटेरियल व मशीन कीमत
मशीन 15000 -100000
कमर्शियल बिजली कनेक्शन 8000 लगभग
जगह 10000 व उससे ज्यादा(जगह के अनुसार)
मैनपावर 10000 

अधिकतम लाखो तक इस बिजनेस में इन्वेस्ट किया जा सकता है।

आटा चक्की बिजनेस से मुनाफा कितना होता हैं (Atta Chakki Business Profit)

अगर आज के दाम के हिसाब से 1kg/5 रुपये हो, तो 100kg में 500 रुपये,  यदि मशीन 1 घण्टे में 100 kg आटा पीस रहा और 500 रुपये/घंटे हो रहा, आटा चक्की 8 घंटे न्यूनतम चल रही एक दिन में तब एक दिन में 4000 रुपये का मुनाफा होगा व महीने का लगभग 120,000 मुनाफा हो सकता है।

अतः आटा चक्की बिजनेस के शुरुआती दौर में 50,000 के लगभग तक का मुनाफा हो सकता है।

इस प्रकार आटा चक्की बिजनेस में कम लागत लगाकर अच्छा मुनाफा कमाया जा सकता है, व अपने बिज़नेस को बढ़ाया जा सकता है, जिससे भविष्य को बेहतर बनाया जा सकता है।

आटा चक्की बिजनेस के लिए ऋण देने वाले बैंको की सूची

आटा चक्की के बिजनेस के लिए भारत में सरकारी और गैर सरकारी बैंक मौजूद है जो इस बिजनेस को करने के लिए सब्सिडी प्रदान करते हैं उन बैंकों के नाम निम्न है –

  • केनरा बैंक
  • पंजाब नेशनल बैंक
  • सिंडिकेट बैंक
  • एचडीएफसी
  • बैंक ऑफ बड़ौदा
  • स्टेट बैंक ऑफ इंडिया
  • यूको बैंक
  • बैंक ऑफ इंडिया
  • आंध्रा बैंक

आटा चक्की बिजनेस की सफलता के लिए कुछ टिप्स

आटा चक्की के बिजनेस के सफलता के कुछ टिप्स निम्न है-

  • क्वालिटी अच्छी रखे, मतलब आटे में कोई गंदगी न हो व आपका पिसा हुवा आटा एकदम बारीक होना चाहिए उसे एक बेहतर क्वालिटी का बनाता हैं।
  • बिज़नेस की जानकारी ग्राहको तक पहुचाने के लिए मार्केटिंग करना न भूले, जिससे ग्राहको को आकर्षित किया जा सके, व अपने बिज़नेस को बढ़ाया जा सके।
  • प्राइस हमेशा शुरू में कम रखे जिससे ग्राहक आपकी तरफ आ सके, और आस पास के चक्की वालो के दाम पर ध्यान देकर, उनसे कम ही दाम रखे।
  • कमर्शियल बिजली कनेक्शन जरूर ले जिससे बिजली का बिल भरने में सारा मुनाफा न जाये, बचत की जा सके, व कम बिजली बिल आ सके।
  • मशीन को अपने बिज़नेस के अनुसार ही ले, जिससे वह आपको मन मुताबिक मुनाफा दे सके।
  • समय से काम को पूरा करे, जिससे लोग आपके काम को सराहे व आपके तरफ आये।

FAQ: आटा चक्की खोलने से जुड़े लोगों द्वारा पूछे जाने वाले सवाल

आटा चक्की कैसे खोले?

आटा चक्की खोलने के लिए सबसे पहले आपको एक अच्छी जगह का चयन करना होगा इसके बाद आटा चक्की के बिजनेस के लिए कुछ जरूरी रजिस्ट्रेशन व लाइसेंस लेनी होगी, कमर्शियल बिजली सप्लाई लेना होगा, आटा चक्की के लिए जरुरी मशीन को खरीदना होगा और साथ में कुछ कर्मचारी को रखना होगा

क्या आटा चक्की का व्यवसाय लाभदायक है?

जी हाँ आटा चक्की का व्यवसाय बहुत ही लाभदायक कृषि व्यवसाय में से एक माना जाता है भारत ऐसा देश है जहा हम अपने दैनिक आहार में विभिन्न आटे से बनी रोटियाँ डेली उपयोग करते ही है

आटा चक्की मशीन लगाने में कितना खर्च आता है?

आटा चक्की मशीन लगाने में खर्च की बात करें तो यह लगभग न्यूनतम 50, 000 से लेकर अधिकतम आपके बिज़नेस के अनुसार लाखो तक लग सकता है

आटा पीसने की चक्की कौन सी अच्छी रहती है?

सबसे अच्छी कंपनी की आटा पीसने की चक्की होती है nutraj, haystar, sansar

घरेलू आटा चक्की सबसे अच्छी कौन सी है?

घरेलू उपयोग के लिए सबसे अच्छा आटा चक्की है MICROACTIVE® Classic Fully Automatic आटा चक्की, MICROACTIVE Fortune 2 in 1 Fully Automatic आटा चक्की, Ajanta Table Top आटा चक्की, Natraj Viva Domestic आटा चक्की, Haystar Domestic आटा चक्की, STC Swaroop Kite आटा चक्की

आटा चक्की कितने प्रकार के होते हैं?

आटा चक्की दो प्रकार का होता है बेसिक मील और फ्लोर मील

सोलर चक्की लगाने में कितना खर्च आता है?

सोलर आटा चक्की लगाने में खर्च 1.80 से 9 lakh तक होता है

अन्य पढ़े :

जानिए घर बैठे कैसे करें ऑनलाइन बिजनेस

घर बैठे महिलाएं कैसे करें पैकिंग का काम

घर बैठे टाइपिंग की जॉब कैसे करें?

Add a Comment

Your email address will not be published.

error: