एडवरटाइजिंग एजेंसी बिजनेस कैसे शुरू करें Advertising Agency Business Plan in Hindi

विज्ञापन या ऐड एजेंसी एजेंसी बिजनेस आइडिया, जाने इस व्यापार के बारे में, पैसे कमाने का एक बेहतरीन विकल्प – आधुनिक युग के साथ साथ विज्ञापन के युग का भी प्रचलन दिन पर दिन अपनी चरम सीमा पर है| हिंदी में एक कहावत है कि “जो दिखता है वो ही बिकता है” कोई भी सफल व्यापारी इस कहावत पर जरूर अमल करता है जिसका कारण है वह अपने व्यापार को सिर्फ कुछ ही दायरे तक ही सीमित नहीं करना चाहता बल्कि अपने व्यापार को एक बड़े पैमाने पर ले जाना चाहता है| जिसके लिए उसे ऐड एजेंसी की जरूरत महसूस होती है| तो आज हम आपको इस लेख के माध्यम से विज्ञापन एजेंसी बिजनेस आइडिया से अवगत कराने जा रहे हैं पर सबसे पहले आपको समझना होगा कि ऐड एजेंसी क्या होती है :-

क्या होती है एडवरटाइजिंग एजेंसी?

एडवरटाइजिंग एजेंसी से तात्पर्य एक ऐसे व्यापार से है जिसका मुख्य उद्देश्य सेवायें प्रदान करना होता है, ग्राहक को विज्ञापनों को बनाकर देना व भविष्य में उस विज्ञापन को मार्किट में लम्बे समय तक कायम रखना होता है| आम भाषा में कहा जाये तो यह एजेंसी उत्पादों से संबंधित जानकारी घर घर तक पहुंचाने का काम करती है|

इसकी सहायता से उद्योगपतियों को अधिकतम लाभ होता है ऐड एजेंसी द्वारा जो भी विज्ञापन तैयार किया जाता है उसके लिए एजेंसी भारी रकम वसूलती है क्योंकि उत्पाद की लागत से ज्यादा व्यापारी विज्ञापन पर अधिक पैसा लगाते हैं

उदाहरण के लिए अगर उत्पाद की लागत दस रुपए आई है तो एडवरटाइजिंग पर 20 रुपए लगाये जाते हैं| तो आप इस उदाहरण से अंदाजा लगा सकते हो कि यह बिजनेस कितना किफायती है|

ऐसे करें एडवरटाइजिंग एजेंसी का बिजनेस शुरू

एडवरटाइजिंग एजेंसी शुरू करने के लिए सबसे पहले कुछ औपचारिक काम पूर्ण करें जैसे जीएसटी नंबर को पंजीकृत कराना, सॉफ्ट ऐक्ट के अंतर्गत रेजिस्ट्रेशन आदि करवा लें व आप ने जहां भी अपनी एजेंसी का दफ्तर खोला है कोशिश करें वह बाज़ार के बीच में हो| एडवरटाइजिंग एजेंसी की शुरुआत में ज्यादा पैसों का निवेश ना करें|

एडवरटाइजिंग एजेंसी में ऐसे होता है काम

एडवरटाइजिंग एजेंसी के क्षेत्र में उन लोगों की अधिकतर मांग रहती है जो कल्पनाशील और काफी रचनात्मक कार्य करने में रूचि रखते हैं| एडवरटाइजिंग एजेंसी मुख्य तर दो तरीके से काम करता है एक है कॉपी राइटर और दूसरा है डायरेक्टर| कॉपी राइटर का विशेषकर काम होता है

ऐड से संबंधित लिखित सामग्री को तैयार करना जैसे विज्ञापन से जुड़ी पंच लाइने बनाना | इन पांच लाइनों में दिखाए जाने वाले दृश्यों के बीच समांजस्य का होना अनिवार्य होता है| डायरेक्टर उस विज्ञापन में कई बदलाव कर के उसे अधिक प्रभाव शाली बनाता है जिससे उनके द्वारा बनाये गए विज्ञापन का प्रभाव ज्यादा से ज्यादा लोगों पर पड़ सके|

एडवरटाइजिंग एजेंसी किस के लिए करती हैं काम?

एडवरटाइजिंग एजेंसी उन सब जरूरत मंद उद्योगपतियों को सेवा प्रदान करती हैं जिन्हों ने प्रिंट मीडिया और इलेक्ट्रानिक मीडिया के लिए विज्ञापन बनवाना होता है| प्रिंट मीडिया के अंतर्गत अखबार, पत्रिका आदि शामिल होती हैं व इलेक्ट्रानिक मीडिया में टेलीविज़न में दिखाये जाने वाले विज्ञापन आते हैं|

एडवरटाइजिंग एजेंसी के लिए ऐसे लोगों का करें चुनाव

एडवरटाइजिंग एजेंसी एक ऐसा कार्य है जिसमें पूर्ण रूप से रचनात्मक कार्य का समावेश किया जाता है साथ ही इस कार्य में अन्य लोगों की भी सहायता की जरूरत होती है जिसके लिए एक बेहतरीन टीम का गठन करें जिनमें ऐसे लोगों का चुनाव जरूरी है :-

1) कौशल व्यक्ति :- कोई भी एडवरटाइजिंग एजेंसी इस इंसान के बिना अपनी एजेंसी नहीं चला सकती| इस व्यक्ति की कल्पना शक्ति और क्रिएटिव काम ही एजेंसी को आगे बढ़ाने में सहायक होता है| यह अपने कार्य में इतना सक्षम होना चाहिए कि अपनी कल्पना को ही पर्दे पर उतार सके|

2) अकाउंट कार्यकारी :- एजेंसी से जुड़े पैसे के काम काजों को भी देखना जरूरी है जिससे विज्ञापन एजेंसी के व्यवसाय में लाभ हानियों का पता लगाया जा सके|

3) शोधकर्ता :- एडवरटाइजिंग एजेंसी में एक शोधकर्ता का भी होना जरूरी है जो मार्किट की गतिविधियों पर नजर रख सके और अगर अपनी एजेंसी में किसी प्रकार के बदलाव की जरूरत है तो अन्य कार्यकारियों को बताये | अपनी रिसर्च के मुताबिक यह ग्राहकों को इस चीज की जानकारी देता है कि उनके उत्पाद के लिए किस तरह का विज्ञापन ठीक है और उन्हें किस तरह से अधिक मुनाफा हो सकता है|

4) कंप्यूटर विशेषज्ञ :- इस ख़ास व्यक्ति से तात्पर्य उस इंसान से है जिसको कंप्यूटर और इंटरनेट से जुड़ी सभी जानकारियां हों| जिससे वह विज्ञापन को अन्य किसी एजेंसी द्वारा बनाये गए विज्ञापन की अपेक्षा बेहतरीन रूप दे सके| उसे ज्ञान होना चाहिए की अपने विज्ञापन को लक्षित वर्ग तक पहुंचाने के लिए मीडिया का कौन सा माध्यम उचित होगा|
इन सब लोगों का एक ऐड एजेंसी में होना जरूरी है पर आप अपनी जरूरत के अनुसार अन्य लोगों को भी चुन सकते हैं|

अपनी एडवरटाइजिंग एजेंसी के बिजनेस को सफल बनाने के लिए ये करें

1) वेबसाइट :- अपनी एडवरटाइजिंग एजेंसी से संबंधित एक वेबसाइट जरूर बनाएं क्योंकि आजकल अधिकतर लोग विज्ञापन बनवाने के लिए इंटरनेट का ही सहारा लेते हैं उस वेबसाइट में आप अपनी एजेंसी से जुड़ी जानकारियां प्रदान करें और कुछ विज्ञापनों की तस्वीरें या विडियो भी जरूर डालें|

2) मजबूत सम्पर्क :- आपको अपनी एडवरटाइजिंग एजेंसी की मार्केटिंग के लिए शुरुआत में स्थानीय व्यापारियों और कंपनियों से सम्पर्क करना पड़ेगा| उनके उत्पाद से संबंधित अच्छे विज्ञापन के नमूने बनाकर उनके पास ले जाएं जिससे वह आपके विज्ञापन से प्रभावित हो सके| इसके अलावा आप स्थानीय शोरुम, अस्पतालों, स्कूल, महाविद्यालय, दुकानों आदि से भी सम्पर्क करें और उन्हें अपनी एजेंसी की गुणवत्ता से अवगत करवायें जिससे वह आपकी एजेंसी को ऐड देने के लिए प्रेरित हो सके|

3) प्रचार :- आरंभ में आपको ग्राहकों के विज्ञापन तैयार करने से पूर्व अपनी एजेंसी से संबंधित विज्ञापन बनाना होगा तथा वह विज्ञापन प्रिंट और इलेक्ट्रानिक मीडिया दोनों के अनुरूप होना चाहिये| प्रचार के लिए मीडिया के माध्यम जैसे रेडियों, टी वी, अखबार आदि की सहायता भी ली जा सकती है|

एडवरटाइजिंग एजेंसी का बिजनेस के शुरुआत में ऐसा करने से आपको लोग जानने लगेंगे और भविष्य में आपको उनके पास नहीं जाना होगा बल्कि वह अपनी ऐड बनवाने के लिए आपकी एजेंसी के साथ सम्पर्क करना चाहेंगे|

एडवरटाइजिंग एजेंसी के बिजनेस में शुरुआती लागत

यह एक ऐसा व्यापार है जिसके चलने पर पैसों की बरसात होने लगती है और व्यक्ति को नेम और फेम दोनों आसानी से मिल जाता है पर इलेक्ट्रानिक विज्ञापन की शुरुआत में निवेश करने के लिए कम से कम आठ से दस लाख तक की जरूरत पड़ती है और वहीं प्रिंट मीडिया के विज्ञापन बनाने के लिए दो से तीन लाख रुपए की जरूरत होगी| पर आप बिजनेस शुरू करते वक्त इस रकम से थोड़े कम पैसे भी लगा सकते हैं जानिये कैसे ?

1) प्रयोग करें किराए के उपकरण :- इस बिजनेस में अनेक यंत्रों का प्रयोग किया जाता है जैसे कैमरा, ऑडियो विडियो सिस्टम, माइक, कम्प्यूटर आदि इन चीजों पर आप अपनी जमा कुंजी का ज्यादा पैसा व्यर्थ ना करें बल्कि आप ऐड बनाने के लिए किराए के उपकरणों के इस्तेमाल से विज्ञापन बनाना शुरू करें|

ऐसा करने से आपके ज्यादा पैसे भी नहीं लगेंगे और अगर आपका ऐड एजेंसी का बिजनेस किसी कारण से बंद भी होता है तो किराए पर लाये उपकरणों को वापिस भी किया जा सकता है व जैसे जैसे आप किराए के उपकरणों से कुछ आमदनी एकत्रित करना शुरू कर देंगे, उसके बाद आप अपने निजी उपकरण भी खरीद सकते हैं|

2) कर्मचारियों को करें हायर :- आरंभ में विज्ञापन बनाने के लिए जिस टीम का गठन किया जा रहा है जैसे मेक अप मैन, कैमरा मैन, ऐडिटर आदि इन लोगों को डेली बेस पर हायर करना शुरू करें| जिससे सिर्फ आप जरूरत के हिसाब से ही इनको प्रयोग में ला सकें पर जब आपका बिजनेस अच्छे से चलना शुरू हो जाये इन लोगों को पक्के मुलाजिम के रूप में अपनी एजेंसी का मुख्य हिस्सा बना लें|

एडवरटाइजिंग एजेंसी का बिजनेस शुरू करने के लिए कितनी जगह की होगी जरूरत

एडवरटाइजिंग एजेंसी एक ऐसा व्यवसाय है जिसका अधिकतम काम कार्यालय के अंदर ही होना सम्भव है जिसके कारण आपको अधिक जगह की जरूरत होगी क्योंकि इसके लिए कई प्रकार की मशीनों की जरूरत पड़ती है व टीम के सब लोगों को अलग अलग कमरे की भी आवश्यकता होती है

क्योंकि ऐड बनाना एक रचनात्मक कार्य है और हर काम बड़ी ही बारीकी से किया जाता है जैसे मेकअप के लिए अलग कमरा व फोटो शूट के लिए अलग और ऐडिटिंग विभाग के लिए अलग कमरा और वहीं कुछ स्थान ग्राहकों के लिए भी छोड़ना पड़ता है|

एडवरटाइजिंग एजेंसी बिजनेस के लिए सबसे आवश्यक है सहनशीलता का होना क्योंकि आज अधिकतर लोग ऐड एजेंसी का व्यापार कर रहे हैं जिसके कारण आपकी एजेंसी को चलने में थोड़ा समय जरूर लग सकता है पर आप अपने काम को सस्ती और अच्छी गुणवत्ता के साथ रेगुलर रखें जिससे आपका व्यापार भी थोड़े वक्त बाद अच्छे मुकाम पर पहुंच जायेगा|

आशा करता हूँ की हमारी एडवरटाइजिंग एजेंसी का बिजनेस कैसे शुरू करे इसकी आर्टिकल आप लोगो को पसंद आयी होगी अधिक जानकारी के लिए हमसे कमेंट बॉक्स में जरूर संपर्क करे धन्यवाद

3 Comments

Leave a Reply to navin kumar Cancel reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: